हाई अलर्ट मोड में राजधानी दिल्ली, हमले की फिराक में आतंकी, सुरक्षा सख्त

Font Size

नई दिल्ली : देश सोमवार 15 अगस्त को आजादी का 75 वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा है. राष्ट्रीय स्तर पर इसे अमृत महोत्सव घोषित किया गया है. 15 अगस्त को दिल्ली के लाल किले की प्रचीर से पीएम नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहरायेंगे. इस अवसर पर देश को संबोधित करेंगे. दुसुरी तरफ आतंकी हमले की आशंका के मद्दे नजर इस राष्ट्रीय आयोजन को लेकर दिल्ली में अभेद्य सुरक्षा इंतजाम किये गए हैं.

दिल्ली पुलिस संभावित आतंकी मॉड्यूल और असामाजिक तत्वों पर नजर रख रही है. दिल्ली की सभी 8 सीमाओं के साथ-साथ शहर के व्यस्त बाजारों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. लाल किले के पास मालती लेवल सुरक्षा इंतजाम किये गए हैं.

स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम की सुरक्षा पर नजर रखने के लिए ड्रोन रोधी प्रणाली तैनात की गई है. इस एंटी-ड्रोन सिस्टम को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन एवं भारत इलेक्ट्रॉनिक्स ने तैयार किया है. दिल्ली पुलिस के अनुसार पुलिस कर्मियों को आसमान में उड़ने वाली संदिग्ध वस्तुओं से निपटने का ख़ास प्रशिक्षण दिया गया है. राजधानी दिल्ली में सुरक्षा को लेकर पुलिस को कुछ खास संकेत मिले हैं जिनमें ड्रोन अटैक की आशंका भी शामिल है.

बताया जाता है कि पंजाब समेत कई राज्यों में पकड़े गए आतंकवादियों से संकेत मिले हैं कि  पाकिस्तान की सीमा से कई ड्रोन देश के कई हिस्सों में पहुंच गए हैं. संकेत है कि पाकिस्तान से ड्रोन के जरिये पिस्टल, हैंड ग्रेनेड और एके 47 समेत घातक हथियार भारत भेजे गए हैं. खुफिया जानकारी मिली है कि आतंकवादी, स्वतंत्रता दिवस पर कई हमलों को अंजाम दे सकते हैं. हमले में एक अकेला व्यक्ति धारदार हथियार या किसी बड़ी गाड़ी से भीड़ पर हमला कर सकता है.

ख़ुफ़िया एजेंसियों ने पतंग जैसी उड़ने वाली वस्तु के जरिए भी आतंकवादी हमले की आश्नाका जताई है. हाई अलर्ट के तहत पुलिस ने लाल किले के चारों ओर पतंग उड़ाने पर प्रतिबंध लगा दिया है. दिल्ली पुलिस को यह भी सूचना मिली है कि बैसाखी के साथ रखी गई कुछ संदिग्ध वस्तु भी किले पर हमला कर सकती है. इसलिए पुलिस को प्रत्येक व्यक्ति की सख्त स्क्रीनिंग सुनिश्चित करने को कह गया है है.

खुफिया एजेंसियों ने पुलिस को बताया है कि आतंकवादी संगठन एसएफजे, जैश-ए-मोहम्मद, आईएसआईएस खुरासान मॉड्यूल 15 अगस्त के दौरान बड़े हमले की योजना बना रहे हैं. पुलिस हर संदिग्ध गतिविधियों व्यक्तियों पर नजर गडाए हुए है क्योंकि आतंकी मॉड्यूल में स्थानीय अपराधी भी शामिल होने की आशंका है.

संवेदनशील स्थिति के मद्देनजर लाल किले के चारों ओर ऐसे अलार्म कैमरे लगाए गए हैं, जो आस-पास तैनात पुलिस कर्मियों को किसी भी संदिग्ध गतिविधि के प्रति सचेत करने लगते हैं. बताया जाता है कि सघन निगरानी के लिए दिल्ली पुलिस ने आस-पास के इलाकों में चप्पे चप्पे पर हाई-रिज़ॉल्यूशन टेक्नोलॉजी वाले 1,000 कैमरे लगाए हैं. दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने पुलिस फोर्स की दूसरी इकाई को लगभग 1,000 संदिग्ध व्यक्तियों, राष्ट्र विरोधी तत्वों और आतंकवादियों की तस्वीरें मुहैया करवाई हैं, ताकि उनके नापाक मंसूबों के प्रति पुलिस सतर्क रहे.

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: