जिला लोक संपर्क एंव कष्ट निवारण समिति की बैठक : दौलताबाद रोड व सेक्टर 37 के औद्योगिक क्षेत्रों के लिए अहम फैसले

48 / 100
Font Size

–  आबकारी एवं कराधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अनुराग रस्तोगी ने की अध्यक्षता
-समिति के मनोनीत सदस्य पहली बार बैठक में आनलाइन शामिल हुए

गुरूग्राम,11 जून।  गुरूग्राम की जिला लोक संपर्क एवं कष्ट निवारण समिति की मासिक बैठक शुक्रवार को लोक निर्माण विश्राम गृह के कांफ्रेंस हाॅल में आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता हरियाणा सरकार के आबकारी एंव कराधान विभाग तथा नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अनुराग रस्तोगी ने की। यह पहली कष्ट निवारण समिति की बैठक थी जिसमें सभी मनोनीत सदस्यों ने बैठक में आनलाइन सहभागिता की.  बैठक से आनलाइन जुड़ने वाले सदस्यों ने इस व्यवस्था की सराहना भी की। आज की बैठक में कुल 10 शिकायतें रखी गई थी जिनमें से 8 का निपटारा मौके पर ही किया गया।

आज की कष्ट निवारण समिति की मासिक बैठक जहां एक ओर गुरूग्राम के सैक्टर-37 में बसे औद्योगिक क्षेत्र के लिए राहत भरी रही, वहीं दौलताबाद रोड़ पर स्थित औद्योगिक क्षेत्र की समस्याओं के निदान के लिए रास्ता प्रशस्त करने की दिशा में अहम रही। दौलताबाद रोड़ इंडस्ट्रीयल एरिया के मामले में अतिरिक्त मुख्य सचिव अनुराग रस्तोगी ने नगर निगम की अतिरिक्त आयुक्त जसप्रीत कौर की अध्यक्षता में चार सदस्यीय समिति गठित करने के निर्देश दिए हैं। डीटीपी प्लानिंग को इस समिति का कनविनर बनाया गया है। वरिष्ठ नगर योजनाकार और एमएसएमई के संयुक्त निदेशक इस समिति के सदस्य होंगे। यह समिति प्लानिंग के हिसाब से दौलताबाद रोड़ इंडस्ट्रीयल एरिया का स्टेटस देखेगी और वहां की समस्याओं के प्रस्तावित समाधान के बारे में सुझाव देगी।

समिति की रिपोर्ट अगली बैठक में रखी जाएगी। इस मामले में दौलताबाद रोड़ इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन की ओर से बताया गया कि इस क्षेत्र में लगभग 350 से 400 एमएसएमई ईकाइयां हैं जो कई वर्षों से संचालित हो रही हैं। सन 2016 तक इस क्षेत्र के नक्शे आदि भी पास किए जाते रहे, उसके बाद नगर निगम ने इनके नक्शे पास करने बंद कर दिए और वहां पर मूलभूत सुविधाओं का रख रखाव भी नही किया जा रहा। लगभग 1.2 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में बसे इस औद्योगिक क्षेत्र में हजारों को रोजगार दिया जा रहा है। बताया गया कि सन 2012 की मास्टर प्लान में इस क्षेत्र को रेजीडेंशियल जोन घोषित करके वहां सैक्टर-103 और 104 बनाए गए हैं। शिकायतकर्ता ने बताया कि वहां पर स्थित 266 औद्योगिक ईकाइयां प्रोपर्टी टैक्स भी भर रही हैं।

इसी प्रकार ,सैक्टर-37 की इंडस्ट्रियल डैव्लपमेंट एसोसिएशन ने वहां की पानी, सिवरेज , डैªनेज , स्ट्रीट लाइट, सीएंडडी वैस्ट आदि की समस्या बैठक में रखी। अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री रस्तोगी ने इन विषयो पर संबंधित अधिकारियों से रिपोर्ट तलब करने के बाद कहा कि नगर निगम तथा जीएमडीए के अधिकारीगण सोमवार को प्रातः 11 बजे संयुक्त रूप से एसोसिएशन के प्रतिनिधि को साथ लेकर उस क्षेत्र का दौरा करेंगे और उनकी समस्याओं को समझकर उन्हें दूर करने के लिए समय सीमा तय करेंगे। बैठक में नगर निगम के मुख्य अभियंता टी एल शर्मा ने बताया कि यह क्षेत्र सन 2017-18 में नगर निगम ने हरियाणा राज्य औद्योगिक संरचना विकास निगम से टेकओवर किया था।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में इस क्षेत्र की सिवरेज लाइन को साफ करने के लिए 17.65 लाख रूपये का टेंडर दिया हुआ हैं और 2 महीने में यह कार्य पूरा कर लिया जाएगा। इसी प्रकार, पेयजल आपूर्ति के लिए लगभग 101 करोड़ रूपये के एस्टीमेट तैयार किए गए हैं और 1 अगस्त से पहले वर्क अलाॅट कर दिया जाएगा। इसके बाद , 3 महीने में यह कार्य पूर्ण होगा।

एसीएस रस्तोगी ने इस कार्य को हरियाणा दिवस पहली नवंबर तक पूरा करने के निर्देश दिए हैं। कार्य की प्रगति को देखते हुए जिला प्रशासन इस मामले को पुनः नवंबर माह की मासिक बैठक में रख सकता है। श्री रस्तोगी ने इस औद्योगिक क्षेत्र के प्रवेश पर बनी झुग्गियों और क्रेन खड़ी रहने के मामले का निपटारा नगर निगम तथा गुरूग्राम पुलिस को करने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page