कोरोना खतरे को धता बताते हुए सीमा सड़क संगठन के जवान पुल बनाने व बर्फ हटाने में जुटे

Font Size

नई दिल्ली :  कोविड-19 के खतरे का बहादुरी से सामना करते हुए, सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के जवान दापोरिजो पुल (430 फुट मल्टी स्पैन बैली पुल) को बदलने के लिए लगातार कार्य कर रहे हैं, जो अरूणाचल प्रदेश के ऊपरी सुबनसिरी जिले के सभी 451 गांवों में संचार लाइनों को बहाल करने और चीन सीमा पर स्थित सुरक्षा बलों की एकमात्र जीवन रेखा है। 23 बीआरटीएफ / परियोजना अरुणांक के जवान, स्थानीय प्रशासन के विशेष अनुरोध पर, जोर-शोर से काम कर रहे हैं जबकि मौजूदा पुल जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है। बीआरओ ने एक बयान में कहा कि वह सभी आवश्यक एहतियाती उपायों के साथ पहले से निर्धारित तारीख तक संचार की इस महत्‍वपूर्ण रेखा को खोलने के लिए दृढ़ संकल्‍प है।

इस बीच, बीआरओ खराब मौसम और कोविड 19 के खतरे के बावजूद वर्तमान में देश के उत्तरी भाग मनाली – लेह अक्ष रेखा पर बर्फ हटाने के काम में दिन-रात लगा हुआ है ताकि समय सीमा से पहले लाहौल घाटी और लद्दाख को राहत मिल सके। वर्तमान में रोहतांग दर्रा और बरलाचला दर्रे से बर्फ हटाने के काम में चार टीमें लगी हुई हैं। यह पहला मौका है, जब बीआरओ के जवानों को बरलाचला दर्रे से बर्फ हटाने के लिए सरचू की ओर से हवाई मार्ग से सरचू के लिए भेजा गया है।

सीमा सड़क संगठन, रक्षा मंत्रालय की एक महत्वपूर्ण शक्ति है, यह सशस्त्र बलों की रणनीतिक आवश्यकताओं को पूरा करने में सहायता करने के लिए दुर्गम और दूर दराज के सीमावर्ती क्षेत्रों में निर्माण कार्य करता है और इन स्‍थानों में सड़‍कों को दुरूस्‍त रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: