इस्पात मंत्री आर सी पी सिंह ने सूरत में इस्पात स्लैग से निर्मित पहली छह लेन वाली सड़क का उद्घाटन किया

Font Size

सड़क निर्माण में इस्पात स्लैग के व्यापक उपयोग के लिए दिशा-निर्देश तैयार किया जाना है

सूरत : केंद्रीय इस्पात मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह ने आज गुजरात के सूरत में शहर के साथ पत्तन को जोड़ने के लिए इस्पात स्लैग (धातु की तलछट या मैल) के उपयोग से निर्मित पहली छह लेन वाली राजमार्ग सड़क का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मंत्री ने सभी अपशिष्ट को संपत्ति में परिवर्तित करके सर्कुलर (चक्रीय) अर्थव्यवस्था और संसाधन दक्षता को बढ़ावा देने की जरूरत पर जोर दिया।

 

उन्होंने 15 अगस्त, 2021 को दिए गए प्रधानमंत्री के भाषण को याद किया। मंत्री श्री सिंह ने चक्रीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने की जरूरत का विशेष उल्लेख किया, क्योंकि विश्व में सभी प्रकार के प्राकृतिक संसाधनों की कमी हो रही है। उन्होंने आगे कहा, “ऐसी स्थिति में चक्रीय अर्थव्यवस्था समय की मांग है और इसे हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बनाने की जरूरत है। इस्पात प्रसंस्करित स्लैग के 100 फीसदी उपयोग से निर्मित सड़क अपशिष्ट को संपत्ति में बदलने और इस्पात संयंत्रों की स्थिरता में सुधार का एक वास्तविक उदाहरण है।” मंत्री ने आगे कहा कि सड़क निर्माण में ऐसी सामग्री के उपयोग से न केवल टिकाऊपन बढ़ेगा, बल्कि निर्माण की लागत को कम करने में भी सहायता मिलेगी, क्योंकि स्लैग आधारित सामग्री में प्राकृतिक घटकों की तुलना में बेहतर विशेषताएं होती हैं। उन्होंने कहा कि इससे प्राप्त अनुभव का उपयोग सड़क निर्माण में इस्पात स्लैग के व्यापक इस्तेमाल के लिए विस्तृत दिशानिर्देश विकसित करने में किया जाएगा।

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00211EW.jpg?resize=427%2C287&ssl=1

 

इस्पात मंत्री ने आगे कहा कि उनका मंत्रालय सड़क निर्माण, कृषि में मिट्टी के पोषक तत्वों व उर्वरकों के प्रतिस्थापन, रेलवे के लिए गिट्टी (रोड़ा) और हरित सीमेंट बनाने के लिए ऐसी सामग्री का उपयोग करने को लेकर अन्य सभी विकल्पों की तलाश कर रहा है। इस्पात मंत्रालय ने पहले ही इस्पात विनिर्माण के दौरान प्राप्त विभिन्न प्रकार के स्लैग के उपयोग के लिए कई अनुसंधान व विकास परियोजनाएं स्वीकृत की हैं और जिनमें से अधिकांश को एक दायित्व के रूप में देखा जा रहा है। इस्पात स्लैग का उपयोग करके सड़क का निर्माण करना अन्य प्रमुख इस्पात कंपनियों के साथ अनुसंधान व विकास परियोजना का भी हिस्सा है, जो मंत्रालय की ओर से प्रायोजित है।

https://i0.wp.com/static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003UTPL.jpg?resize=459%2C257&ssl=1

 

चूंकि, देश में विभिन्न प्रक्रियागत साधनों से इस्पात स्लैग का उत्पादन अभी से 2030 तक बढ़ने की संभावना है, इसे देखते हुए सड़क निर्माण में इस्पात स्लैग का उपयोग से देश में प्राकृतिक घटकों की कमी दूर हो सकेगी।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: