दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट का बड़ा खुलासा : चीनी लोन ऐप से लोन लेने वालों से करोड़ों ठगने वाले गिरोह का भंडाफोड़

Font Size

8 गिरफ्तार, ठगी करने वालों के 25 अकाउंट सील 

चीन में बैठे हैं ठगने वालों के सरगना

बेहद कम राशि के बदले में ये लोग कई गुना रुपये वसूलते थे  

लोन लेने वालों को अश्लील फोटो बना कर बदनाम करने की धमकी देते थे

16 डेबिट कार्ड, 22 चेक बुक और 26 पासपोर्ट भी सीज

नई दिल्ली :  गुरुग्राम पुलिस के बाद अब दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट आईएफएसओ ने चीनी लोन ऐप के माध्यम से भारतीय लोगों को ठगने वाले गैंग का चौकाने वाला खुलासा किया है. ये लोग लोन लेने वालों को बदनाम करने की धमकी देते थे. दिल्ली पुलिस ने इस गिरोह के 8 सदस्यों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किये गये सभी भारतीय हैं जो चीनी गैंग के लिए काम करते हैं.

बताया जाता है कि पुलिस को इस गैंग के चीनी मास्टरमाइंड का भी पता चला है, जो चीन से ही इन्हें संचालित करते थे . दिल्ली पुलिस का कहना है कि चीनी गैंग के लिए काम करने वाले ये लोग क्रिप्टो करेंसी के जरिये अपने चीनी आका को रकम पहुंचाते थे.

पुलिस का कहना है कि ये लोग चीनी ऐप के माध्यम से लोन देते हैं. लोन की राशि छोटी होती है. हैरत की बात यह है कि बेहद कम राशि के बदले में ये लोग कई गुना रुपये वसूलते हैं . जो लोग लोन नहीं चुका पाते या फिर लोन से ज्यादा पैसा देने से मना करते हैं, तो उनके फोटो को मॉर्फ कर अश्लील फोटो बनाते हैं.  ये लोग लोन लेने वालों के रिश्तेदारों को भी फोन कर परेशान करते हैं . पुलिस ने आशंका व्यक्त की है कि कई भारतीय नागरिकों के पर्सनल डाटा चीन तक पहुंच चुके हैं.  यह सब इन चीनी लोन एप के माध्यम से हुआ है.

 

आईएफएसओ के डीसीपी केपीएस मल्होत्रा का कहना है कि चीन, हांगकांग और दुबई से ऑपरेट करने वाले एक इंटरनेशनल गैंग के भारतीय सरगना समेत 8 मेंबर्स को देश के विभिन्न हिस्सों से गिरफ्तार किया गया है. इस गैंग ने कई करोड़ की रकम धोखाधड़ी और एक्सटॉर्शन के माध्यम से भारतीय लोगों से वसूले. फिर क्रिप्टोकरेंसी के जरिए चाइनीज लोगों के अकाउंट में रकम पहुंचाई. इस गैंग के मास्टरमाइंड चाइना में बैठे हैं.

पुलिस के अनुसार जांच में पता चला कि ये गैंग लोन एप के जरिये लोगों के मोबाइल फोन में मैलवेयर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर देते थे. जिससे उनका पर्सनल डाटा एक्सेस कर लिया जाता. फिर लोन की रकम वापस मांगने के नाम पर लोगों को तंग किया जाता. उनकी मॉर्फ्ड फोटो के जरिए उगाही की जाती. उनके रिश्तेदारों को फोन करके परेशान किया जाता.

 

दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट का बड़ा खुलासा : चीनी लोन ऐप से लोन लेने वालों से करोड़ों ठगने वाले गिरोह का भंडाफोड़ 2

पुलिस ने इस गिरोह के 25 से ज्यादा बैंक एकाउंट फ्रीज़ भी कराए हैं. पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों से 16 डेबिट कार्ड, 22 चेक बुक और 26 पासपोर्ट भी सीज किये हैं. जो एकाउंट सीज किए गए हैं, उनमें 11 लाख रुपये मिले हैं. 4 लाख रुपये आरोपियों के कब्जे बरामद किए गए हैं. ठगी की रकम से एर्टिगा, इनोवा और फॉरचुनर कार भी खरीदी गई.

पुलिस का कहना है कि इस गिरोह के सीधे कनेक्शन चीन से हैं. ये गिरोह बेहद ऑर्गेनाइज्ड तरीके से लोगों से पैसा उगाही करता था. चीन में बैठे गिरोह के सरगना तक पैसा क्रिप्टोकरेंसी में पहुंचाया जाता था. पुलिस ने तीन चाइनीज नागरिकों का भी पता लगाया है, जो इस गिरोह से जुड़े हुए हैं. धोखाधड़ी और उगाही से वसूली गई रकम को चीन, हांगकांग और दुबई में इन तीनों चाइनीज नेशनल के अकॉउंट में क्रिप्टो करेंसी के जरिये पहुंचाया जाता था.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक ये स्कैम कई करोड़ रुपये का है. अब तक इनके एक एकाउंट से 8.25 करोड़ रुपये का पता चला है. साथ ही इस गिरोह के 25 और अककाउंट की जानकारी भी पुलिस को मिली है.

 

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: