अप्रैल 2022 में जीएसटी का बम्पर कलेक्शन : 1.68 लाख करोड़ रुपये आये खजाने में

Font Size

अप्रैल 2022 में सकल जीएसटी राजस्‍व संग्रह 1.68 लाख करोड़ रुपये का रहा, जो अब तक का सर्वाधिक है

अप्रैल 2022 में सकल जीएसटी संग्रह अब तक का सबसे अधिक संग्रह है, जो पिछले सर्वाधिक संग्रह से 25,000 करोड़ रुपये अधिक है, पिछले महीने में 1,42,095 करोड़ रुपये एकत्र किए गए थे

नई दिल्ली :  अप्रैल 2022 के महीने में सकल जीएसटी राजस्व संग्रह 1,67,540 करोड़ रुपये का रहा, जिसमें सीजीएसटी 33,159 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 41,793 करोड़ रुपये, आईजीएसटी 81,939 करोड़ रुपये (वस्‍तुओं के आयात पर संग्रह किए गए 36,705 करोड़ रुपये सहित) और उपकर 10,649 करोड़ रुपये (वस्‍तुओं के आयात पर संग्रह किए गए 857 करोड़ रुपये सहित) शामिल हैं।

 अप्रैल 2022 में जीएसटी संग्रह अब तक का सबसे अधिक संग्रह है, जो पिछले सर्वाधिक संग्रह से 25,000 करोड़ रुपये अधिक है, पिछले महीने में 1,42,095 करोड़ रुपये एकत्र किए गए थे।

 सरकार ने आईजीएसटी से  33,423 करोड़ रुपये का सीजीएसटी और 26962 करोड़ रुपये का एसजीएसटी में निपटान किया है। अप्रैल 2022 के महीने में नियमित निपटान के बाद केन्‍द्र और राज्यों का कुल राजस्व सीजीएसटी के लिए 66,582 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 68,755 करोड़ रुपये रहा।

 अप्रैल 2022 के महीने के लिए राजस्व पिछले साल के इसी महीने में संग्रह किए गए जीएसटी राजस्व से 20 प्रतिशत अधिक है।  इस मास के दौरान, वस्‍तुओं के आयात से प्राप्‍त राजस्व 30 प्रतिशत अधिक रहा और घरेलू लेन- देन से प्राप्‍त राजस्‍व (सेवाओं के आयात सहित) पिछले वर्ष के इसी महीने के दौरान इन स्रोतों से प्राप्‍त राजस्व की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक है।

 पहली बार सकल जीएसटी संग्रह 1.5 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गया है। मार्च 2022 के महीने में कुल ई- वे बिल सृजित हुए, जो 7.7 करोड़ थे, जो फरवरी 2022 के महीने में उत्पन्न 6.8 करोड़ ई-वे बिल से 13% अधिक है, जो तेज गति से व्यावसायिक गतिविधि में सुधार को दर्शाता है।

अप्रैल 2022 के महीने में 20 अप्रैल 2022 को एक दिन में अब तक का सबसे अधिक कर संग्रह हुआ और उस दिन शाम 4 बजे से शाम 5 बजे के दौरान एक घंटे के दौरान सबसे अधिक कर संग्रह देखा गया। 20 अप्रैल 2022 को 9.58 लाख लेनदेन के माध्यम से 57,847 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया था और 4- 5 बजे के दौरान 88,000 लेनदेन के माध्यम से लगभग 8,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। पिछले साल (उसी तारीख को) सबसे अधिक एक दिन का भुगतान हुआ था जब 7.22 लाख लेनदेन के माध्यम से 48,000 करोड़ रुपये का भुगतान हुआ और सर्वाधिक एक घंटे का संग्रह (पिछले साल इसी तारीख को 2 बजे दोपहर) 65,000 लेनदेन के माध्यम से 6,400 करोड़ रुपये का भुगतान हुआ था।

अप्रैल 2022 के दौरान, जीएसटीआर-3बी में 1.06 करोड़ जीएसटी रिटर्न दाखिल किए गए, जिनमें से 97 लाख मार्च 2022 के महीने से संबंधित थे, जबकि अप्रैल 2021 के दौरान कुल 92 लाख रिटर्न दाखिल किए गए थे।  इसी तरह, अप्रैल 2022 के दौरान जीएसटीआर-1 में जारी किए गए चालानों के 1.05 करोड़ विवरण दाखिल किए गए। महीने के अंत तक, अप्रैल 2022 में जीएसटीआर-3बी का फाइलिंग प्रतिशत 84.7% रहा, जबकि अप्रैल 2021 में 78.3% था और अप्रैल 2022 में जीएसटीआर-1 के लिए फाइलिंग प्रतिशत 83.1% था, जबकि अप्रैल 2021 में 73.9% था।

यह अनुपालन व्यवहार में स्पष्ट सुधार दर्शाता है, जो कर प्रशासन द्वारा समय पर रिटर्न दाखिल करने के लिए करदाताओं को प्रेरित करने हेतु किए गए विभिन्न उपायों का परिणाम है।  नीचे दिया गया चार्ट चालू वर्ष के दौरान मासिक सकल जीएसटी राजस्व के रुझान को दर्शाता है। तालिका अप्रैल 2021 की तुलना में अप्रैल 2022 के महीने के दौरान प्रत्येक राज्य में एकत्र किए गए जीएसटी संग्रह के राज्य-वार आंकड़े दर्शाती है।

अप्रैल, 2022 के दौरान जीएसटी राजस्व की राज्यवार वृद्धि

राज्य अप्रैल– 21 अप्रैल– 22 वृद्धि
जम्मू कश्मीर 509 560 10%
हिमाचल प्रदेश 764 817 7%
पंजाब 1,924 1,994 4%
चंडीगढ़ 203 249 22%
उत्तराखंड 1,422 1,887 33%
हरियाणा 6,658 8,197 23%
दिल्ली 5,053 5,871 16%
राजस्थान 3,820 4,547 19%
उत्तर प्रदेश 7,355 8,534 16%
बिहार 1,508 1,471 -2%
सिक्किम 258 264 2%
अरुणाचल प्रदेश 103 196 90%
नागालैंड 52 68 32%
मणिपुर 103 69 -33%
मिजोरम 57 46 -19%
त्रिपुरा 110 107 -3%
मेघालय 206 227 10%
असम 1,151 1,313 14%
पश्चिम बंगाल 5,236 5,644 8%
झारखंड 2,956 3,100 5%
ओडिशा 3,849 4,910 28%
छत्तीसगढ़ 2,673 2,977 11%
मध्य प्रदेश 3,050 3,339 9%
गुजरात 9,632 11,264 17%
दमन एवं दीव 1 0 -78%
दादरा और नागर हवेली 292 381 30%
महाराष्ट्र 22,013 27,495 25%
कर्नाटक 9,955 11,820 19%
गोवा 401 470 17%
लक्ष्यद्वीप 4 3 -18%
केरल 2,466 2,689 9%
तमिलनाडु 8,849 9,724 10%
पुदुचेरी 169 206 21%
अंडमान निकोबार द्वीप समूह 61 87 44%
तेलांगना 4,262 4,955 16%
आंध्र प्रदेश 3,345 4,067 22%
लद्दाख 31 47 53%
अन्य क्षेत्र 159 216 36%
केन्‍द्र क्षेत्राधिकार 142 167 17%
कुल 1,10,804 1,29,978 17%

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: