प्रधानमंत्री ने पुदुचेरी में 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन किया

Font Size

मुख्य बिन्दुः

 इस कार्यक्रम में पुदुचेरी की राज्यपाल डॉ. तमिलिसाई सुंदरराजन और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री श्री एन. रंगास्वामी और युवा कार्यक्रम एवं खेल राज्य मंत्री श्री निसिथ प्रमाणिक भी शामिल हुए।

नई दिल्ली :   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज पुदुचेरी में 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन किया। आज स्वामी विवेकानंद की जन्मजयंती है, इस दिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस कार्यक्रम के दौरान, प्रधानमंत्री ने “मेरे सपनों का भारत” और “भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के गुमनाम नायक” पर चयनित निबंधों का अनावरण किया। इन निबंधों को उक्त दो विषयों पर 1 लाख से अधिक युवाओं द्वारा प्रस्तुत लेखों से चुना गया है। प्रधानमंत्री ने पुदुचेरी में एमएसएमई मंत्रालय के एक प्रौद्योगिकी केंद्र का भी उद्घाटन किया, जिसे लगभग 122 करोड़ रुपये के निवेश से निर्मित किया गया है। प्रधानमंत्री ने लगभग 23 करोड़ रुपये की लागत से पुदुचेरी सरकार द्वारा निर्मित ओपन-एयर थिएटर सभागार- पेरुन्थालाइवर कामराजर मणिमंडपम का भी उद्घाटन किया। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर, श्री नारायण राणे, श्री भानु प्रताप सिंह वर्मा और श्री निसिथ प्रमाणिक, डॉ तमिलिसाई सुंदरराजन, पुदुचेरी के मुख्यमंत्री श्री एन रंगास्वामी, राज्य के मंत्री तथा संसद सदस्य उपस्थित थे।

सभा को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री ने देशवासियों को राष्ट्रीय युवा दिवस की शुभकामनाएं दीं। स्वामी विवेकानंद को नमन करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के इस वर्ष में उनकी जन्मजयंती और अधिक प्रेरणादायी हो गई है। प्रधानमंत्री ने इस वर्ष के अतिरिक्त महत्व को रेखांकित किया क्योंकि श्री अरबिंदो की 150वीं जन्मजयंती का उत्सव और महाकवि सुब्रमण्यम भारती की 100वीं पुण्यतिथि भी इसी वर्ष पड़ रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, “इन दोनों मनीषियों का पुदुचेरी से खास रिश्ता रहा है। ये दोनों एक-दूसरे की साहित्यिक और आध्यात्मिक यात्रा के साझेदार रहे हैं।”

प्रधानमंत्री ने पुदुचेरी में 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन किया 2

इस प्राचीन देश की युवा पहचान के बारे में बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज दुनिया भारत को एक आशा और विश्वास की दृष्टि से देखती है। क्योंकि भारत का जन भी युवा है और भारत का मन भी युवा है। भारत अपने सामर्थ्य से भी युवा है और अपने सपनों से भी युवा है। भारत अपने चिंतन से भी युवा है और अपनी चेतना से भी युवा है। उन्होंने कहा कि भारत की सोच एवं दर्शन ने हमेशा बदलाव को स्वीकार किया है और इसकी प्राचीनता में आधुनिकता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के युवा हमेशा जरूरत के समय आगे आए हैं। जब भी राष्ट्रीय चेतना में विभाजन होता है, शंकर जैसे युवा सामने आते हैं और आदि शंकराचार्य के रूप में देश को एकता के सूत्र में पिरोते हैं। अत्याचार के काल में गुरु गोबिंद सिंह जी के साहिबजादे जैसे युवाओं के बलिदान आज भी हमारा मार्गदर्शन करते हैं। जब भारत को अपनी आजादी के लिए बलिदान की जरूरत थी, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद और नेताजी सुभाष जैसे युवा क्रांतिकारी देश के लिए अपना जीवन समर्पित करने के लिए आगे आए। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब कभी देश को आध्यात्मिक उत्थान की जरूरत होती है, अरबिंदो और सुब्रमण्यम भारती जैसे मनीषी सामने आते हैं।

प्रधानमंत्री ने सराहना करते हुए कहा कि आज भारत के युवा वैश्विक समृद्धि की गाथा लिख ​​रहे हैं। पूरी दुनिया के यूनिकॉर्न इकोसिस्टम में भारतीय युवाओं का जलवा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज के युवा ‘कर सकता हूं’भावना से ओतप्रोत है, जो हर पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है।

प्रधानमंत्री का पूरा संबोधन देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://www.pib.gov.in/PressReleasePage.aspx?PRID=1789347

प्रधानमंत्री ने पुदुचेरी में 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन किया 3

अनुराग ठाकुर ने आज अपने संबोधन के दौरान राष्ट्रीय युवा दिवस के महत्वपूर्ण अवसर पर युवाओं को संबोधित करने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। श्री ठाकुर ने कहा कि स्वामी विवेकानंद हम सभी के लिए प्रेरणा के महान स्रोत हैं जिनकी जयंती 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जाती है। खेल मंत्री श्री ठाकुर ने कहा कि हमें स्वामी विवेकानंद के जीवन से बहुत कुछ सीखने की आवश्यकता है जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भारत के संदेश एवं दृष्टिकोण को प्रस्तुत किया और दुनिया में देश की छवि को मजबूत किया। श्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि जहां हमारा देश हमारे प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व में आगे बढ़ रहा है, वहीं देश के युवा भी प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में देश को एक नई दिशा देने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

श्री ठाकुर ने कहा कि वर्तमान समय में हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, ऐसे समय में हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि देश की आजादी के लिए लाखों युवाओं ने अपने प्राणों की आहुति दी। ऐसे में देश के युवाओं को स्वतंत्रता के 100 वें वर्ष के अवसर तक देश को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए।

 

प्रधानमंत्री ने पुदुचेरी में 25वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव का उद्घाटन किया 4

श्री अनुराग ठाकुर ने दोहराया कि प्रधानमंत्री के लिए खिलाड़ियों का एक विशेष स्थान है और युवा उनके दिल में बसते हैं। टोक्यो ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों में खिलाड़ियों ने देश का नाम रोशन किया है। वहीं प्रधानमंत्री के फिट इंडिया अभियान, फिटनेस का डोज़ आधा घंटा रोज़ और खेलो इंडिया कार्यक्रम के मंत्र ने देश के युवाओं में खेलों को बढ़ावा दिया है।

 

श्री ठाकुर ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्किल इंडिया को बढ़ावा दिया है जिससे करोड़ों युवाओं को कौशल प्रदान करने में मदद मिली है। स्टार्ट-अप इंडिया कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री द्वारा विशेष जोर दिए जाने से भारत दुनिया के शीर्ष तीन स्टार्ट-अप देशों में शामिल हुआ है। श्री ठाकुर ने युवाओं से अनुरोध किया कि जहां हमारे प्रधानमंत्री देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए काम कर रहे हैं, वहीं हम में से प्रत्येक को एक ऐसे क्षेत्र को चुनना और समर्पित करना चाहिए जहां हम बदलाव लाना चाहते हैं।

मंत्री महोदय ने कवि, देशभक्त, दार्शनिक, महर्षि और योग गुरु श्री अरबिंदो की महानता पर भी प्रकाश डाला, जिनकी 150 वीं जयंती भी मनाई जा रही है।

युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री ने राष्ट्रीय युवा महोत्सव पर प्रकाश डाला। श्री ठाकुर ने कहा, “युवा महोत्सव के दौरान, ओलंपियन, पर्यावरण, जलवायु, प्रौद्योगिकी, उद्यमिता सहित, स्टार्ट-अप, इतिहास, प्राकृतिक खेती के प्रतिनिधियों सहित,  विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ मार्गदर्शन करेंगे और युवाओं के साथ अपने अनुभव साझा करेंगे।”

पुदुचेरी के मुख्यमंत्री  एन. रंगास्वामी ने कहा कि पुदुचेरी इस तरह के एक आशाजनक कार्यक्रम की मेजबानी करके गर्व महसूस कर रहा है और व्यक्तिगत रूप से वह इस महान युवा भारत निर्माण कार्यक्रम का हिस्सा बनकर सम्मानित महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा, “चरित्र के बिना शिक्षा, दान के बिना धन…!! नैतिकता के बिना वाणिज्य, मानवता के बिना विज्ञान…!! बेकार ही नहीं खतरनाक भी हैं…!!” श्री रंगास्वामी ने कहा कि चरित्र, दान, नैतिकता, मानवता, सत्यनिष्ठा और कुछ नहीं बल्कि एक आदर्श भारतीय युवा के लिए महत्वपूर्ण मूल्य हैं और ‘सशक्त युवा’ में ये सभी विशेषताएं होंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुदुचेरी ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान कई महान नेताओं की रक्षा की। महर्षि श्री अरबिंदो, महाकवि भारती, वीवीएस अय्यर जैसे महान नेता अंग्रेजों के चंगुल से बचकर पुदुचेरी केंद्र शासित प्रदेश में रहते थे। “पुदुचेरी को लोकप्रिय रूप से ज्ञान भूमि या वेद भूमि के नाम से जाना जाता है। उन्होंने कहा कि हम सम्मानित महसूस कर रहे हैं कि हमारे माननीय प्रधानमंत्री पुदुचेरी के इस पवित्र स्थान पर ‘कामराजर मणिमंडपम’ का उद्घाटन कर रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: