भारत ने अगले दो वर्षों के लिए सीओपी अध्यक्षता चीन से प्राप्त की

Font Size
नई दिल्ली : पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और संयुक्त राष्ट्र रेगिस्तान नियंत्रण सम्मेलन (यूएनसीसीडी) के कार्यकारी सचिव  इब्राहीम थैव ने आज ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट में 12 दिवसीय सीओपी-14 का उद्घाटन किया। सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए श्री जावड़ेकर ने कहा कि भारत अपने नेतृत्व में बंजर भूमि और रेगिस्तान नियंत्रण के प्रभाव को कम से कम करने के लिए दीर्घकालीन समाधान खोजने पर दृढ़ है। उल्लेखनीय है कि श्री जावड़ेकर को अगले दो वर्षों के लिए सीओपी का अध्यक्ष चुना गया है। उन्होंने कहा, ‘इस वर्ष सीओपी-14 के लिए भारत विश्व की मेज़बानी करेगा और 2021 तक सीओपी अध्यक्षता चीन से प्राप्त करेगा। भारत सीओपी-14 की मेज़बानी के जरिए अपनी अध्यक्षता के दौरान विश्व स्तर पर भूमि प्रबंधन एजेंडा को दिशा देगा।’

मैदानी स्तर पर जागरूकता और मजबूत नीतियों के महत्व को रेखांकित करते हुए श्री जावड़ेकर ने समाधान खोजने के लिए सरकार द्वारा निभाई जाने वाली अहम भूमिका पर जोर दिया। इस तरह के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के आयोजन के महत्व का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि सीओपी-14 के नतीजों से कृषि, वन, भूमि, जल प्रबंधन और गरीबी उपशमन जैसे मौजूदा कार्यक्रमों को पूरा करने में सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने और ‘2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने’ संबंधी प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण का अनुपालन किया जाएगा।

हरित गतिविधियों को बढ़ावा देने का उल्लेख करते हुए पर्यावरण मंत्री ने कहा, ‘हमें आशावादी होना चाहिए। हमें अपनी कार्यवाही पर भरोसा होना चाहिए। मैं भविष्य के प्रति आशान्वित हूं और मुझे विश्वास है कि यदि मनुष्य के कामों से नुकसान होता है तो मनुष्य अपने कामों के जरिए पारिस्थितिकी और पर्यावरण को बहाल भी कर सकता है।’

इस अवसर पर श्री थैव ने कहा, ‘अगले दो सप्ताह तक हमे ऐसे छह हजार ऐसे दायित्व निभाने हैं, जिनसे जमीन के बंजर होने से प्रभावित साढ़े तीन अरब लोगों का जीवन बेहतर हो सकेगा।’

मेज़बान देश की तरफ से वक्तव्य देते हुए पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री श्री बाबुल सुप्रियो ने कहा कि भारत बंजर, बढ़ते रेगिस्तान और सूखे से लड़ने के लिए सक्रिय भूमिका निभा रहा है। उन्होंने कहा कि हमने पिछले पांच वर्षों के दौरान वन के अंदर और बाहर 15,000 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में वृक्षारोपण किया है, जो जमीन की बहाली के संबंध में एक बड़ी सफलता है।

9 सितंबर, 2019 को होने वाले उच्च स्तरीय सत्र का उद्घाटन प्रधानमत्री श्री नरेन्द्र मोदी करेंगे और उपस्थितजनों को संबोधित करेंगे। इस दौरान संयुक्त राष्ट्र के उप-महासचिव, यूएनसीसीडी के कार्यकारी सचिव, सीओपी के अध्यक्ष, राज्याध्यक्ष, पर्यावरण मंत्रीगण और 197 सदस्य देशों के प्रतिनिधिमंडलों के प्रमुख उपस्थित रहेंगे।

पृष्ठभूमि सामग्री के लिए https://www.unccd.int/conventionconference-parties-copcop14-new-delhi-india/cop14-media-resources पर क्लिक करें।

पूरी आमसभा यहां देखें :

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: