गुरुग्राम नगर निगम के एक एग्जिक्यूटिव इंजीनियर सहित 7 अधिकारियों के खिलाफ धोखाधड़ी व लाखों रूपये के गबन का मामला दर्ज

Font Size

चंडीगढ़/ गुरुग्राम।  हरियाणा के गृह, स्वास्थ्य एवं शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज के गुरुवार को नगर निगम, गुरुग्राम मुख्यालय पर मारे गए छापे का असर दिखने लगा है. निगम दफ्तर को पूरी तरह खंगालने के बाद उनके द्वारा दिए गए निर्देशों पर तेजी से अमल होने लगा। औचक निरीक्षण के दौरान शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज ने दो सहायक अभियंताओं को निलंबित करने के साथ-साथ एक एग्जिक्यूटिव इंजीनियर को रिलीव करने का आदेश दिया था जबकि एक बड़े घोटाले में कुछ अधिकारियों व कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज करने का निर्देश भी दिया था. विज द्वारा दिए गए आदेशों पर विभाग ने त्वरित कार्रवाई की और आज उन सभी आदेशों को अमलीजामा पहना दिया गया।

नगर निगम, गुरुग्राम में मंत्री अनिल विज के औचक निरीक्षण के बाद नगर निगम के अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है जिनमें एक जूनियर इंजीनियर , दो एग्जीक्यूटिव इंजीनियर , एक एसिस्टेंट इंजीनियर सहित 7 लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज है। जिन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है उनके विरुद्ध बड़े फर्जीवाड़े के आरोप लगाने की शिकायत प्राप्त हुई थी। प्राप्त हुई शिकायत पर मंत्री अनिल विज ने एफआईआर दर्ज करने की आदेश दिए थे। गुरुग्राम के सदर पुलिस स्टेशन में मुकदमा दर्ज हुआ है और धारा 120 बी , 409 ,420 , 465 , 467 , 468 , 471 व 511 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इधर, री-एंप्लॉयमेंट पर लगे एग्जीक्यूटिव इंजीनियर धर्मवीर सिंह को शहरी स्थानीय निकाय विभाग में तुरंत प्रभाव से रिलीव करने के आदेश जारी कर दिए हैं जिस पर नगर निगम गुरुग्राम के कमिश्नर मुकेश कुमार आहूजा ने भी उनकी सर्विसेस को डिस्पेंसड कर दिया है। वहीं दूसरी ओर नगर निगम में कार्यरत सहायक इंजीनियर राकेश शर्मा और कुलदीप यादव को तुरंत प्रभाव से निलंबित करने के आदेश शहरी स्थानीय निकाय विभाग ने जारी कर दिए हैं और निलंबित करने के पश्चात उनका मुख्यालय पंचकूला में फिक्स कर दिया है ।

ऐसे ही जिन साथ व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है उनमें जूनियर इंजीनियर विनोद कुमार, सहायक इंजीनियर विक्की कुमार, कार्यकारी इंजीनियर पंकज सैनी और गोपाल कलावत के अलावा दिलावर सिंह, राजकुमार और पवन बल्हारा के नाम शामिल है।

गौरतलब है कि हरियाणा के गृह और शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज को पिछले कई दिनों से नगर निगम गुड़गांव में अनियमितताओं को लेकर शिकायतें मिल रही थी और इन शिकायतों के चलते ही अनिल विज ने गत दिवस गुरुग्राम के नगर निगम के सेक्टर 34 कार्यालय में अचानक निरीक्षण किया और वहां पर पाई गई अनियमितताओं के तहत कुछ अधिकारियों को सस्पेंड करने के अलावा लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

हरियाणा के गृह एवं शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज की कार्यप्रणाली राज्य की सभी जनता को पता है और कल की गई उनके द्वारा इस कार्रवाई के बाद लोगों द्वारा और सोशल मीडिया पर उन्हें लगातार बधाई व साधुवाद दिया जा रहा है। यहां तक की कुछ लोगों ने तो सोशल मीडिया पर यह भी कमेंट किए हैं कि उनके शहरों में भी जो नगर निगम के कार्यालय हैं अनिल विज एक बार आकर वहां भी दौरा कर जाएं और वहां जो अनिमितताओं का दौर जारी है उन्हें सुधार दिया जाए।

गुरुग्राम के नगर निगम कार्यालय में कल शहरी स्थानीय निकाय मंत्री द्वारा की गई कार्रवाई की चर्चा पूरे गुरुग्राम शहर में आज लगातार जारी रही और लोग अनिल विज द्वारा की गई कार्रवाई की लगातार सराहना कर रहे थे। शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज को पक्ष या सत्तासीन लोग ही पसंद नहीं कर रहे बल्कि विपक्ष के लोग भी पसंद कर रहे हैं। कल गुरुग्राम के नगर निगम कार्यालय में औचक निरीक्षण के दौरान सत्तासीन लोगों के साथ साथ विपक्ष के लोगों ने भी इस कार्रवाई को सही करार दिया है और अनिल विज द्वारा किए गए कार्य की सराहना की गई है।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: