हरियाणा सरकार ने कोरोना मेनेजमेंट के लिए 22 वरिष्ठ आई ए एस अधिकारियों को किया तैनात, गुरुग्राम की जिम्मेदारी अब सुधीर राजपाल को दी गई , टी सी गुप्ता अब चंडीगढ़ कण्ट्रोल रूम संभालेंगे

59 / 100
Font Size

सुभाष चौधरी

चंडीगढ़ :  हरियाणा सरकार ने प्रदेश में बेतहाशा बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण तेज गति से बदलती परिस्थिति को देखते हुए कोरोना संक्रमण रोकथाम मैनेजमेंट की मॉनिटरिंग के लिए प्रदेश के सभी जिलों के नोडल ऑफिसर में बड़ा फेरबदल किया है. आज जारी आदेश के अनुसार गुरुग्राम जिला में कोविड-19 तैयारी के लिए अब वरिष्ठ आई ए एस सुधीर राजपाल को नोडल ऑफिसर नियुक्त किया है. इससे पहले यह जिम्मेदारी एडीशनल चीफ सेक्रेट्री टी सी गुप्ता के पास थी। नए आदेश के तहत श्री गुप्ता अब चंडीगढ़ में स्थापित राज्य स्तरीय कोविड-19 कण्ट्रोल रूम की गतिविधियों को सुपरवाइज करेंगे. साथ ही उन्हें इस दृष्टि से शुरू की गई सभी हेल्पलाइन की गतिविधियों पर भी नजर रखने को कहा गया. इन विषयों पर श्री गुप्ता प्रतिदिन प्रदेश के मुख्य सचिव विजय वर्धन को अपनी रिपोर्ट देंगे.

इस नए आदेश के अनुसार फरीदाबाद जिले का नोडल ऑफिसर एडिशनल चीफ सेक्रेटरी संजीव कौशल को बनाया गया है जबकि रेवारी की जिम्मेदारी एडीशनल चीफ सेक्रेट्री वी एस कुंडू को दी गई है. हरियाणा  सरकार ने आज कैथल जिला का नोडल ऑफिसर पी के दास को  आलोक निगम को पंचकूला का नोडल ऑफिसर, धीरा खंडेलवाल को जींद, देवेंद्र सिंह को करनाल, अमित झा को सोनीपत, एसएन राय को अंबाला, डॉ महावीर सिंह को फतेहाबाद, सुमिता मिश्रा को झज्जर, अनुराग रस्तोगी को हिसार, आनंद मोहन शरण को रोहतक, आर एस वूडरू को पलवल, अशोक खेमका को नूंह,  विनीत गर्ग को सिरसा, जी अनूपमा को कुरुक्षेत्र, अपूर्व कुमार सिंह को पानीपत, दीप्ति उमाशंकर को यमुनानगर, अनुराग अग्रवाल को महेंद्रगढ़, डी सुरेश को चरखी दादरी और नितिन कुमार यादव को भिवानी जिला का नोडल ऑफिसर नियुक्त किया है।

सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि सभी नोडल ऑफिसर अपने अपने जिले में कोरोना रोकथाम मैनेजमेंट की दृष्टि से स्वास्थ्य संबंधी आधारभूत संरचनाओं, स्वास्थ्य सुविधाओं, आइसोलेशन बेड, अक्सीजन सपोर्ट बेड , आईसीयू, वेंटीलेटर, लाइफ सेविंग ड्रग्स और मास्क पीपी कीट, सैनिटाइजर आदि की आपूर्ति एवं ऑक्सीजन रिजर्व संबंधी व्यवस्था को मॉनिटर करेंगे. सभी अधिकारियों को सरकारी एवं सभी प्राइवेट हॉस्पिटल पर नजर रखने को कहा गया है।

इसके अलावा कोरोना मरीजों की दृष्टि से आवश्यकता के अनुरूप अतिरिक्त प्राइवेट हॉस्पिटल की व्यवस्था करने, कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग पर ध्यान देने, कोरोना टेस्ट की व्यवस्था को मॉनिटर करने, मैक्रो और माइक्रो कंटेनमेंट जोंन घोषित करने, आइसोलेशन में रखे गए मरीजों की व्यवस्था की देखरेख करने और केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार की ओर से जारी कोरोना प्रोटोकाल कॉल को पूरी तरह लागू कराने को कहा गया है. जिन जिले में धारा 144 लागू किए गए हैं उसके अनुरूप व्यवस्था बनाने पर भी ध्यान देने को कहा गया है. सरकार ने वर्तमान परिस्थिति में सामाजिक संस्थाओं ,एनजीओ और स्वयंसेवी संस्थाओं की सूची तैयार करने को कहा है जिन्हें पूर्णा मरीजों के लिए भोजन की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी दी जा सकती है।

सरकार ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि सभी नोडल ऑफिसर अपने अपने जिले में खाद्य वस्तुओं की कीमतों एवं इसकी आपूर्ति की व्यवस्था पर भी कड़ाई से ध्यान रखेंगे। उन्हें सभी जिले में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की उपलब्धता और इसकी आवश्यकता की दृष्टि से आपूर्ति को व्यवस्थित करने को भी कहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page