नीति आयोग का स्कूलों में स्टार्ट अप को बढ़ावा देने के लिए सीजीआई इंडिया के साथ समझौता

Font Size

नई दिल्ली। अटल नवाचार मिशन (एआईएम), नीति आयोग ने स्कूलों में स्टार्ट अप को बढ़ावा देने के लिए सीजीआई इंडिया के साथ आशय के विवरण (एसओआई) पर हस्ताक्षर किए हैं।

एआईएम को लगातार समर्थन देने की अपने किस्म की अटल टिंकरिंग लैब पहल के एक हिस्से के रूप में, एआईएम और सीजीआई इंडिया ने स्कूलों में एक सफल और नवाचारी कार्यबल का सृजन करने के लिए सहयोग किया है। एआईएम और सीजीआई इंडिया सबसे बड़ी आईटी और व्यापार परामर्श सेवा फर्मों में शामिल हैं।

एआईएम, भारत सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जो पूरे देश में नवाचार और उद्यमिता की संस्कृति को बढ़ावा देता है। भारत में 2.5 मिलियन से अधिक स्कूली बच्चों तक एटीएल की पहुँच है। एटीएल स्कूलों में स्थापित एक समर्पित नवाचार कार्यक्षेत्र है जहां छात्र डू-इट-योरसेल्फ (डीआईवाई) किट तक पहुंच बनाकर टिंकरिंग सीखते है और नवीनतम प्रौद्योगिकियों का उपयोग करते हुए नवाचार समाधानों का सृजन करते है।  

एसओई के एक हिस्से के रूप में, सीजीआई ने बैंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद और मुंबई में एटीएल के साथ 100 स्कूलों को अपनाने पर सहमति व्यक्त की है। सीजीआई के स्वयं सेवक एटीएल में छात्रों को शिक्षित करेंगे और उनका मार्गदर्शन करेंगे। इसके साथ-साथ एसटीईएम उपकरणों का उपयोग करते हुए स्वयं अनुभव के माध्यम से छात्रों को उपयोगी शिक्षण अनुभव प्रदान करके उनकी तकनीकी साझरता बढ़ाएंगे।

सीजीआई डिजाइन थिंकिंग, कम्प्यूटेशनल थिंकिंग, रोबोटिक्स और कोडिंग जैसे विषयों पर चुनिंदा स्कूलों के शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण कार्यशालाएं आयोजित करेगा।

अटल नवाचार मिशन, नीति आयोग के मिशन निदेशक आर. रामानन ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आईएएम और सीजीआई के मध्य एटीएल के लिए सहयोग बहुत महत्वपूर्ण है और यह एटीएल छात्रों और शिक्षकों दोनों के लिए अत्यंत लाभकारी सिद्ध होगा।

“सीजीआई अपने तकनीकी विशेषज्ञता और प्रवीणता के साथ देश भर में 100 एटीएल को अपनाने और उन्हें सहायता प्रदान करने पर सहमत हुआ है। यह भारत में होने वाली चौथी औद्योगिक क्रांति से जुड़ने में एटीएल छात्रों को समर्थ बनाएंगा। इसके अलावा सीजीआई अध्यापकों की नवाचारी मानसिकता स्थापित करने के लिए क्षमता निर्माण अनबॉक्स टिंकरिंग कार्यशालाओं का भी आयोजन करेगा और मुझे पूरा विश्वास है कि यह हम सभी के लिए बहुत रोमांचक होगा।

एशिया पैसिफिक ग्लोबल डिलीवरी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, सीजीआई के अध्यक्ष जॉर्ज मैटकैल ने कहा, ” सीजीआई में हम एसटीईएम के माध्यम से अपने समुदायों में छात्रों को सशक्त बनाने और शिक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम भविष्य में डिजिटल कार्यबल बनाने के लिए नवाचार और रचनात्मकता को प्रेरित करने के अपने इस प्रयास में नीति आयोग के साथ सहयोग करके बहुत प्रसन्न है।”

भारत के प्रमुख शहरों में सीजीआई ने 14,000 से अधिक सलाहकारों को नियुक्त कर रखा, जो दुनिया भर में अपने ग्राहकों को वैश्विक आपूर्ति सहायता प्रदान करते हैं और घनिष्ठ सहयोग, जवाबदेही, लचीलापन, बेहतर सेवा और, सबसे महत्वपूर्ण, अपेक्षित व्यावसायिक परिणाम सुनिश्चित करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: