जी डी गोयनका विश्वविद्यालय में 23 प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रशंसा पत्र

Font Size

शिक्षा देना जीवन की सबसे बड़ी सेवा :  राज्यपाल

दीक्षांत समारोह में 381 विद्यार्थियों को अंडर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री व पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा दिए गए 

 
गुरुग्राम, 23 दिसंबर। हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि किसी को शिक्षा देना जीवन की सबसे बड़ी सेवा है। शिक्षा ज्ञान देने के साथ साथ युवाओं में अच्छे संस्कार पैदा करती है व उनका चरित्र निर्माण करती है। 
 
वे आज गुरुग्राम के जी डी गोयनका विश्वविद्यालय में तीसरे दीक्षांत समारोह के दौरान बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। आज आयोजित इस दीक्षांत समारोह में 381 सफल विद्यार्थियों को अंडर ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट  डिग्री एवं व पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा दिए गए। इसके अलावा, 23 प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को राज्यपाल ने अकादमिक उत्कृष्टता के लिए प्रशंसा पत्र व मैडल प्रदान किए गए। 
 
श्री सोलंकी ने इस अवसर पर कहा कि दीक्षांत समारोह का दिन विद्यार्थियों के साथ साथ विश्वविद्यालय के लिए भी महत्वपूर्ण दिन होता है, क्योंकि इस दिन विश्वविद्यालय को भी अपनी उन्नति का पता चलता है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय विद्यार्थियों में ज्ञान व कौशल के साथ साथ उनमें संस्कारों को भी पैदा करता है। विद्यार्थियों को यह पता होना चाहिए कि उनका जीवन में संकल्प क्या है। उन्होनें कहा कि विश्वविद्यालय में ज्ञान व कौशल के साथ साथ पर्सनेल्टी डैव्लपमेंट व चरित्र निर्माण के लिए भी प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने समारोह में ‘सर्वे भवन्तु सुखिन:, सर्वे संतु निरामया, सर्वे भद्राणी पश्यन्ति  मां कश्चिद् दुख:भाग भवेत’ का उच्चारण किया व कहा कि यह श्लोक हमारी भारतीय संस्कृति का परिचायक है। 
 
उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में केवल भारतीय संस्कृति ऐसी है जो केवल मनुष्य ही नही बल्कि जीव-जंतुओं व पेड़-पौधों की प्रगति की कामना ईश्वर से करती है। उन्होंने कहा कि जीवन में सफलता व विजय प्राप्त करने के लिए धर्म का रास्ता चुनना अत्यंत आवश्यक है। यदि व्यक्ति धर्म को आधार मानकर जीवन व्यतीत करता है तभी विश्व उन्नति कर सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों को ‘असतो मा सदगमय ॥ तमसो मा ज्योतिर्गमय ॥ मृत्योर्मामृतम् गमय ॥’ श्लोक के बारे मे विस्तार से बताया और कहा कि इसका भावार्थ है कि हमे असत्य से सत्य की ओर ले चलो , अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो तथा मृत्यु से अमरता की ओर ले चलो। इस श्लोक में छिपा संदेश ही यही हमारी संस्कृति की पहचान है। उन्होंने कहा कि आज जो भी विद्यार्थी यहां से अपनी डिग्री लेकर जाएं वे एक बार मन में संकल्प लें कि वे अपने परिवारजनों व अध्यापकों की अपेक्षाओं को अवश्य पूरा करेंगे। 
 
उन्होंने विश्व सुंदरी का खिताब हासिल करने वाली हरियाणा की बेटी मानुषी छिल्लर का उदाहरण देते हुए कहा कि जब मानुषी छिल्लर से प्रतियोगिता के दौरान पूछा गया कि दुनिया में सबसे श्रेष्ठ प्रोफेशन कौन सा है और उसकी सैलेरी कितनी होनी चाहिए, तब मानुषी छिल्लर ने जवाब में ‘मां’ का नाम लिया। उनका कहना था कि विश्व में सर्वश्रेष्ठ प्रोफेशन ‘मां’ का है। इस दुनिया में सब कुछ मिल जाता है लेकिन मां नही मिल सकती और इसकी कोई सैलेरी नही होती बल्कि उसका सम्मान होता है। 
 
उन्होंने कहा कि जीवन में शिक्षा ही सबसे बड़ी सेवा है जिसके माध्यम से संस्कार व ज्ञान से ऐसी क्षमता विकसित की जा सकती है कि वह व्यक्ति को सही अर्थों में मानव बनाती है। शिक्षा सबसे बड़ी सेवा की श्रेणी में आती है। उन्होंने कहा कि प्राचीन काल में बड़े-बड़े राजा महाराजा पढ़ाई जंगलों मे जाकर शिक्षा प्राप्त करते थे। यह विश्वविद्यालय उसी दिशा में लगातार आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के बीच में आकर मुझे अपने घर जैसी सुखद अनुभूति होती है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि वे अपने माता-पिता के त्याग को समझते हुए उनकी उम्मीदों को अवश्य पूरा करें। उन्होंने इस अवसर पर विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य व उनकी सफलता की कामना की । 
 
दीक्षांत समारोह के विधिवत् शुभारंभ से पूर्व समारोह स्थल पर राष्ट्रीय गान किया गया व श्लोक उच्चारण के साथ भगवान को याद किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के उपकुलपति प्रो. डा. श्री हरि ने भी अपने विचार रखे। दीक्षांत समारोह में गुरुग्राम के उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, पुलिस आयुक्त संदीप खिरवार, सोहना के एसडीएम सतीश यादव सहित विश्वविद्यालय की चांसलर  रेणु गोयनका और प्रबंध निदेशक  निपुण गोयनका व अन्य शिक्षक-शिक्षिकाएं उपस्थित थी। 

Suvash Chandra Choudhary

Editor-in-Chief

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: