हिपा में वैश्विक मुद्दों पर छह दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

14 / 100
Font Size

गुरुग्राम 23 फरवरी। हरियाणा लोक प्रशासन संस्थान में आज हरियाणा लोक सेवा के सेवारत अधिकारियों तथा अखिल भारतीय दूरसंचार सेवा के अधिकारियों के लिए वैश्विक मुद्दों पर छह दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया।

कार्यक्रम में वैश्विक मुद्दों के प्रशिक्षण कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए श्रीमती खिया भट्टाचार्या ने प्रतिभागियों के बीच इसकी आवश्यकता, अनिवार्यता और हरियाणा के विशेष परिप्रेक्ष्य में लोक सेवकों के लिए इस मुद्दे की व्यावहारिकता पर प्रकाश डाला। ‘कोविड के बाद की विश्व व्यवस्था‘ में भारत से अपेक्षा विषय पर वर्चुअल व्याख्यान में श्री हर्ष वर्द्धन श्रृंगला ने अपने उद्द्बोधन में कहा कि भारत वसुधैव कुटुम्बकम की अवधारणा पर चलता है। कोविड जैसी त्रासदी से उभरने के प्रयासों में भारत ने अपना अहम् योगदान दिया है, खास तौर पर कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत के कदम की तारीफ वैश्विक मंच से हो रही है। हरियाणा की अभिनववादी प्रवृति को रेखांकित करते हुए उन्होंने भारत के द्विपक्षीय और बहुपक्षीय संबंधों में हरियाणा के योगदान की संभावना को रेखांकित किया और युवा अधिकारियों को इस दिशा में प्रेरित किया। प्रशिक्षण कार्यक्रम के इस सत्र में संयुक्त सचिव ने भी अपने उद्द्बोधन में भारत की भूमिका और हरियाणा की संभावना को रेखांकित किया। दोनों विशेषज्ञ वक्ताओं ने प्रतिभागी अधिकारियों के विभिन्न प्रश्नों का उत्तर भी दिया।

प्रशिक्षण कार्यक्रम के दूसरे सत्र में विदेश मंत्रालय के सचिव (आर्थिक सम्बन्ध) श्री राहुल छाबरा ने भारत की प्रगतिशील वैश्विक नीतियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने भारत- अफ्रीका के मजबूत होते द्विपक्षीय आर्थिक संबंधों की गहन समीक्षा प्रस्तुत की। इस दौरान प्रतिभागी अधिकारियों ने भारत की विदेश नीति खास कर आर्थिक नीति और उसमें लोक सेवकों की महत्वपूर्ण भूमिका को भी समझा।

गौरतलब है कि वैश्विक मुद्दों पर आधारित यह प्रशिक्षण कार्यक्रम छह दिवसीय हैं जिसमें इस विषय के प्रसिद्ध विशेषज्ञ, भारत सरकार के प्रमुख नीति निर्माता और विभिन्न देशों के राजदूत शामिल हैं। हरियाणा लोक प्रशासन द्वारा वैश्विक मुद्दे पर आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम की यह तीसरी श्रृंखला है इसके पूर्व दो श्रृंखला पिछले वर्ष अक्टूबर और दिसम्बर में सम्पन्न हो चुकी हैं।


इस अवसर पर आज के प्रमुख वक्ता विदेश मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव श्री हर्ष वर्द्धन श्रृंगला, विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव डा. अनुपम रे तथा विदेश मंत्रालय के सचिव (आर्थिक सम्बन्ध) श्री राहुल छाबरा थे। प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन महानिदेशक श्रीमती सुरीना राजन के नेतृत्व में प्रशिक्षण कार्यक्रम संयोजक श्रीमती खिया भट्टाचार्या ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: