लायंस पब्लिक स्कूल, सेक्टर 10 ए, गुरुग्राम के 139 स्टूडेंट्स ने किया देश की पार्लियामेंट का भ्रमण

Font Size

– एक दिवसीय एजुकेशनल टूर सभी छात्र- छात्राओं के लिए अनुभवगम्य एवं रोमांचकारी रहा

-संसद की संरचनाओं से परिचित होने का यह महत्वपूर्ण अवसर यादगार बन गया

-सभी स्टूडेंट्स ने राज्य सभा, लोक सभा और सेन्ट्रल हाल को देखा और संसदीय परम्पराओं को समझा 

सुभाष चौधरी /The Public World

नई दिल्ली/ गुरुग्राम : लायंस पब्लिक स्कूल, सेक्टर 10 ए, गुरुग्राम के सातवीं क्लास के 139 स्टूडेंट्स के समूह ने बुधवार को  लोकतांत्रिक एवं संसदीय बारीकियों को समझने के लिए नई दिल्ली स्थित देश के पार्लियामेंट हाउस का भ्रमण किया. स्कूल प्रबंधन की ओर से आयोजित यह एजुकेशनल टूर सभी छात्र- छात्राओं के लिए अनुभवगम्य एवं रोमांचकारी रहा. स्टूडेंट्स ही नहीं बल्कि टीम में शामिल शिक्षकों के लिए भी किताबी दुनिया से अलग संसद की संरचनाओं से परिचित होने का यह महत्वपूर्ण अवसर यादगार बन गया .

आमतौर पर टेलीविजन और मीडिया के अन्य माध्यमों से अब तक देश में लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर पार्लियामेंट को देखने वाले  इन स्कूली बच्चों को संसद के दोनों सदनों और सेंट्रल हॉल को नजदीक से देखने का मौका मिला. लायंस पब्लिक स्कूल के मैनेजर राजीव कुमार के अनुसार स्कूल प्रबंधन की ओर से प्रतिवर्ष  नियमित तौर पर एजुकेशनल टूर का आयोजन किया जाता है. उनके अनुसार बच्चों को प्रायोगिक अध्ययन की दृष्टि से कभी  ऐतिहासिक स्थलों का भ्रमण कराया जाता है तो कभी लोकतांत्रिक संस्थानों या फिर तकनीकी,औद्योगिक एवं  व्यावसायिक संस्थानों का. उन्होंने बताया कि बच्चों के लिए संसद को देखने की व्यवस्था पार्लिमेंट के अधिकारी जितेंद्र यादव के सहयोग से की गई.

लायंस पब्लिक स्कूल, सेक्टर 10 ए, गुरुग्राम के 139 स्टूडेंट्स ने किया देश की पार्लियामेंट का भ्रमण 2सभी  बच्चे संसद देखने के लिए  1 दिन पहले से ही बेहद उत्साहित थे और वहां के हर  पहलू के बारे में जानने के लिए उत्सुक भी.  सभी आवश्यक सुरक्षा प्रावधानों से गुजरने के बाद बच्चों ने पहले लोकसभा को देखा. उनके साथ मौजूद पार्लियामेंट के गाइड की ओर से उन्हें संसद के निम्न सदन के अध्यक्ष से लेकर प्रधानमंत्री,  सभी कैबिनेट मंत्रियों एवं राज्य मंत्रियों के साथ-साथ विपक्ष के नेता और सभी सांसदों के बैठने की व्यवस्था के बारे में विस्तार से  समझाया.  

उन्होंने स्टूडेंट्स को संसदीय गतिविधियों के बारे में भी महत्वपूर्ण जानकारी दी.  दर्शक दीर्घा,  स्पीकर दीर्घा,  डिप्लोमेट बॉक्स,  ऑफिशियल्स बॉक्स और प्रेस/ मीडिया के लिए बैठने की व्यवस्था के बारे में भी बताया. बच्चों ने उनसे लोकसभा में सभी चीजें हरे रंग की होने पर सवाल किया तो उन्हें बताया गया कि यह लोकसभा की पहचान है. 

इसके बाद सातवीं क्लास के सभी स्टूडेंट्स और उनके साथ मौजूद शिक्षकों को देश के उच्च सदन राज्यसभा का दर्शन कराया गया.  राज्यसभा के सभापति,  उपसभापति और सभी सांसदों के बैठने की व्यवस्था और वहां की गतिविधियों की जानकारी से अवगत कराया गया. राज्यसभा का लाल रंग देखकर बच्चों ने यहां भी गाइड से इसके पीछे का आशय जाना.  कुल मिलाकर बच्चों के लिए देश की संसद के संचालन को नजदीक से समझने का यह सुनहरा अवसर रहा. हालांकि वर्तमान में संसद की बैठक नहीं चल रही है बावजूद इसके यह एजुकेशनल टूर स्टूडेंट्स के लिए शानदार अनुभव देने वाला रहा. 

बच्चों को संसद के सेंट्रल हॉल में भी ले जाया गया जहां राज्यसभा और लोकसभा की संयुक्त बैठक होने की जानकारी दी गई. उन्हें बताया गया कि इसी ऐतिहासिक हॉल में देश की स्वतंत्रता का ऐलान किया गया था. इसी हॉल में देश के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति को शपथ दिलाई जाती है. उन्हें यह भी जानकारी दी गई कि सेंट्रल हॉल में ही राष्ट्रपति प्रत्येक वर्ष  संसद के दोनों सदनों के प्रथम सत्र और बजट सत्र के प्रथम दिन अपना अभिभाषण देते हैं जिसमें वह केंद्र सरकार के कामकाज एवं उनकी नीतियों व योजनाओं की रूपरेखा देश के सांसदों व आम जनता के समक्ष रखते हैं.लायंस पब्लिक स्कूल, सेक्टर 10 ए, गुरुग्राम के 139 स्टूडेंट्स ने किया देश की पार्लियामेंट का भ्रमण 3

एल पी एस स्कूल के इन बच्चों को संसद की लाइब्रेरी का भी दर्शन कराया गया जो विश्व की सर्वोत्तम लाइब्रेरी में से एक मानी जाती है. यहां संसदीय गतिविधियों से संबंधित जानकारियां सांसदों को 24 घंटे उपलब्ध कराई जाती है.  संसद की लाइब्रेरी पहले पार्लियामेंट के मुख्य भवन में थी जिसमें पहले सुप्रीम कोर्ट चलता था लेकिन उसे हाल के वर्षों में नए और भव्य भवन में स्थानांतरित कर दिया गया है जिसे नजदीक से देखना भी  स्टूडेंट्स के लिए  सूचनापरक रहा. 

स्टूडेंट्स के लिए इस एजुकेशनल टूर का नेतृत्व लायंस पब्लिक स्कूल सेक्टर 10 ए गुरुग्राम की एजुकेशन ऑफिसर रेनू वर्मा  ने किया.  उनके साथ स्कूल की डिप्टी कोऑर्डिनेटर अनीता वाधवा,  फिजिकल एजुकेशन के हेड ऑफ द डिपार्टमेंट लक्ष्मण सिंह, संस्कृत के हेड ऑफ द डिपार्टमेंट राजबाला, पूर्णिमा अंजू नारंग, सोनिया और सुमन व अन्य स्टाफ भी थे  . 

सभी शिक्षकों के लिए भी संसद परिसर का एक दिवसीय टूर नए सिरे से देश में हुए संसदीय सुविधाओं में बदलाव को जानने का अवसर  साबित हुआ. उनका कहना है कि  जिस सर्वोच्च संस्था से देश के विकास के लिए योजनाओं को मूर्त रूप दिया जाता है उसे 1 दिन में समझना आसान नहीं है लेकिन आधारभूत संरचनाओं से परिचित होने का यह महत्वपूर्ण दिन रहा. 

 इस यादगार एजुकेशनल टूर के लिए लायंस पब्लिक स्कूल सेक्टर 10 ए गुरुग्राम के  चेयरमैन लायन के एस ढाका  और स्कूल की प्रिंसिपल दीपिंदर कौर ने सभी स्टूडेंट्स और शिक्षकों व अन्य सहयोगी स्टाफ को  बधाई दी . साथ ही इस टूर  से प्राप्त अनुभवों को अपने शैक्षणिक विकास की दृष्टि से सदुपयोग करने को प्रेरित किया. उन्होंने कहा कि भविष्य में शीघ्र ही अन्य कक्षाओं के स्टूडेंट के लिए भी इस प्रकार के एजुकेशनल टूर का आयोजन किया जाएगा.

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: