मोदी ने कहा : कांग्रेस के बड़े बड़े लोग सत्ता में आये लेकिन गरीबी नहीं हटी

Font Size

पीएम मोदी का कांग्रेस पर वार, सत्तर साल बाद भी हम पिछड़े रह गए

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि ‘न्यू इंडिया की संकल्प से सिद्धि की यात्रा’ पर आगे बढ़ते हुए भारत दूसरे युग में छलांग लगाने के लिए तैयार है और सरकार करोड़ों भारतीयों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए तत्पर हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि केन्द्र सरकार शत-प्रतिशत लोगों को करीब-करीब सभी मूलभूत सुविधाएं देने के करीब पहुंच गई है। राष्ट्रीय हिंदी अखबार दैनिक जागरण के हीरक जयंती समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ‘‘बीते चार वर्षों में आप इस परिवर्तन को होते हुए देख भी रहें हैं। आंकड़े इसकी गवाही दे रहे हैं। लेकिन ये सब पहले क्यों नहीं हुआ ?’’

उन्होंने मुम्बई के एक इलाके में 70 साल बाद बिजली पहुंचने व मेघालय जैसे राज्य को रेल से 2018 में जोड़ने का उदाहरण देते हुए पूछा कि उन लोगों को इस सुविधा की कमी में जीना कैसा लगता होगा , यह विचारणीय तथ्य है। उनका कहना था कि इसके लिए कौन जिम्मेदार है इसका विश्लेषण होना चाहिए।

उन्होंने सवाल किया कि आप भी अकसर सोचते होंगे कि आखिर हमारा देश पिछड़ा क्यों रह गया? आजादी के इतने दशकों के बाद यह कसक आपके मन में भी होगी कि हम क्यों पीछे रह गए ? प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘‘हमारे पास विशाल उपजाऊ भूमि है। हमारे नौजवान बहुत प्रतिभाशाली और मेहनती हैं। हमारे पास प्राकृतिक संसाधनों की भी कोई कमी नहीं। इतना सब कुछ होने के बावजूद हमारा देश आगे क्यों नहीं बढ़ पाया ? ’’

उन्होंने दावा किया कि मंजिलों की कमी नहीं थी लेकिन नीयत की कमी थी। पैसों की कमी नहीं थी, इच्छाशक्ति की कमी थी। समस्याओं की कमी नहीं थी, संवेदना की कमी थी। सामर्थ्य की कमी नहीं थी, कमी थी तो कार्यसंस्कृति की।

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि हीरक जयंती के मौके पर आप लोग कई विषयों पर चिंतन और विश्लेषण करेंगे । मैं भी एक सवाल इस फोरम पर खड़ा कर रहा हूँ। पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा कि अतीत में बड़े-बड़े लोग सत्ता में आए लेकिन गरीबी नहीं हटी। पिछले वर्षोँ में बड़े-बड़े सरनेम, उपनाम वाले लोग सत्ता में आए और चले गए लेकिन हम पिछड़े रह गए। इस सवाल पर विचार करने की जरूरत पर देते हुए उन्होंने कटाक्ष किया कि अगर गरीबी समाप्त हो जाती तो गरीबी हटाने का नारा फिर कैसे दिया जाता और वोट की राजनीति कैसे होती।

उन्होंने चार साल के कार्यकाल में हुए काम की चर्चा की और पिछले सात दशक के काम को नाकाफी बताया। भाजपा सरकार की सभी लोकप्रिय योजनाओं का जिक्र करते हुए उनका कहना था कि आज 95 प्रतिशत ग्रामीण उपभोक्ताओं तक बिजली पहुंच गई। इसके अलावा स्वास्थ्य सुविधाएं, उज्ज्वला योजना एवं शौचालय निर्माण की योजनाओं को लोगों के जीवनस्तर में बड़ा सुधार लाने वाला बताया। उनका कहना था कि आज विदेशी संस्थाएं भी मानने लगीं हैं कि भारत संभावनाओं का देश है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *