नंदिता दास ने अपने अभिनय से फिल्मों की दुनिया में अलग पहचान बनाई

Font Size

नई दिल्ली । एक्ट्रेस नंदिता दास बॉलीवुड की उन चुनिंदा एक्ट्रेस में से एक हैं जिन्होंने अपने शानदार अभिनय से फिल्मों की दुनिया में अलग छाप छोड़ी है। नंदिता की हर फिल्म में उनके अभिनय की रेंज दिखती रही है। स्मिता पाटिल के बाद हिंदी सिनेमा में उनके उत्तराधिकारी के तौर पर नंदिता का ही नाम लिया जाता है। एक्टिंग के अलावा नंदिता निर्देशन के क्षेत्र में भी एक बड़ा नाम हैं। फि‍ल्‍म ‘फायर’, ‘अर्थ’, ‘बवंडर’, ‘बिफोर द रेन्‍स’ जैसी कई बेहतरीन फिल्‍मों में काम कर चुकीं बॉलीवुड एक्‍टर डायरेक्‍टर नंदिता दास ‘डस्‍की ब्‍यूटी’ के नाम से मशहूर हैं। आज जानिए नंदिता दास से जुड़ी कुछ खास बातें…

नंदिता का जन्म 7 नवंबर 1969 को मुंबई में हुआ लेकिन उनका पालन पोषण दिल्ली में हुआ है। नंदिता के पिता जाने-माने उड़िया पेंटर जतिन दास हैं वहीं उनकी मां वर्षा लेखिका हैं।

नंदिता ने दिल्‍ली के मिरांडा हाउस से भूगोल में बैचलर डिग्री ली। इसके अलावा नंदिता ने दिल्‍ली के ‘दिल्‍ली स्‍कूल ऑफ सोशल वर्क’ से सोशल वर्क में मास्‍टर डिग्री भी हासिल की है।

डस्‍की ब्‍यूटी नंदिता ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत जन नाट्य मंच नाम के थिएटर ग्रुप से की। आमिर खान की फिल्म लगान के लिए पहली पसंद नंदिता दास ही थीं।

नंदिता दास 1996 में दीपा मेहता की फिल्म फायर से बॉलीवुड में चर्चा में आई थीं। फिल्म में शबाना और नंदिता के बीच लिप लॉक सीन फिल्माया गया था जो काफी चर्चाओं में रहा।

फायर के अलावा नंदिता बवंडर, ”1947 अर्थ” सहित कई अन्य विवादास्‍पद फिल्मों के लिए भी चर्चाओं में रहीं। अभिनय करने के अलावा नंदिता ने कुछ छोटी फिल्‍मों का लेखन और निर्देशन भी किया।

इंडस्‍ट्री की इस बेहतरीन अदाकारा ने लगभग दस अलग-अलग भाषाओं में फिल्‍में की। जिनमें हिन्‍दी, अंग्रेजी, बंगाली, मलयालम, तेलुगू, उर्दू, तमिल, मराठी, उडि़या, और कन्‍नड़ शामिल हैं।

नंदिता दास को वी शांताराम अवार्ड समारोह के दौरान उनकी निर्देशित ‘फिल्‍म’ फिराक के लिए सर्वश्रेष्‍ठ नवोदित निर्देशक का अवॉर्ड भी मिला था। नंदिता ने कुछ हॉलीवुड फिल्‍में भी की हैं।

नंदिता दास वुमन रिजर्वेशन बिल को पास करवाने के लिए जंतर मंतर में चले कैंपेन का भी हिस्‍सा बनी थीं। उन्‍होंने देश में गोरे रंग के प्रति लोगों के नजरिया बदलने और गोरे रंग के लिए बनाई गए कई प्रोडक्‍ट्स की ऐड के खिलाफ ‘डार्क एंड ब्‍यूटीफुल’ नाम का कैंपेन की शुरुआत की थी।

साल 2005 में नंदिता कान्‍स फिल्‍म फेस्टिवल में जूरी के तौर पर भी शामिल हो चुकी हैं। उन्‍हें 2008 में फ्रांस सरकार ने ‘नाइट ऑफ द ऑर्डर ऑफ आर्ट्स एंड लेटर्स’ के अवॉर्ड से नवाजा।

साल 2002 में नंदिता ने सौम्य सेन से शादी की लेकिन 7 साल बाद दोनों का तलाक हो गया। उसके बाद 2010 में नंदिता ने मुंबई के इंडस्ट्रियलिस्ट सुबोध मस्कारा से शादी की। दोनों का एक बेटा विहान है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *