जस्टिस सिस्टम ऐसा होना चाहिए जहां हर व्यक्ति के लिए समय से न्याय की गारंटी हो : नरेंद्र मोदी

15 / 100
Font Size

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गुजरात उच्च न्यायालय के डायमंड जुबली कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा जस्टिस सिस्टम ऐसा होना चाहिए, जो समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के लिए भी सुलभ हो, जहां हर व्यक्ति के लिए न्याय की गारंटी हो और समय से न्याय की गारंटी हो। सरकार भी इस दिशा में निरंतर प्रयास कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात हाईकोर्ट ने सत्य और न्याय के लिए जिस कर्तव्य और निष्ठा से काम किया है, अपने संवैधानिक कर्तव्यों के लिए जो तत्परता दिखाई है उसने भारतीय न्याय व्यवस्था और भारत के लोकतंत्र दोनों को ही मजबूत किया है। उन्होंने कहा कि हमारे संविधान में कार्यपालिका, विधायिका और न्यायपालिका को दी गई जिम्मेदारी, हमारे संविधान के लिए प्राणवायु की तरह है। हमारी न्यायपालिका ने संविधान की प्राणवायु की सुरक्षा का दायित्व पूरी दृढ़ता से निभाया है।

पीएम ने बल देते हुये कहा कि भारतीय समाज में रूल ऑफ लॉ, सदियों से सभ्यता और सामाजिक ताने-बाने का आधार रहा है। हमारे प्राचीन ग्रंथों में कहा गया है- न्यायमूलं सुराज्यं स्यात्। यानी, सुराज्य की जड़ ही न्याय में है। न्यायपालिका के प्रति भरोसे ने सामान्य नागरिक को सच्चाई के लिए खड़े होने की ताकत दी है। आजादी से अब तक देश की यात्रा में हम न्यायपालिका के योगदान की चर्चा करते हैं, तो बार के योगदान की भी चर्चा करते हैं।

उनका कहना था कि न्याय के जो आदर्श भारतीय संस्कारों का जो हिस्सा रहे हैं, वो न्याय हर भारतीय का अधिकार है। इसलिए न्यायपालिका और सरकार दोनों का ही दायित्व है कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में मिलकर वर्ल्ड क्लास जस्टिस सिस्टम खड़ा करे।

उन्होंने न्यायिक प्रक्रिया के आधुनिकीकरण की बात करते हूए कहा कि डिजिटल इंडिया मिशन आज बहुत तेजी से हमारे जस्टिस सिस्टम को आधुनिक बना रहा है। आज देश में 18000 से ज्यादा कोर्ट कम्प्यूटराइज्ड हो चुके हैं। सभी अदालतों में ई-प्रोसिडिंग में भी तेजी आई है।

उन्होनें कोरोना काल की चर्चा करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के समय अगर एक ओर देश ने अपना सामर्थ्य दिखाया, तो दूसरी ओर न्याय पालिका ने भी अपने समर्पण और कर्तव्यनिष्ठा का उदाहरण पेश किया है।#GujaratHighCourt के डायमंड जुबली की आप सभी को बधाई। पिछले 60 वर्षों में अपनी कानूनी समझ, अपनी विद्वत्ता और बौद्धिकता से गुजरात हाईकोर्ट और बार ने एक विशिष्ट पहचान बनाई है.

पीएम ने कहा कि ये सुनकर सभी को गौरव बढ़ता है कि हमारा सुप्रीम कोर्ट खुद भी आज दुनिया में वीडियो कांफ्रेंस के द्वारा सबसे ज्यादा सुनवाई करने वाला सुप्रीम कोर्ट बन गया है। केसेस की ई-फाइलिंग ने भी ईज ऑफ जस्टिस को एक नया आयाम दिया है.आज हमारी अदालतों में हर केस के लिए एक यूनिक आईडेंटिफिकेशन कोड और क्यूआर कोड दिया जाता है। इससे न केवल केस से जुड़ी हर जानकारी हासिल करने में आसानी हुई है बल्कि इसने नेशनल ज्यूडिशियल डेटा ग्रिड की भी एक प्रकार से मजबूत नींव रखी है.

उनका कहना था कि ये ईज ऑफ जस्टिस न केवल हमारे नागरिकों के ईज ऑफ लिविंग को बढ़ा रहा है बल्कि इससे देश में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस भी बढ़ा है। इससे विदेशी निवेशकों में ये भरोसा जगा है कि भारत में उनके न्यायिक अधिकार सुरक्षित रहेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page