पीएम मोदी ने अहमदाबाद में भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केन्द्र (IN-SPACe) के मुख्यालय का उद्घाटन किया

Font Size

अहमदाबाद । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात के अहमदाबाद में भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केन्द्र (IN-SPACe) के मुख्यालय का उद्घाटन किया। केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह और गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति कार्यक्रम में उपस्थित थे।

इस अवसर पर अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथ से (IN-SPACe) के मुख्यालय के उद्घाटन के साथ ही भारत ने अंतरिक्ष क्षेत्र में एक बहुत बड़ा पड़ाव हासिल कर लिया है। आजादी के अमृत महोत्सव के वर्ष में अंतरिक्ष के क्षेत्र में अब तक भारत और ISRO ने जो कुछ भी उपलब्धियां प्राप्त की थी उन्हें प्रैक्टिकल उपयोग में लाना, जमीन पर उतारना और इसके साथ-साथ निजी क्षेत्र की कंपनियों और स्टार्टअप्स को इसके साथ जोड़कर एक ऐसा इकोसिस्टम खड़ा करना कि अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत बहुत बड़ी छलांग लगाने के लिए आगे आए, यह कल्पना भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 2 साल पहले की जिसकी शुरुआत अंतरिक्ष क्षेत्र में प्रमुख सुधारों से हुई। इससे भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र में अपार संभावनाओं के द्वार तो खुलेंगे ही साथ-साथ भारतीय अंतरिक्ष उद्योग हमारी अर्थव्यवस्था में एक बहुत बड़ा कंट्रीब्यूटर भी बनेगा।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आज हम आज़ादी के 75वें साल में हैं लेकिन 2014 से पहले की सरकारों ने नीति निर्धारण में जितना काम होना चाहिए था वो नहीं किया। अनेक क्षेत्र ऐसे थे जो भारतीय लोगों, समाज और भारतीय टेक्नोक्रेट्स के लिए अनछुए रह गए क्योंकि इनके अनुकूल नीति ही नहीं थी। मोदी जी ने 2014 में देश के प्रधानमंत्री बनने के बाद सबसे बड़ा परिवर्तन जो किया तो वो ये कि भारत सरकार ने अनेक क्षेत्रों में नीति निर्धारण करके और उनके अनुरूप कार्यक्रमों की रचना करके अनेक क्षेत्रों की संभावनाओं को खोल दिया और अंतरिक्ष इनमें से एक है। उन्होंने कहा कि नई ड्रोन नीति, आयुष्मान भारत के साथ जोड़कर नई स्वास्थ्य नीति, मेक इन इंडिया के माध्यम से मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की नीति, स्टैंड अप इंडिया, स्किल्ड इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, डिजिटल इंडिया, उड़ान, आत्मनिर्भर भारत, पीएलआई योजना, ग्रीन इंडिया मिशन, स्वच्छ भारत, नेशनल पॉलिसी ऑन इलेक्ट्रॉनिक्स, डीबीटी, सुलभ भारत, मिशन शक्ति, जीएसटी को जमीन पर उतारना और स्मार्ट सिटी जैसी कई नीतियां और कार्यक्रम इस प्रकार से बनाए गए कि नए क्षेत्रों के लिए भारत का बाजार भी खुला और भारतीय युवाओं को एक मंच भी मिला जहाँ से वो विश्व के युवाओं के साथ ही स्पर्धा कर सके। आज मोदी जी ने जो IN-SPACe मुख्यालय का उद्घाटन किया है वह हमारे लिए अंतरिक्ष क्षेत्र में बहुत सारी संभावनाओं को जमीन पर उतारने का काम करेगा।

श्री शाह ने कहा कि 21वीं सदी का भारत आज जिस अप्रोच के साथ आगे बढ़ रहा है और जो सुधार कर रहा है, उनका मूल आधार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का भारत के लोगों की क्षमता पर अटूट विश्वास है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह कार्यक्रम भारत को अंतरिक्ष के क्षेत्र में बहुत ऊंचाई पर पहुंचाने में बहुत बड़ा कदम सिद्ध होने वाला है। मोदी जी ने स्पेस क्षेत्र, स्पेस टेक्नोलॉजी, स्पेस एप्लीकेशन और इसका कल्याणकारी उपयोग, इन सभी को संजोने के लिए इसकी कल्पना की थी और आज का यह कार्यक्रम उसी कल्पना की एक कड़ी है।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी के एक वाक्य का उल्लेख करते हुए कहा कि आज अंतरिक्ष के क्षेत्र में जरूरत इस बात की है कि प्रतिभा पर किसी तरह की बंदिश न हो चाहे वह प्रतिभा सार्वजनिक क्षेत्र की हो या निजी क्षेत्र की। श्री शाह ने कहा कि यहां से निजी क्षेत्र की प्रतिभाओं को प्लेटफॉर्म भी मिलेगा और सहायता भी और इसके साथ ही उनकी खोजों को जमीन पर उतारने के लिए रास्ता भी यहीं से निकाला जाएगा।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: