जिला की सड़कों को 31 दिसंबर तक बेसहारा गौवंश से मुक्त करवाने का चलेगा अभियान

9 / 100
Font Size

गुरुग्राम, 24 नवंबर। जिला की सड़कों को 31 दिसंबर तक बेसहारा गौवंश से मुक्त करवाने को लेकर आज लघु सचिवालय में हरियाणा गौ सेवा आयोग के चेयरमैन श्रवण कुमार गर्ग की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया। उन्होंने बैठक में बेसहारा गायों को पकड़ने के दौरान व्यवधान उत्पन्न करने वालों के खिलाफ सख्ती से कार्यवाही करने के भी निर्देश दिए।


बैठक की अध्यक्षता करते हुए चेयरमैन ने कहा कि जिला की बेसहारा गाय सड़कों पर न घूमें इसके लिए जरूरी है कि उन्हें पकड़ने के लिए विशेष अभियान चलाया जाए और उन्हें जिला की गउशालाओं में पहुंचाया जाए। उन्होंने गुरूग्राम जिला प्रशासन से कहा कि वे बेसहारा गायों को पकड़ने के लिए सर्वे करवाकर टीमों का गठन करें और विशेष अभियान चलाएं। बैठक में बताया गया कि जिला में पंजीकृत व गैर पंजीकृत मिलाकर कुल 23 गउशालाएं हैं।


बैठक में उपस्थित नगर निगम के संयुक्त आयुक्त हरि ओम अत्री ने बताया कि पिछले तीन महीनों के दौरान जिला में सड़कों से लगभग 471 गायों को पकड़कर गउशालाओं में पहुंचाया गया है। श्री अत्री ने बताया कि सड़कों पर मिलने वाले बेसहारा गौवंश को क्षेत्रवार टीमें लगाकर गउशालाओं मे पहुंचाया जाएगा। अतिरिक्त उपायुक्त प्रशांत पवार ने भी चेयरमैन को आश्वास्त किया कि दिए गए दायित्व को निर्धारित अवधि में पूरा किया जाएगा।


चेयरमैन ने गउशालाओं की छतो पर सौर उर्जा प्लांट लगाने की भी बात कही। इसके लिए गउशालाओं मे पर्याप्त स्थान उपलब्ध है, जिससे बिजली का उत्पादन पर्याप्त मात्रा में हो सकता है। ऐसा करने से गउशालाओं को भी आमदनी होगी और बिजली की पूर्ति होगी। इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए अतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि गउशालाओं में रूफटाॅप सौलर प्लांट लगाने को लेकर आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने आश्वस्त किया कि इस बारे में योजना तैयार कर कार्यवाही की जाएगी। इसके अलावा, श्री गर्ग ने जिला की गउशालाओं में बायो गैस प्लांट लगाने पर भी बल दिया और बताया कि प्रत्येक जिला की एक गउशाला में हरियाणा गौ सेवा आयोग बायो गैस प्लांट लगाएगा। श्री पंवार ने चेयरमैन को बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत भी जिला में एक बायो गैस प्लांट शुरू होने जा रहा है। आगामी एक-दो महीने में ये प्लांट कार्य करना शुरू कर देगा।


बैठक में पशुपालन विभाग से डा. रामफल ने बताया कि जिला में कृत्रिम गर्भाधान केन्द्र में उत्तम ब्रीड की बछड़ी का प्रजनन करवाने की तकनीक उपलब्ध है। गउशालाओं को इस बारे में जानकारी देने के लिए उनके साथ नियमित बैठकें भी की जा रही हैं ताकि वे इस तकनीक का प्रयोग कर अपनी गउशालाओं की आमदनी बढ़ा सकें। चेयरमैन श्री गर्ग ने कहा कि इस तकनीक को लेकर गउशालाओं को अधिक से अधिक जागरूक करें और उन्हें इसके फायदों के बारे में बताएं ।


बेसहारा गौवंश को पकड़ने में आ रही दिक्कतों के बारे मे चेयरमैन ने संबंधित उच्च अधिकारियों से कहा कि वे बेसहारा गायों को पकड़ते समय व्यवधान उत्पन्न करने वाले लोगों से सख्ती से निपटे। इसे लेकर पुलिस अधिकारियों का सहयोग लें और उन पर कानूनी कार्यवाही करवाएं। उन्होंने बताया कि हरियाणा गौ सेवा आयोग द्वारा ऐसे मामलों के लिए टास्क फोर्स का गठन किया जाएगा और इस कार्य में अड़चन डालने वाले लोगों से सख्ती से पेश आया जाएगा।


श्री गर्ग ने कहा कि जिला की गौशालाओं में गोबर आदि से खाद बनाने का कार्य गउशालाओं के साथ साथ अन्य लोगों के लिए फायदेमंद सिद्ध हो सकता है। इसके साथ ही इसका उपयोग अन्य सामान बनाने के लिए भी किया जा सकता है। अतिरिक्त उपायुक्त ने बताया कि जिला में स्वयंसहायता समूहों को खाद बनाने का प्रशिक्षण दिलवाने के लिए रूडसैट संस्थान तथा अग्रणी जिला प्रबंधक से संपर्क किया जाएगा।
इस अवसर पर हरियाणा गौ सेवा आयोग के चेयरमैन श्रवण कुमार गर्ग के साथ आयोग के सचिव डा. कल्याण सिंह, सदस्य पूर्णमल यादव, सदस्य राजेश धनखड़, गौशाला सेवा संघ के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश मलिक उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: