उर्जा संरक्षण व दक्षता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से गुरुग्राम विवि और ईईएसएल के बीच समझौता

Font Size

गुरुग्राम, 13 जनवरी। गुरुग्राम विश्वविद्यालय में आज उर्जा संरक्षण तथा दक्षता को लेकर एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) नई दिल्ली के बीच एमओयू साइन किया गया। कुलपति प्रो दिनेश कुमार की उपस्थिति में हुए इस अनुबंध पर गुरुग्राम विश्वविद्यालय की ओर से कुलसचिव शशि भूषण भारती एवं ईईएसएल की ओर से हरियाणा के राज्य प्रमुख तोष अग्रवाल ने हस्ताक्षर किए।

कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने अनुबंध के उद्देश्यों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि अनुबंध के तहत ऊर्जा दक्षता के क्षेत्र में आपसी सहयोग से व्यापक रूप से कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दोनों संस्थानों के सहयोगात्मक प्रयासों के माध्यम से ऊर्जा संरक्षण और अनुसंधान को बढ़ावा देने के उद्देश्य से नई साझेदारी को विकसित करने और पोषित करने की आवश्यकता है। एमओयू के तहत गुरुग्राम विश्वविद्यालय में ऊर्जा दक्षता और संरक्षण के उपायों के अवसरों का पता लगाया जाएगा और इसके कार्यान्वयन के लिए दोनों संस्थान मिलकर कार्य करेंगे।

कुलपति ने बताया कि दोनों संस्थानों के मध्य हुआ यह अनुबंध विवि में इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग, स्प्लिट एयर कंडीशनर, सौर रूफटॉप, ऊर्जा कुशल मोटर्स, ऊर्जा कुशल पंप, इनडोर लाइटिंग और सौर स्ट्रीट लाइट्स सहित आउटडोर प्रकाश जैसी परियोजनाएं, फैकल्टी के साथ-साथ विद्यार्थियों के लिए शैक्षिक और अनुसंधान के क्षेत्र में आपसी सहयोग के आदान-प्रदान और बढ़ावा देने में मददगार साबित होगा। उन्होंने आगे कहा कि आज भारत ऐसी स्थिति में आ गया हैं कि हम ऊर्जा के अधिकाधिक उत्पादन के लिए, ऊर्जा के संरक्षण के क्षेत्र में, उसके नवीनीकरण एवं बचाव के लिए कदम उठाए।


कुलपति ने सौर ऊर्जा के लाभों का जिक्र करते हुए कहा कि सौर ऊर्जा एक नवीकरणीय ऊर्जा संसाधन हैं। भारत जैसे देशों में जहाँ ऊर्जा का उत्पादन महँगा पड़ता हैं, तो वहाँ ये संसाधन इसका बेहतरीन विकल्प हैं साथ ही साथ सौर ऊर्जा उपकरण किसी भी स्थान पर स्थापित किया जा सकता हैं।


इस अवसर पर डॉ अमन वशिष्ठ, डॉ सुमन वशिष्ठ, प्रो राकेश कुमार योगी, डॉ शुभम गांधी, डॉ तरुण, पृथु गर्ग, कपिल बंसल मौजूद रहे।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: