केन्द्रीय रसायन व उर्वरक मंत्री ने बल्क ड्रग और मेडिकल डिवाइस पार्क के लिए गाइडलाइन जारी की

Font Size

नई दिल्ली : केन्द्रीय रसायन व उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़ा ने भारत में बल्क ड्रग और मेडिकल डिवाइस पार्क (थोक दवा एवं चिकित्सा उपकरण पार्क) को लेकर गाइडलाइन जारी की. आत्म निर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए तैयार इस गाइड लाइन से फार्मा इंडस्ट्री को बड़ा फायदा मिलने की उम्मीद है जबकि भारत में इस उद्योग को विस्तार भी मिलेगा.

इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में हमारा फार्मा सिस्टम लगभग 40 बिलियन डॉलर का है.  फार्मा सेक्टर 2024 तक 100 बिलियन डॉलर तक पहुँच सकता है. इस तरह से 2025 तक भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने के पीएम के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद कर सकता है : केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत को फार्मा क्षेत्र में #AtmaNirbhar बनाने के लिए इन योजनाओं की अवधारणा की गई है। इसका उद्देश्य भारत को 53 महत्वपूर्ण शुरुआती सामग्रियों के उत्पादन और चिकित्सा उपकरणों के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाना है: उनका कहना था कि वर्तमान में, भारत बुनियादी कच्चे माल (एपीआई या बल्क ड्रग्स) के आयात पर निर्भर है। उनमें से कुछ बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि उनका उपयोग आवश्यक दवाओं के उत्पादन में किया जाता है.

उन्होंने कहा कि मुझे देश भर में बल्क ड्रग एंड मेडिकल डिवाइस पार्कों के विकास के लिए चार योजनाओं के दिशानिर्देश जारी करने में बेहद खुशी हो रही है। उन्होंने विश्वास जताया कि ये योजनाएं फार्मा उद्योग के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित होंगी।

उनका कहना था कि केंद्र सरकार के फार्म विभाग के सक्रिय कदम के कारण कोरोना काल में एनपीपीए ने दवाओं की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित की, और लॉकडाउन के दौरान भी किसी भी तरह की कमी नहीं होने दी . यह महसूस किया गया कि स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए किसी भी जोखिम को खत्म करने के लिए एपीआई और चिकित्सा उपकरणों के उत्पादन में घरेलू क्षमताओं को बढ़ावा दिया जाए .

केन्द्रीय रसायन व उर्वरक मंत्री गौडा ने कहा कि कोरोना संकट ने दवाई व चिकित्सा उपकरणों की वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला में कमजोरी को उजागर किया और देश की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर दिया।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने माना कि चिकित्सा उपकरणों के क्षेत्र में, आयात निर्भरता बहुत अधिक है और मुख्य रूप से उच्च अंत चिकित्सा उपकरणों में यह स्थिति है। भारत चिकित्सा उपकरणों की अपनी घरेलू आवश्यकताओं के 86% हिस्से तक आयात पर निर्भर करता है। भारत ने चिकित्सा उपकरणों का आयात वित्त वर्ष 2019-20 में 49,500 करोड़ रु का किया ।

 

 

पत्रकारों के सवाल पर उनका कहना था कि वर्तमान में, भारत बुनियादी कच्चे माल, एपीआई या बल्कड्रग्स के आयात पर काफी निर्भर है। उनमें से कुछ बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि उनका उपयोग आवश्यक दवाओं के उत्पादन में किया जाता है। वित्त वर्ष 2019-20 में 40,000 करोड़ रुपये के कुल फार्मा आयात के लिए बल्क ड्रग्स के आयात का 63% हिस्सा था।

 

उन्होंने कहा कि आज जरी गाइड लाइन का उद्देश्य भारत को 53 महत्वपूर्ण एपीआई शुरू करने वाली सामग्री (केएसएम) के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाना है, और ख़ास कर चिकित्सा उपकरणों के उत्पादन में, जिसके लिए भारत महत्वपूर्ण रूप से आयात पर निर्भर है।उन्होंने बल देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री की सोच के अनुरूप भारत को फार्मा क्षेत्र में #AtamNirbhar बनाने के लिए इन योजनाओं को तैयार किया गया है। सही नीतियों के माध्यम से मेगा बल्क ड्रग और मेडिकल डिवाइस पार्क के विकास का समर्थन कर संकट को अवसरों में बदलने पर बल दिया गया है.

 

उन्होंने बताया कि उद्योगों और राज्य सरकारों सहित हितधारकों के साथ गहन परामर्श के बाद आज जारी की गई योजनाओं का विवरण सावधानीपूर्वक तैयार किया गया है। फार्म आर्कों के स्थान का चयन वस्तुनिष्ठ मानदंडों और प्रतिस्पर्धी संघवाद की भावना पर आधारित होगा. केंद्र और राज्य दोनों सरकारों द्वारा समर्थित, ये पार्क पूर्व विनियामक अनुमोदन, अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे, उत्कृष्ट कनेक्टिविटी, सस्ती जमीन, प्रतिस्पर्धी उपयोगिता शुल्क और मजबूत आरएंडडी पारिस्थितिकी तंत्र और प्लग एंड प्ले मॉडल पर आधारित होंगे।

 

रसायन मंत्री ने कहा कि यह नई विनिर्माण इकाइयों की स्थापना के लिए समय और निवेश लागत को काफी कम कर देगा। इसके अलावा, नई इकाइयां भारत सरकार की प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) योजना के लिए भी पात्र होंगी। सरकार समझती है कि विभिन्न कारणों से इन क्षेत्रों में उत्पादन में बड़ी बाधाएं हैं जिन्हें प्रोत्साहित करने और प्रतिस्पर्धी विनिर्माण की एक इको-प्रणाली विकसित करके जल्दी से संबोधित करने की आवश्यकता है।

उन्होंने उम्मीद जताई कि ये योजनाएं इच्छुक कंपनियों से अच्छे रेस्पोंस प्राप्त करेंगी। ये पार्क महत्वपूर्ण निवेश के साथ-साथ नवीनतम तकनीक को आकर्षित करने में सक्षम होंगे। एक बार चालू होने के बाद, लगभग दो से तीन वर्षों में, ये पार्क हजारों प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार पैदा करेंगे, आयात निर्भरता को कम करेंगे और भारत को एक वैश्विक दवा हब के रूप में स्थापित करेंगे।

 

 

यह विचार वैश्विक दवा आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत की स्थिति को भी मजबूत करने का है। विभिन्न बाधाओं के बावजूद, भारत ने उनके अनुरोध पर 150 देशों के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वाइन और पेरासिटामोल जैसी महत्वपूर्ण दवाओं की आपूर्ति की। वर्तमान में लगभग 40 बिलियन डालर का इंडियन फार्मा सेक्टर 2024 तक 100 बिलियन  डॉलर तक पहुंच सकता है. इस तरह 2025 तक भारत को सर्वाधिक मजबूत अर्थव्यवस्था बनाने के पीएम के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: