अब देश में श्रमिकों के लिए ‘वन नेशन, वन पे डे ‘ प्रणाली लागू होगी

Font Size

केन्द्रीय श्रम मंत्री ने कहा : संसद में पैन-इंडिया सिंगल वेज डे कानून जल्द होगा पारित 

नई दिल्ली : केन्द्रीय श्रम मंत्री, संतोष गंगवार ने शुक्रवार को कहा कि औपचारिक क्षेत्र, विशेषकर श्रमिक वर्ग में श्रमिकों के हितों की रक्षा के लिए, केंद्र सरकार, ‘वन नेशन, वन पे डे ‘ प्रणाली शुरू करने की योजना बना रही है। उन्होंने कहा कि श्रमिकों को समय पर वेतन मिलना सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में हर महीने एक पैन-इंडिया सिंगल वेज डे होना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस कानून को जल्द से जल्द पारित कराने के लिए उत्सुक हैं। इसी तरह, हम सभी क्षेत्रों में समान न्यूनतम मजदूरी को भी देख रहे हैं, जो श्रमिकों की बेहतर आजीविका की रक्षा करेगा.

श्री गंगवार ने सेंट्रल एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट सिक्योरिटी इंडस्ट्री (CAPSI) द्वारा आयोजित ‘ सुरक्षा नेतृत्व शिखर सम्मेलन 2019’ को संबोधित कर रहे थे. उनका कहना था कि केंद्र सरकार ऑक्यूपेशनल सेफ्टी, हेल्थ एंड वर्किंग कंडीशंस (OSH) कोड और वेजेज कोड लागू करने की योजना तैयार कर रही है। उनके अनुसार संसद ने पहले ही मजदूरी पर कानून पारित कर दिया है और इसके क्रियान्वयन के लिए नियम बनाए जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि OSH कोड गत 23 जुलाई, 2019 को लोकसभा में पेश किया गया था। यह कोड सुरक्षा, स्वास्थ्य और काम की परिस्थितियों से संबंधित 13 केंद्रीय श्रम कानूनों को एक ही कोड में विलय कर श्रमिकों के कवरेज को बढ़ाकर निजी क्षेत्र को सुव्यवस्थित करेगा।

ओएसएच कोड में नियोक्ताओं द्वारा नियुक्ति पत्र के अनिवार्य मुद्दों, श्रमिकों की वार्षिक नि: शुल्क चिकित्सा जांच और इसके तहत देश में सभी प्रकार के श्रमिकों के व्यापक कवरेज जैसी कई नए प्रावधान शामिल किये गए हैं। श्रम मंत्री गंगवार ने कहा कि 2014 में पद संभालने के बाद से, मोदी सरकार ने श्रम कानूनों में सुधार के लिए लगातार काम किया है। उन्होंने कहा कि हमने उन्हें सुधारने के लिए 44 जटिल श्रम कानून बनाए हैं। हम इन कानूनों को अधिक प्रभावी और उपयोगी बनाने के लिए सभी पक्षों से विचार विमर्श कर रहे हैं।

उनका कहना था कि “इसी तरह व्यापार करने में आसानी सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न अनुपालनों को पूरा करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों के लिए एक सिंगल पेज ‘मैकेनिज्म तैयार कर रहे हैं। हम यह सुनिश्चित करने के लिए सभी शिकायत निवारण की एक ऑनलाइन प्रणाली भी तैयार कर रहे हैं कि सभी समस्याओं को बिना किसी भौतिक इंटरफ़ेस के 48 घंटों के साथ हल किया जाए।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि आज एक प्रमुख नौकरी निर्माता के रूप में निजी सुरक्षा उद्योग वर्तमान में लगभग 90 लाख लोगों को रोजगार देता है, जिसमें अगले कुछ वर्षों में 2 करोड़ तक जाने की क्षमता है।

उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री इस क्षेत्र की वृद्धि सुनिश्चित करने के इच्छुक हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि पीएम श्री मोदी यह सुनिश्चित करने के इच्छुक हैं कि असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले सभी लोगों को चिकित्सा कवरेज प्राप्त करने के अलावा हर महीने 3,000 रुपये की पेंशन मिलनी चाहिए। हमने श्रमिक वर्ग के लिए विभिन्न आकर्षक पेंशन योजनाएं शुरू की हैं। गंगवार ने कहा कि हम असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों की बेहतर सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भविष्य में और योजनाएं शुरू करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: