गुरुग्राम में बनेगा एक एडमिनिस्ट्रेटिव टावर, जिसमें होंगे सभी सरकारी विभागों के कार्यालय

Font Size

– राजस्व विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव ने गुरुग्राम आकर इस टावर को बनाने के लिए अधिकारियों के साथ किया विचार विमर्श 

गुरूग्राम :  गुरूग्राम में एक भव्य एडमिनिस्ट्रेटिव टावर बनाया जाएगा जिसमें सभी सरकारी विभागों के कार्यालय होंगे। यह टावर मौजूदा लघु सचिवालय के साथ ही बनेगा। इस एडमिनिस्ट्रेटिव टॉवर के निर्माण तथा राजस्व विभाग से संबंधित अन्य गतिविधियों को लेकर आज राजस्व विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनंद अरोड़ा ने गुरुग्राम में पहुंचकर संबंधित अधिकारियों की बैठक की। यह बैठक लोक निर्माण विभाग के कांफ्रेंस हॉल में आयोजित की गई थी।

श्रीमती अरोड़ा ने कहा कि गुरुग्राम के स्वरूप के अनुरूप यहां पर एक भव्य एडमिनिस्ट्रेटिव टावर बनाया जाएगा जिसमें सभी सरकारी विभाग शिफ्ट किए जाएंगे ताकि लोगों को अपने रोजमर्रा के कार्यों के लिए किसी प्रकार की कठिनाई ना आए। उन्होंने इस टावर के लिए लघु सचिवालय के आसपास की जमीन का मौका मुआयना भी किया। मौका मुआयना करने के बाद श्रीमती अरोड़ा ने लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता चंद्रमोहन की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की है, जो लघु सचिवालय के आसपास की जमीन की पैमाइश करवा कर उसकी ले-आउट प्लान तैयार करेगी। इस कमेटी में गुरुग्राम उत्तरी के एसडीएम जितेंद्र कुमार के अलावा जिला राजस्व अधिकारी विजय यादव तथा गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण के प्रतिनिधि शामिल होंगे। यह कमेटी राजीव चौक से लेकर टावर ऑफ जस्टिस तथा उसके पीछे की कृषि विभाग तथा आबकारी एवं कराधान विभाग की बिल्डिंग वाली जगह सहित संपूर्ण एरिया की प्लानिंग करेगी। प्लानिंग में एडमिनिस्ट्रेटिव टावर, वाहनों की पार्किंग, अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए रिहायशी टावर, हरेरा भवन, कम्युनिटी सेन्टर का निर्माण, वाहनों के आवागमन का रूट आदि चिन्हित किए जाएंगे। कार्यालयों में आने वाले कर्मचारियों तथा आम जनता के वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था कहां और कैसे होगी। आज की बैठक में यह सुझाव आया कि एडमिनिस्ट्रेटिव टावर में बेसमेंट में 3 स्तर की पार्किंग की व्यवस्था की जानी चाहिए तथा मौजूदा लघु सचिवालय में उपलब्ध पार्किंग स्पेस मे भी बेसमेंट बनाकर मल्टी लेवल पार्किंग के प्रबंध किए जाने चाहिए।अतिरिक्त मुख्य सचिव ने ट्रैफिक पुलिस को भी इस क्षेत्र की ट्रैफिक प्लान तैयार करने के आदेश दिए हैं।

इसी प्रकार, राजस्व विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती अरोड़ा ने दूसरी कमेटी गुरुग्राम मंडल के आयुक्त मोहम्मद शायीन की अध्यक्षता में बनाई है जिसमें उपायुक्त अमित खत्री को भी शामिल किया गया है। यह कमेटी इस बात का निर्णय करेगी कि नए बनाए जाने वाले एडमिनिस्ट्रेटिव टावर तथा मौजूदा लघु सचिवालय में कौन-कौन से कार्यालय स्थापित होंगे।

बाद में मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए श्रीमती अरोड़ा ने कहा कि राजस्व विभाग द्वारा कई नए प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया गया है जिसमें से एक है रिकॉर्ड रूम की कंप्यूटराइजेशन का कार्य, जिसके लिए टेंडर आवंटित कर दिए गए हैं। रिकॉर्ड रूम का सारा रिकॉर्ड कंप्यूटराइज्ड होने के बाद रिकॉर्ड गुम होने या खराब होने का भय नहीं रहेगा, साथ ही आम जनता को भी उससे फायदा होगा। उन्होंने बताया कि हाल ही में मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की उपस्थिति में सर्वे जनरल ऑफ इंडिया के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए थे उसके लिए मूलभूत आवश्यकताओं के बारे में भी आज की गुरुग्राम में आयोजित बैठक में विचार विमर्श किया गया है।

श्रीमती अरोड़ा के साथ गुरुग्राम मंडल के आयुक्त मोहम्मद शायीन, उपायुक्त अमित खत्री, नगर निगम आयुक्त यशपाल यादव, जिला राजस्व अधिकारी विजय यादव, लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता चंद्रमोहन, जीएमडीए से जितेंद्र मित्तल, नगर निगम के मुख्य अभियंता एन डी वशिष्ठ, गुरूग्राम उत्तरी के एसडीएम जितेंद्र कुमार, सोहना की एसडीएम डॉ चिनार चहल, एसीपी ट्रैफिक अशोक कुमार सहित कई अधिकारीगण उपस्थित थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *