‘सिंगल गर्ल चाइल्ड’ के लिए वाईएमसीए यूनिवर्सिटी, फरीदाबाद में एक सीट रिज़र्व

Font Size

चंडीगढ़/फरीदाबाद  :  जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने अनोखी पहल करते हुए नये शैक्षणिक सत्र से विभिन्न पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए एक सीट ऐसी छात्राओं के लिए रखने का निर्णय लिया है, जोकि परिवार में अकेली लडक़ी (सिंगल गर्ल चाइल्ड) हो। यह सीट पाठ्यक्रमों के लिए स्वीकृत सीटों की संख्या के अतिरिक्त होगी जोकि सिंगल गर्ल चाइल्ड के लिए अलग से सृजित की गई है।

 

अतिरिक्त सीट का प्रावधान 

इस संबंध में कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ कार्यक्रम अंतर्गत अनेक कदम उठा रही है। इसी दिशा में कार्यक्रम से जुड़ते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने नये शैक्षणिक सत्र में एक सीट ‘सिंगल गर्ल चाइल्ड’ के लिए रखने का निर्णय लिया है। इस पहल का उद्देश्य उच्चतर शिक्षा में छात्राओं की भागीदारी को प्रोत्साहित करना है। उन्होंने बताया कि ‘सिंगल गर्ल चाइल्ड’ के लिए अतिरिक्त सीट का प्रावधान बीटेक, एमटेक, एमबीए व एमसीए पाठ्यक्रमों को छोडक़र यूजीसी द्वारा स्वीकृत सभी पाठ्यक्रमों में रहेगा और दाखिला मेरिट के आधार पर किया जायेगा।

 

प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट द्वारा सत्यापित शपथ पत्र जरूरी 

‘सिंगल गर्ल चाइल्ड’ की सीट पर दावे के लिए अभ्यार्थी के अभिभावक को प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट द्वारा सत्यापित शपथ पत्र में प्रस्तुत कर घोषित करना होगा कि सीट पर दावा कर रही अभ्यार्थी उनके परिवार में एकमात्र लडक़ी है और उसका कोई भी अन्य भाई-बहन नहीं है। यह सीट केवल हरियाणा के अधिवासी विद्यार्थियों को ही दी जायेगी। इस सीट पर कोई भी दावा न होने पर सीट को रिक्त रहेगी और इससे किसी अन्य श्रेणी से नहीं भरा जायेगा। सीट पर एक से अधिक दावे मिलने पर सीट पर दाखिला प्रवेश परीक्षा अथवा योग्यता परीक्षा में प्राप्त अंकों की मेरिट के आधार किया जायेगा।

विश्वविद्यालय में सीटों की कुल संख्या बढक़र 1657 

कुलपति ने बताया कि विगत चार वर्षों के दौरान विश्वविद्यालय द्वारा यूजी व पीजी स्तर पर 15 नये पाठ्यक्रम शुरू किये गये है। वर्ष 2015 में विश्वविद्यालय के सभी पाठ्यक्रमों में सीटों की संख्या 756 थी जो मौजूदा शैक्षणिक सत्र में बढक़र 1657 तक पहुंच गई है। इसी प्रकार, विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों की संख्या भी 2589 से बढक़र लगभग पांच हजार तक पहुंच गई है।

आगामी सत्र से चार नये पाठ्यक्रम, आवेदन की अंतिम तिथि 10 जून

डीन अकादमिक डॉ. विक्रम सिंह ने बताया कि नये शिक्षण सत्र से विश्वविद्यालय द्वारा चार नये पाठ्यक्रम शुरू किये जा रहे है। इनमें 40 सीटों के साथ बीए (जर्नलिज्म व मॉस कम्युनिकेशन), 35 सीटों के साथ एमए (इंग्लिश), 60 सीटों के साथ बी.टेक (इलेक्ट्रिॉनिक्स एवं कम्प्यूटर इंजीनियरिंग) और 18 सीटों के साथ एमटेक (पावर इलेक्ट्रिॉनिक्स एवं ड्राइवस) शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जुलाई में शुरू होने वाले आगामी शैक्षणिक सत्र के लिए यूजी व पीजी के विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये है। एमटेक को छोडक़र सभी पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 10 जून है जबकि एमटेक के लिए 30 जून, 2019 तक ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है।

विश्वविद्यालय द्वारा शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए एमटेक के सभी पाठ्यक्रमों, फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथ तथा एनवायरमेंट साइंस में एमएससी, एमबीए, एमसीए, एमसीए (लेटरल एंट्री), फिजिक्स, कैमिस्ट्री व मैथ में बीएससी ऑनर्स, एनिमेशन तथा मल्टीमीडिया में बीएससी, बीए (जर्नलिज्म व मॉस कम्युनिकेशन), एम.ए. (जर्नलिज्म व मॉस कम्युनिकेशन) तथा एमए (इंग्लिश) पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये है। उल्लेखनीय है कि विश्वविद्यालय में बीटेक व बीटेक (लेटरल एंट्री) के सभी पाठ्यक्रमों के लिए दाखिला हरियाणा राज्य तकनीकी शिक्षा सोसायटी द्वारा जेईई परीक्षा तथा योग्यता परीक्षा में उत्तीर्ण अंकों के आधार पर किया जायेगा।
विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए योग्यता मानदंड, सीटों की संख्या व प्रवेश परीक्षा का कार्यक्रम इत्यादि की जानकारी दाखिला विवरणिका में दी गई है, जिसे विश्वविद्यालय की वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.वाईएमसीएयूएसटी.एसी.इन ( www.ymcaust.ac.in) पर देखा जा सकता है और डाउनलोड किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: