प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने क्यों की पहली संयुक्त प्रेस वार्ता ?

Font Size

नाथूराम गोडसे वाले बयान पर साध्वी प्रज्ञा सहित तीन नेताओं को कारण बताओ नोटिस 

सुभाष चौधरी 

नई दिल्ली : प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने नई दिल्ली स्थित भाजपा मुख्यालय में संयुक्त प्रेस वार्ता को संबोधित कर सबको चौंका दिया. पिछले पांच वर्षों में पार्टी मुख्यालय हो या फिर पीएम कार्यालय पहली प्रेस वार्ता है. हालाँकि पीएम ने पत्रकारों को केवल अपनी बात बताई और कोई सवाल नहीं लिया लेकिन अमित शाह ने सभी सवालों के बेबाकी से जवाब दिए. प्रेस वार्ता के दौरान उठे सवाल पर बह्जापा अध्यक्ष अमित शाह ने घोषणा की कि महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथू राम गोडसे का मामले में साध्व प्रज्ञा सहित तीन भाजपा नेताओं के बयान से पार्टी स्वयं को सम्बद्ध नहीं करती है. उन्होंने स्पष्ट किया कि पार्टी ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्णय लिया है. उनके जवाब के बाद उन पर कार्रवाई का निर्णय लिया जाएगा.

 

इससे पूर्व प्रेस वार्ता आरम्भ करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान हमारा जो अनुभव है वह आपसे शेयर करना चाहत हूँ. उन्होंने कहा कि जनता पार्टी के कार्यकर्ता से मोदी सरकार बनाने के लिए जनता का उत्साह और जनता का परिचय भी सबसे आगे रहा है. यह भारतीय जनता पार्टी के लिए आनंद का विषय है.  

 

उन्होंने कहा कि 2014 में जब नरेंद्र मोदी की सरकार बनी थी तभी से पार्टी ने तय किया था पीएम मोदी की सरकार बनी है इसके साथ-साथ यह प्रयोग विफल ना हो इसकी चिंता भारतीय जनता पार्टी करेगी और जो सरकार नरेंद्र मोदी नेतृत्व में चलेगी जनता की सभी आकांक्षाओं की पूर्ति करेंगी.  अब  5 साल समाप्त होने को आए हैं हमें विश्वास है कि प्रधानमंत्री दोबारा से फिर पूर्ण बहुमत के साथ से प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि  भाजपा के 16034 शक्ति केंद्र हैं.  इस संगठन के आधार पर नरेंद्र मोदी जी की सरकार ने जो काम किया उसे नीचे तक पहुंचाने का पूरा प्रयास किया. नरेंद्र मोदी सरकार ने भी हर 15 दिनों में एक नई योजनाएं लागू की और लगभग 133 योजनाएं लागू कर देश के हर वर्ग को छूने वाली योजनाएं नीचे तक पहुंचे इसका प्रयास किया. पीएम स्वयं इस योजना के क्रियान्वयन की मॉनिटरिंग करते रहे. देश के किसान महिला गरीब समाज के हर वर्ग के लिए 133 योजनाएं लागू की गई.

 

 उन्होंने कहा कि 2014 में ऐसा माहौल बना था  बहुदलीय व्यवस्था के आदेश का कल्याण कर सकता है क्या 2014 में यह एक बड़ा सवाल यक्ष प्रश्न के रूप में था.  लेकिन देखकर जनता  जनता को विश्वास हो गया है कि यह भारत में संभव है.  अब तक जितने भी चुनाव आए हमने बड़ी सफलता हासिल की. 2014 हमारे पास 6 सरकार थी आज हमारे पास 16 सरकारें हैं. 50 करोड़ गरीबों के जीवन स्तर को सुधारने के लिए मोदी सरकार ने बहुत बड़ा प्रयास किया. घर बिजली गैस शौचालय सभी आम जन तक पहुंचाने का काम किया. मोदी  सरकार ने यह गरीबों को एहसास कराया कि उनका भी देश के विकास में योगदान है.

 

 उन्होंने कहा कि सवा सौ करोड़ देशवासियों के मन में आज असुरक्षा का भाव नहीं है. सभी मानते हैं कि मोदी जी के नेतृत्व में देश सुरक्षित है.  उद्योग हो या व्यवसाय की बात हो, ग्रामीण आधारभूत संरचना की बात हो, ग्रामीण क्षेत्र में टेलीफोन फाइबर इंटरनेट नेटवर्क पहुंचाने की बात हो सभी क्षेत्रों में काम हुए. आदिवासी और महिलाओं के लिए भी ढेर सारी योजनाएं मोदी सरकार ने शुरू की.  सभी वर्गों के अंदर नया आत्मविश्वास भरने का काम मोदी सरकार ने किया ..पूरे 5 साल गतिशील अर्थतंत्र बनाए रखने में कामयाबी मिली.  पूरे 5 साल भ्रष्टाचार जैसे कोई मुद्दा नहीं रे.

 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि २०१४ के बाद महंगाई का मुद्दा भी समाप्त हो गया.  जनता में एक लहर है मोदी जी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने का.  हमने जनवरी 2016 से ही प्रचार अभियान का शुरुआत किया था.  भाजपा ने ही सबसे पहले बूथ सम्मेलन और क्लस्टर सम्मेलन करके इसकी शुरुआत की थी. हमने लगभग डेढ़ सौ से ज्यादा क्लस्टर सम्मेलन किए थे.  राष्ट्रीय स्तर पर अट्ठारह समितियों की रचना की गई थी.  प्रदेश की 29 लोकसभा चुनाव समितियां बनी जिनमें 435 वरिष्ठ नेता थे.  इसमें 7230 कार्यकर्ताओं को भी जिम्मेदारी दी गई थी.

 

उनका कहन था कि जो सीटें भारतीय जनता पार्टी नहीं जीत पाई थी उसको भी लक्ष्य बनाकर हमें काम किया और हम हमें उम्मीद है कि जब परिणाम आएंगे तो उनमें भी हमेशा सफलता मिलेगी. 120 लोकसभा सीटों में सभी क्लस्टर में हमारे वरिष्ठ नेताओं ने ताकत देने की कोशिश की.

 

 भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि शायद ही कोई पार्टी होगी जो लगातार 3 वर्षों तक 3000 से अधिक पूर्णकालिक कार्यकर्ता अलग-अलग लोकसभा क्षेत्रों में काम कर रहे हो.  2566 विधानसभाओं में हमारे फुल टाइमर कार्यकर्ता काम करते रहे हैं.  उन्होंने कहा कि हमने ढेर सारे संगठनात्मक और राजनीतिक कार्यक्रम भी शुरू किए थे.

 

उन्होंने याद दिलाया कि  मेरा बूथ सबसे मजबूत इसके तहत प्रधानमंत्री जी ने देशभर के सभी बूथ प्रभारियों से बात की थी सभी कार्यकर्ताओं से सीधी बात की थी.   प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन b400 आयोजित किए गए थे.  युवा सम्मेलन 480 लोकसभा क्षेत्रों में आयोजित किए गए थे.  उन्होंने कहा कि मेरा परिवार भाजपा परिवार इसके तहत भी बहुत सारे नेताओं ने ऐसे घरों का रिंकी फाई किया जिन पर झंडा लगाने का काम किया.  लगभग 38 विधानसभाओं में कमल संदेश देने की कोशिश की.   कमल दीपावली का कार्यक्रम भी आयोजित किया गया. 

 

 भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मैं भी चौकीदार हूं देश भर में अभियान चला.  यह जनता की ओर से चलाया गया अभियान था.  हमने देश के सभी वर्गों से सुझाव इकट्ठा किए थे और उसको एक संकल्प पत्र के रूप में हमने शुरू किया.  161 कॉल सेंटर में काम किया और 15683 कॉलेज इसमें से अधिकांश समाधि कार्यकर्ता थे.   इन्होंने 21 करोड़ लाभार्थियों से संपर्क करने की कोशिश की.. बड़े पैमाने पर जनसंपर्क किया गया लाभार्थियों के साथ.

 

 उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की योग्यता के कारण ढेर सारे लोग भाजपा के साथ जुड़े जबकि विभाग भाजपा के कार्यकर्ता नहीं थे.  लोगों का की सोच थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुनः प्रधानमंत्री बने इसलिए उन्होंने निस्वार्थ भाव से काम किया. उन्होंने कहा कि मैं भी चौकीदार हूं मोदी सरकार फिर एक बार इस सब सारे नारे जनता नहीं दिए थे अब जनता ने ही चुनाव के अंतिम चरण में फिर एक बार मोदी सरकार के नारा को बदलकर बार बार मोदी सरकार का नारा दे दिया.

 

 भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री की ओर से किये गए देशभर में चुनावी दौरे की जानकारी  दी. उन्होंने कहा कि अब तक कि देश की आजादी के बाद से प्रधानमंत्री के चुनावी अभियान की अगर तुलना की जाए तो हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अब तक का सबसे अधिक चुनावी अभियान का परिश्रम किया है.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शायद ही देश का कोई ऐसा कोना रहा होगा जहां वह फरवरी से लेकर अब तक दौरा न किया है. चुनाव अभियान के तहत बहुत सारे जगह पर कार्यक्रम हुए.  28 मार्च 2019 से 142 जनसभाओं को प्रधानमंत्री जी ने संबोधित किया. चार बड़े रोड शो की. इन सभाओं में उन्होंने एक करोड़ पचास लाख से अधिक लोगों के साथ सीधा संबंध स्थापित किया. 10,000 से अधिक  जनसंवाद किया.

 

 मोदी सरकार की सभी योजनाओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम ने लगभग 7000 से अधिक लाभार्थियों के साथ सीधा संवाद किया.  पीएम ने 1 दिन में 5 जनसभाओं को संबोधित किया.  कम से कम 1000 किलोमीटर की यात्रा पर उन्होंने तय की और अधिकतम 4000 किलोमीटर की यात्रा की.  उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत की सभी प्रकार के मौसम में जनता संवाद किया इसमें उन्होंने 18 डिग्री सेंटीग्रेड से लेकर 46 डिग्री सेंटीग्रेड तक के तापमान में लोगों से जनसंपर्क अभियान किया.  पीएम ने कुल 142 जनसभाओं को संबोधित किया.

 

 अमित शाह ने कहा कि मैंने भी  312 जनसभाओं को संबोधित किया. 158000 किलोमीटर का दौरा किया.  उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की राजनेताओं ने भी 15 सौ से अधिक सभाएं की.  उन्होंने कहा कि 38 विधानसभा क्षेत्रों में प्रत्येक विधानसभा में कम से कम चार सभाएं आयोजित की गई.  उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आत्मा आगे आदित्यनाथ ने 135 सभाएं की.  त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 58,  58 जय राम एक 106 जन जनसभाओं को संबोधित किया.

 

 भाजपा अध्यक्ष ने बल देते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी 300 से अधिक सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत की सरकार हम बनाने जा रहे हैं.  उन्होंने याद दिलाया कि मोदी जी ने प्रिंट मीडिया व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया हो सभी को सबसे अधिक इंटरव्यू देकर पत्रकारों का भी सामना किया.

 

 प्रेस वार्ता को पीएम नरेंद्र मोदी ने भी संबोधित किया. उन्होंने कहा कि  पहले तो हमारा यही काम रहता था कि पार्टी दफ्तर में शाम को आप लोगों के साथ चाय पीना लेकिन मुझे आज अच्छा लगा कि मुझे आज आपके बीच आने का अवसर मिला है. थोड़ी आने में देर. हुई.  मैं मध्य प्रदेश में था इसलिए वहां से सीधा यहां आया.

 पीएम ने कहा मैं मानता हूं कि कुछ बातें हम दुनिया के लिए गर्व के साथ कह सकते हैं. यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है.  इसकी ताकत क्या है यह विश्व के सामने ले जाना यह हम सबका दायित्व है. यह किसी पॉलीटिकल पार्टी का नहीं है.  विश्व को हमें प्रभावित करना चाहिए. हमारे डेमोक्रेसी कितनी वाइब्रेंट है. इतनी अच्छाइयां है उसमें.  इतना बड़ा चुनाव चल रहा है.  2009 और 2014 के चुनाव ऐसे गए कि आईपीएल को भी बाहर ले जाना पड़ा था.  जब सरकार सक्षम होती है तो रमजान भी चलता है आईपीएल मैच भी चलते हैं राम जयंती भी होती है और चुनाव भी चलते हैं बच्चों के एग्जाम भी चलते हैं.  सब कुछ सामान्य चलता रहता है. यह हमारे देश की सबसे बड़ी ताकत है. यह भारत के लिए गौरव की बात है. 

 

उन्होंने कहा कि पत्रकारिता जगत में मैंने देखा है कि जब नेचुरल कैलेमिटी होती है तब उनकी हालात बड़ी ख़राब होती है.  कंपटीशन होने के बाद बहुत ज्यादा भागदौड़ करनी पड़ती है काम करना पड़ता है और जब सोशल मीडिया आया तो और ज्यादा कंपटीशन बढ़ गए हैं.  पत्रकारों से कहा कि आप भी बहुत परेशान हुए है.  लेकिन कुला मिला कर शानदार रहा चुनाव प्रचार.

 

 उन्होंने कहा कि मेरा मत है कि पूर्ण बहुमत वाली सरकार 5 साल पूरे कर के दोबारा जीतकर आए बहुत अरसे बाद होने वाला है.  बहुत लंबे अरसे बाद हो रहा है, बहुत बड़ी बात है.  दूसरा तय करके चुनाव लड़ा गया हो और चुनाव में सरकार बनती हो .  उन्होंने कहा कि या तो कभी किसी पारिवारिक परंपरा से सरकार मिल जाती है, बन जाती है, या फिर किसी कारण से कोई अवसर पैदा हो गया लेकिन  2019 में ऐसा कुछ नहीं है.  इसका विश्लेषण जरूर होना चाहिए .

 

उन्होंने कहा कि मेरा बड़ा सुखद अनुभव रहा है.  मैं जब चुनाव प्रचार के लिए निकला मैंने एक ही धार पर चुनाव को रखा. मैंने एक ही बात देशवासियों से कहा कि मैं आपको धन्यवाद करने आया हूं कि 5 साल आपने मुझे काम करने का मौका दिया.  अनेक उतार-चढ़ाव आए होंगे, अनेक मोड़ आए होंगे लेकिन हर समय देश का पूरा सहयोग रहा. इसलिए मेरे लिए चुनाव अभियान एक प्रकार से 5 साल के लिए जनता जनार्दन की ओर से मिले सहयोग का धन्यवाद करने वाला है.

 

पीएम ने कहा कि  मैं आज पत्रकारों के बीच भी धन्यवाद करने आया हूं.  आपके माध्यम से देशवासियों का भी धन्यवाद करना चाहता हूं.  धन्यवाद के साथ मैंने यह भी कहा जो मैंने काम शुरू किया है उसे आगे बढ़ाने के लिए मुझे आशीर्वाद चाहिए और मुझे लग रहा है कि इस बार भी जनता पहले से ज्यादा बढ़ चढ़ कर आशीर्वाद दे रही है.  मैंने कहा कि 16 मई 2014 को पहले रिजल्ट आया था.  उस समय बहुत बड़ी कोई कैजुअल्टी हुई थी आज 17 मई है.  17 मई को सत्ता को रोको मोदी की हाजिरी का सबसे बड़ा नुकसान हुआ था.  सत्ता खबरों को अरबों खरबों का नुकसान हुआ था.

 

 सट्टा बाजार चलता था कांग्रेस की देर से चलता था और भाजपा के लिए 218 के आसपास का चलता था लेकिन सब के सब गए थे डूब गए थे.  ईमानदारी की  17 मई 2014 से शुरुआत हो गई थी.

 

 यह ने दावा किया कि देश की जनता ने तय कर लिया है.  हमने भी देश को आगे ले जाने के लिए अपने संकल्प पत्र में बहुत सारी बातें जितना हो सके उतना जल्दी नई सरकार अपना कार्यभार शुरू करेगी. एक के बाद एक करते हुए हम आगे बढ़ेंगे.  हमारी सरकार की जो विशेषता रही है वह है लास्ट माइल डिलीवरी.  मुझे लगता है कि उसका नया कल्चर है.  लाभार्थी का जो आखिरी व्यक्ति तक जो हमने किया है. एक्स वीडियो

 

 क्रांति ने कहा कि अमित भाई साहब जो बता रहे थे वह पत्रकारों को थकाने वाली बात हो सकती है लेकिन यह विशेषण करने वाली बात है कि आखिर संगठन के आधार पर किस तरह से चुनाव लड़ा जाता है ऋतिक बड़ी ताकत लगती है कितनी मेहनत करनी पड़ती है.  उन्होंने कहा कि यह विश्लेषण का और रिसर्च का विषय है पत्रकारों के लिए भी कि उन्हें यह समझना जरूरी है कि आखिर राजनीतिक पार्टी ऐसे नहीं चलती बल्कि संगठन को खड़ा करने संगठन को चलाने और संगठन के आधार पर भारत जैसे विविधता भरे लोकतंत्र में चुनाव में शामिल होना और उसमें सफलता हासिल करना कितना कठिन और कितनी मेहनत का काम है.

 

 उन्होंने कहा कि मेरी पहली सभा मेरठ में हुई और आखरी सभा आज मध्य प्रदेश में हुई.  उन्होंने कहा कि सारी चीजें हम पहले से नहीं बताते हैं लेकिन ऐसा नहीं कि सारी योजना बनाकर हम चलते हैं कुछ चीजों को जरूर हम रणनीति के अनुसार हम दबा कर रखते हैं.  उन्होंने कहा एक भी कार्यक्रम मेरा कैंसिल नहीं हुआ अगर कभी कोई हेलीकॉप्टर खराब हो गया एक हेलीकॉप्टर में सबको ले लेते थे.  पहले दिन से ही चेहरे पर जो उत्साह उमंग था आज उसी उत्साह और उमंग के साथ में आज आया हूं.

 

एक सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि  विपक्ष से और कोई अपेक्षा नहीं की जा सकती.  मैं यह जरूर बताना चाहता हूं कि भारतीय जनता पार्टी की ओर से कहीं भी यह शुरुआत नहीं हुई. उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मुद्दों को जनता के सामने रखना यह लोकतंत्र का तकाजा है और अगर उसे आप चुनाव का स्तर गिरा ना कहते हो तो फिर यह व्यावहारिक  नहीं है.  अमित शाह ने कहा कि सरकार आने के बाद जनता पार्टी के पास पूर्ण बहुमत होगा या मेरा पूर्ण विश्वास है इसमें किसी प्रकार की कोई आशंका नहीं है.  सरकार एनडीए की ही बनेगी और उसके बाद भी हमारी नीतियां और कार्यक्रम के अनुसार को जोड़ना चाहता है तो उनका स्वागत है.

 

 पत्रकारों के सवाल पर भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि 2014 से ही हमने 50% की लड़ाई शुरू की थी.

 उन्होंने कहा कि 22 करोड़ लाभार्थी केंद्र थे और हमें बिजली वर्षों में 17 वोट मिले थे.  उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश त्रिपुरा जैसे राज्यों में हमने 50% को क्रॉस किया है. उन्होंने कहा कि मैं बैकफुट पर जरा सा भी नहीं हूं मैं अपने विश्वास आपने कार्यक्रम योजनाओं और कानून के आधार पर जनता के बीच में जाकर छोटी-छोटी रूप में सामने रखा.  हमें पूरा भरोसा है कि विपक्ष से गलत प्रसार प्रचार का जनता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

 

 भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मेरे 80 कार्यकर्ता पिछले डेढ़ साल मारे गए हैं.  ममता जी के पास क्या जवाब है आखिर कौन हिंसा फैला रहे हैं.  उन्होंने कहा कि हम तो देश की और सभी राज्यों में भारतीय जनता पार्टी के रूप में रहे हैं लेकिन वहां तो किसी प्रकार की कोई हिंसा नहीं हो रही है केवल पश्चिम बंगाल में हिंसा क्यों हो रही है यह विचारणीय तथ्य है.  उन्हें पति सवाल किया कि अगर हमारे कारण हिंसा होती तो हम तो सब जगह चुनाव लड़ रहे हैं फिर तो सभी जगह होनी चाहिए.

 

 एक सवाल पर अमित शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने नाथूराम गोडसे के मामले में दिए गए साध्वी प्रज्ञा के बयान पर उसे शो कॉज नोटिस जारी करने का फैसला लिया है और उसके जवाब आने के बाद उस पर फैसला लिया जाएगा.

 

उन्होंने कहा कि हमारे विश्वास का आधार नरेंद्र मोदी सरकार ने जो 5 साल में काम किए हैं उस काम का आधार है.  चुनाव देश का प्रधानमंत्री चुनने का चुनाव है. देश में किस पार्टी की सरकार बनेगी इस पर फैसला करने का चुनाव है.

 

 उन्होंने कहा कि साध्वी प्रज्ञा के बयान पर पूरी भारतीय जनता पार्टी को खेद है इसीलिए पूरित कार्रवाई की गई है.  तीनों नेताओं के जो बयान आए हैं उससे पार्टी  स्वयं को अलग करती है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *