एनसीसी कैडेट्स ने रक्षा मंत्री के समक्ष “शत शत नमन” गीत की रंगारंग प्रस्तुति दी

Font Size

नई दिल्ली :   22 जनवरी, 2022 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वर्चुअल मोड से गणतंत्र दिवस शिविर 2022 में भाग लेने वाले राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के कैडेट्स से बातचीत की। उन्होंने कैडेट्स में एक नेता, सैनिक, कलाकार, संगीतकार और सबसे बढ़कर एक अच्छे इंसान के गुणों को स्थापित करने के लिए इस युवा संगठन की सराहना की, जो उन्हें एक संपूर्ण व्यक्ति बनाता है। उन्होंने कैडेट्स के गुणों को विकसित करने के लिए एनसीसी की सराहना की ताकि वे अपने रास्ते खुद बना सकें और समाज को नई दिशा दे सकें। उन्होंने कैडेट्स से अपने जीवन में उद्देश्य खोजने और एनसीसी के कई पूर्व छात्रों से प्रेरणा लेने का आग्रह किया, जिन्होंने संगठन में सिखाए गए एकता, अनुशासन, सच्चाई, साहस, सद्भाव और नेतृत्व के गुणों को अपनाकर समाज में अपनी पहचान बनाई। उन्होंने कहा कि एनसीसी युवाओं को एकजुट और अनुशासित बल में बदलकर राष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण सेवा कर रहा है।

कड़ी मेहनत को सफलता की कुंजी बताते हुए रक्षा मंत्री ने एनसीसी कैडेट्स से “क्षुद्र ईर्ष्या और क्षेत्रों, धर्मों, जातियों व वर्गों के दिल को छू लेने वाले पूर्वाग्रह से प्रगति की नई सुबह तक” के लिए संघर्ष करने का आग्रह किया। उन्होंने सामान्य भलाई के अनुरूप स्वतंत्रता के उच्चतम स्तर का आनंद लेते हुए पुरुषों और महिलाओं के बीच समानता का आह्वान किया। उन्होंने लगातार विकसित हो रहे समय के साथ खुद को ढालने और भारतीय मूल्यों, परंपराओं और उस बदलाव को लाने में मानवता की भावना को आगे बढ़ाने पर समान रूप से जोर दिया।

राजनाथ सिंह ने स्वामी विवेकानंद की एक कहावत का हवाला दिया, “आप शेर हैं, आप आत्मा हैं, शुद्ध, अनंत और परिपूर्ण हैं। ब्रह्मांड की शक्ति आपके भीतर है”, एनसीसी कैडेट्स को बड़े सपने देखने व भय और संदेह की बेड़ियों को तोड़कर अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए लगन से काम करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि अपने जीवन में कुछ नया बनाने के लिए एक दृष्टि के साथ आगे बढ़ें, कुछ ऐसा करें जो उच्चतम श्रेणी का हो, कुछ ऐसा जो आपको सफल बनाता है और हमारे देश को गौरवान्वित करता है।

रक्षा मंत्री ने एनसीसी कैडेट्स के साथ वर्चुअल रूप से बातचीत करने का फैसला किया क्योंकि वह अभी भी कोविड 19 पॉजिटिव हैं और सभी प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं। उन्होंने कैडेट्स से कहा कि एनसीसी के पूर्व छात्र और स्वयं एक शिक्षक होने के नाते वह यह सुनिश्चित करते हैं कि वे एनसीसी द्वारा आयोजित किसी भी कार्यक्रम को नहीं छोड़ें।

दिल्ली कैंट स्थित एनसीसी सभागार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान एनसीसी कैडेट्स ने रक्षा मंत्री को “शत शत नमन” गीत की रंगारंग प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में इस वर्ष के रक्षा मंत्री पदक और प्रशस्ति पत्र के विजेताओं की घोषणा की गई। इस समारोह में एनसीसी के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल गुरबीरपाल सिंह और रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी और सैन्य अधिकारी शामिल हुए।

रक्षा मंत्री पदक की स्थापना 1989 में की गई थी और तब से यह हर साल सर्वोच्च क्रम की बहादुरी या असाधारण सेवा के लिए सबसे योग्य कैडेट्स और प्रशिक्षकों को सम्मानित करने के लिए दिया जाता है। इस वर्ष का रक्षा मंत्री पदक दिल्ली निदेशालय की कैडेट दिव्यांशी और कर्नाटक व गोवा निदेशालय के लेफ्टिनेंट अक्षय दीपकराव मांडलिक को प्रदान किया जाएगा। गुजरात निदेशालय के कैडेट कैप्टन धीरज सिंह, महाराष्ट्र निदेशालय के एसयूओ सोमेश मनोज सिन्हा, उत्तर पूर्व क्षेत्र निदेशालय के एसयूओ केएच मोनिता सिंघा और पश्चिम बंगाल व सिक्किम निदेशालय के कैडेट आदर्श शर्मा को रक्षा मंत्री प्रशस्ति पत्र प्रदान किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: