सीएम मनोहर लाल ने की ‘म्हारा गाँव – जगमग गाँव’ योजना के तहत 223 और गाँवों को शामिल करने की घोषणा

56 / 100
Font Size

मुख्यमंत्री ने पंचकूला में 72 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर फहराया राष्ट्रीय ध्वज

चंडीगढ़ 26 जनवरी : हरियाणा में गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति उपलब्ध कराने के अपने वायदे को पूरा करने की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज ‘म्हारा गाँव – जगमग गाँव’ योजना के तहत 223 और गाँवों को शामिल करने की घोषणा की। इन गाँवों को आज से 24 घंटे बिजली मिलनी शुरू हो जाएगी। इस प्रकार अब 24 घंटे बिजली मिलने वाले गाँवों की कुल संख्या 5223 हो गई है।
मनोहर लाल आज पंचकूला में 72 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में लगभग 1500 गाँव ऐसे हैं जहाँ 16 घंटे से 21 घंटे बिजली की आपूर्ति हो रही है। इन गांवों को भी जल्द ही 24 घंटे बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।


सबसे पहले मुख्यमंत्री ने युद्ध स्मारक पर जाकर माल्यार्पण करके शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल, हरियाणा पुलिस और नेशनल कैडेट कोर (एनसीसी) की टुकडय़िों की परेड का निरीक्षण किया।


मुख्यमंत्री ने देश की आजादी के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने वाले शहीदों और स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि हमारे वीर सपूतों के बलिदान के लिए राष्ट्र हमेशा उनका ऋणी रहेगा। इन वीर सपूतों द्वारा दिए गए बलिदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने स्वतंत्रता सेनानियों और उनके आश्रितों के कल्याण के लिए कई पहल की हैं। प्रदेश में स्वतंत्रता सेनानियों और उनकी विधवाओं को 25,000 रुपये की मासिक पेंशन प्रदान की जाती है। इसके अलावा, देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त होने वाले शहीदों के 332 आश्रितों को सरकारी नौकरी दी गई हैं। साथ ही, उनके परिवारों को एक्स-ग्रेसिया ग्रांट भी 20 लाख से रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये की गई है।
पंचकूलावासियों को गणतंत्र दिवस के अवसर पर बधाई देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचकूला 1995 में हरियाणा का 17वां जिला बना था। उन्होंने कहा कि पंचकूला का ऐतिहासिक दृष्टि से ही नहीं बल्कि धार्मिक दृष्टि से भी विशेष महत्व है। क्योंकि 51 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ श्री माता मनसा देवी यहाँ स्थित है। इसके अलावा, महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल, पिंजौर में गुरुद्वारा मंजी साहिब, जहां गुरु नानक देव जी और पंचकूला में नाडा साहिब गुरुद्वारा, जहां गुरु गोबिंद सिंह जी के चरण पड़े थे। मैं ऐसे महापुरुषों को नमन करता हूं।


श्री मनोहर लाल ने कहा कि पूरी दुनिया एक साल से कोविड -19 महामारी से जूझ रही है और देश और राज्य को कठिन दौर से गुजरना पड़ा है। यह गर्व की बात है कि भारत दुनिया में कोरोना महामारी से लडऩे में अग्रणी रहा है। वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के लिए दो स्वदेशी टीके विकसित किए हैं। उन्होंने कहा कि देश में बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान शुरू किया गया है, जिसके तहत लगभग 10 दिनों के दौरान 10 लाख लोगों को कवर किया गया है। हरियाणा में भी बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है, जिसके दौरान अब तक 1.05 लाख लोगों को वैक्सीन के टीके लगाए गए हैं।


उन्होंने कहा कि अपने पिछले छह साल के कार्यकाल के दौरान वर्तमान राज्य सरकार ने प्रशासन में सकारात्मक बदलाव लाने और लोगों को भ्रष्टाचार मुक्त शासन प्रदान करने के लिए कई क्रांतिकारी कदम उठाए हैं। गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के उद्देश्य से भिवानी, जींद, गुरुग्राम और कोरियवास (नारनौल) में चार नए मेडिकल कॉलेज स्थापित किए गए हैं। इसके अलावा, राज्य के मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की सीटें 750 से बढ़ाकर 1750 कर दी गई हैं और इन्हें 2000 तक ले जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गरीब और जरूरतमंद परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज प्रदान करने के लिए राज्य में ‘आयुष्मान भारत-प्रधान मंत्री जन आरोग्य योजना’ लागू की गई है। उन्होंने कहा कि कोविड -19 महामारी से बचाव के लिए लगे लॉकडाउन के कारण धीमी आर्थिक गतिविधियों के बावजूद सामाजिक सुरक्षा पेंशन में वृद्धि की गई है और सरकारी कर्मचारियों के वेतन और पेंशन में कोई कटौती नहीं की गई।


मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के युवाओं की शिक्षा, कौशल और रोजगार पर विशेष बल दिया गया है। पिछले छह वर्षों में युवाओं को 80,000 से अधिक सरकारी नौकरियां प्रदान की गई हैं। इसके अलावा, सक्षम युवा योजना के तहत 1.10 लाख शिक्षित बेरोजगार युवाओं को 100 घंटे का काम दिया गया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा विज्ञापित विभिन्न पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों द्वारा बार-बार पंजीकरण से बचने के लिए, ‘‘वन-टाइम पंजीकरण पोर्टल’’ शुरू किया गया है। इसके अलावा, ग्रुप सी और डी के विभिन्न पदों के लिए बार-बार परीक्षा से छुटकारा पाने के लिए ‘कॉमन पात्रता परीक्षा’ का प्रावधान भी किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने ग्रुप ‘सी’ और ‘डी’ पदों की भर्ती में साक्षात्कार प्रक्रिया को पहले ही समाप्त कर दिया है और लिखित परीक्षा के आधार पर ही नौकरी दी जा रही है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने पिछली सरकारों में प्रचलित सरकारी नौकरियों के लिए खर्ची और पर्ची की व्यवस्था को समाप्त किया है। अब युवा वर्तमान राज्य सरकार द्वारा अपनाई गई भर्ती की पारदर्शी प्रणाली से संतुष्ट हैं क्योंकि उन्हें योग्यता के आधार पर नौकरी मिल रही है। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र के उद्यमों में राज्य के युवाओं को अधिकतम रोजगार देने के लिए 75 प्रतिशत का भी प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा, विदेशों में रोजगार पाने में युवाओं की सहायता के लिए विदेश सहयोग विभाग भी स्थापित किया गया है। विदेशों में रोजगार और शिक्षा के लिए अंतिम वर्ष के छात्रों के नि:शुल्क पासपोर्ट उनके शिक्षा संस्थानों में बनाए जा रहे हैं। पिछले वर्ष के दौरान लगभग 6800 छात्रों को पासपोर्ट प्रदान किए गए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में लड़कियों की शिक्षा पर विशेष जोर दिया गया है। वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल के दौरान 67 नए सरकारी कॉलेज स्थापित किए गए हैं, जिनमें से 42 कन्या महाविद्यालय हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी खर्च पर मेधावी छात्रों को कोचिंग देने के लिए ‘सुपर-100 कार्यक्रम’ के तहत राज्य में चार केंद्र खोले गए हैं। इस साल राज्य के 83 छात्रों को प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश मिला है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने आंगनवाड़ी के स्थान पर प्ले-वे स्कूल खोलने की भी पहल की है। इसके अलावा, प्राथमिक और माध्यमिक स्तर पर संस्कृति मॉडल स्कूल खोले जा रहे हैं।


बाद में मुख्यमंत्री ने चार शहीदों की विधवाओं नामत: श्रीमती दर्शन कौर, श्रीमती स्वर्ण देवी, श्रीमती रामप्यारी और श्रीमती संतोष को शॉल भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने शिक्षा, खेल, सामाजिक सेवा और सरकारी सेवा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 22 विजेताओं को सम्मानित किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी.एस. ढेसी, पंचकूला के उपायुक्त श्री मुकेश कुमार आहूजा, डीजीपी क्राइम मोहम्मद अकील, एडीजीपी सीआईडी श्री आलोक मित्तल, डीआईजी लॉ एंड ऑर्डर श्री राकेश आर्य, महापौर, नगर निगम पंचकूला श्री कुलभूषण गोयल, परेड कमांडेंट श्री गौरव पुरोहित और पुलिस प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page