परशोत्तम रुपाला एएचआईडीएफ के तहत पहले 75 उद्यमियों को सम्मानित करेंगे 14 जुलाई को

Font Size

– आजादी का अमृत महोत्सव के तहत ख़ास आयोजन 

नई दिल्ली : केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री परशोत्तम रुपाला पशुपालन अवसंरचना विकास कोष (एएचआईडीएफ) परियोजनाओं का शुभारंभ करेंगे और एएचआईडीएफ सम्मेलन में 75 उद्यमियों को सम्मानित करेंगे। इस कार्यक्रम को केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉ. संजीव कुमार बालियान, और मंत्रालय के साथ-साथ सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री डॉ. एल. मुरुगन संबोधित करेंगे। मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय 14 जुलाई को आज़ादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में नई दिल्ली के जनपथ स्थित डॉ. अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर के भीम हॉल में एएचआईडीएफ सम्मेलन का आयोजन कर रहा है।

इस एक दिवसीय सम्मेलन में इस विषय में ज्ञान साझा करने, एएचआईडीएफ परिचालन दिशानिर्देश 2.0 का शुभारंभ करने, एएचआईडीएफ ऑनलाइन पोर्टल को नया रूप देने, क्रेडिट गारंटी ऑनलाइन पोर्टल जारी करने, एएचआईडीएफ योजना के समर्थन से स्थापित पांच प्रमुख संयंत्रों का उद्घाटन करने, उद्यमियों/ऋणदाताओं की सुविधा और सभी हितधारकों और आने वाले उद्यमियों के बीच नेटवर्किंग के उद्देश्य से विभिन्न सत्र होंगे, जिनमें सम्मानित पैनल सदस्यों द्वारा इन विषयों पर चर्चा की जाएगी।

प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत अभियान प्रोत्साहन पैकेज में 15000 करोड़ रुपये की लागत से पशुपालन अवसंरचना विकास कोष (एएचआईडीएफ) की स्थापना के बारे में उल्लेख किया गया है। एएचआईडीएफ योजना को व्यक्तिगत उद्यमियों, निजी कंपनियों, किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) और धारा 8 कंपनियों को निम्न कार्यों में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए मंजूरी दी गई है:

(I) डेयरी प्रसंस्करण और उत्पाद विविधीकरण अवसंरचना

(II) मांस प्रसंस्करण और उत्पाद विविधीकरण अवसंरचना

(III) पशु चारा संयंत्र

(IV) नस्ल सुधार प्रौद्योगिकी और नस्ल गुणन फार्म

(V) पशु चिकित्सा वैक्सीन और औषधि उत्पादन सुविधाओं की स्थापना

(VI) पशु अपशिष्ट से धन प्रबंधन (कृषि अपशिष्ट प्रबंधन)

इस सम्मेलन का आयोजन पशुपालन और डेयरी विभाग भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक और उद्योग संघों आदि के सहयोग से कर रहा है। सम्मेलन का उद्देश्य प्रतिभागियों की एएचआईडीएफ योजना से संबंधित सर्वोत्तम संभव ज्ञान तक पहुंच और सुविधा सुनिश्चित करना है। सम्मेलन में लगभग 500 उद्यमियों/हितधारकों, ऋणदाताओं/एसएलबीसी, सरकारी अधिकारियों (राज्य और केंद्र सरकार), सामान्य सेवा केंद्रों, उद्योग संघों/किसान संघों और सरकारी संगठनों की भागीदारी होने की उम्मीद है।

एएचआईडीएफ (विभिन्न श्रेणियों/एफपीओ/किसान/महिला) के तहत प्रथम 75 उद्यमियों का अभिनंदन किया जाएगा। एएचआईडीएफ के लिए निम्न कार्यों के अलावा एक संशोधित ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया जाएगा:

-पांच पौधों का वर्चुअल उद्घाटन
-शीर्ष तीन ऋणदाताओं का अभिनंदन
-शीर्ष प्रदर्शन करने वाले राज्यों का अभिनंदन
-एएचआईडीएफ संचालन दिशानिर्देश 2.0 का शुभारंभ
-क्रेडिट गारंटी के ऑनलाइन पोर्टल का शुभारंभ
-सफलता की कहानियों पर पुस्तिका का उद्घाटन
-दर्शकों के साथ पैनल चर्चा

यह सम्मेलन न केवल मौजूदा लाभार्थियों को प्रेरित करेगा बल्कि सभी संभावित हितधारकों की उपस्थिति में योजना के बारे में जागरूकता और पहुंच सुनिश्चित करने में भी मदद करेगा। लाभार्थियों के अनुभव साझा करने से आवेदन में आसानी और वितरण की तेज प्रक्रिया का वास्तविक अनुभव मिलेगा और संबंधित गतिविधियों से अधिक निवेश आकर्षित होगा। नई जोड़ी गई श्रेणियां जिनका बहुत व्यापक दायरा है, उन्हें भी इस सम्मेलन के माध्यम से प्रचारित किया जाएगा।

पोर्टल की मुख्य विशेषताएं:

संशोधित पोर्टल में दो भाषाओं में सामग्री होगी
विभिन्न एनालिटिक्स टूल और उन्नत सुविधाओं के साथ अनुकूलित डैशबोर्ड जैसे:
* टीएटी विश्लेषण

* पेंडेंसी विश्लेषण

* रोजगार विश्लेषण

* दो मापदंडों की तुलना

* वर्षवार आवेदन विश्लेषण

* संवितरण विश्लेषण

* बैंकों के साथ लंबित मामले

* सेक्टर पर प्रभाव

ग. आवेदकों के ट्यूटोरियल वीडियो

घ. परियोजना स्थल की जीआईएस लोकेशन के लिए गूगल मेप के साथ जुड़ना

ड. सिबिल के साथ जुड़ाव, जो उधारदाताओं के लिए बहुत उपयोगी होगा

च. क्रेडिट गारंटी कवरेज के लिए सीजीटीएमएसई पोर्टल के साथ जुड़ाव

छ. ऑनलाइन क्लेम जेनेरेशन मॉड्यूल का विकास

ज. एएचआईडीएफ पोर्टल हेल्पडेस्क

 

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: