राष्ट्रपति से मिलेगा कांग्रेस पार्टी का प्रतिनिधि मंडल : अग्निपथ योजना व ई डी का मामले पर हस्तक्षेप करेगा मांग

Font Size

नई दिल्ली : कांग्रेस पार्टी का प्रतिनिधि मंडल आज सेना में भर्ती की अग्निपथ योजना  और कांग्रेस मुख्यालय में दिल्ली पुलिस के प्रवेश करने व कांग्रेसी नेताओं व सांसदों के साथ कथित मारपीट के विरोध में देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलेगा. कांग्रेस पार्टी राष्ट्रपति के समक्ष ई डी की ओर से कांग्रेस नेता राहुल गांधी से पूछताछ की सलेक्टिव लीकेज करने का मामला भी उठायेगी. यह जानकारी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन ने आज प्रेसवार्ता में दी. 

श्री माकन ने प्रेसवार्ता में कहा कि देश के प्रमुख विपक्षी दल के मुख्यालय को पुलिस ने छावनी में परिवर्तित कर दिया. मैं इस प्रमुख विपक्षी दल का राष्ट्रीय महासचिव हूं और मुझे चार जगह गाड़ी से उतर कर पुलिस को रिक्वेस्ट करके यहां पर आना पड़ा. तो क्या हमारे देश के अंदर लोकतंत्र जिंदा है ?  प्रमुख विपक्षी पार्टी के मुख्यालय के अंदर महासचिव को आने के लिए इलाके के एसएचओ को रिक्वेस्ट करके यहां पर आना पड़ता है .

उन्होंने कहा कि मैं नहीं समझता कि आज तक के इतिहास में कभी भी हमारे देश के अंदर किसी भी विपक्षी पार्टी के ऑफिस में इस प्रकार से आक्रमण हुआ होगा जैसे कि अभी कुछ दिन पहले आपने देखा कि पुलिस ऑफिस के अंदर आ घुसी जिसका वीडियो है.   कांग्रेस पार्टी पर दबाव डाला जा रहा है ताकि कांग्रेस पार्टी की आवाज को बंद किया जा सके.  क्योंकि हमेशा हम लोगों ने मजदूरों की गरीबों की किसानों की  और युवाओं की आवाज को कभी कांग्रेस और हमारे नेता राहुल गांधी ने दबने नहीं दिया.  आज पुलिस के माध्यम से दबाव बनाया जा रहा है कि आप इनकी आवाज क्यों उठा रहे हैं ?  सरकार के खिलाफ क्यों आप बोल रहे हैं ?

उन्होंने दावा किया कि आज ई डी के पास  5422 मामले  चल रहे हैं . इनमें 5310 केस नरेंद्र मोदी सरकार के पिछले 8 वर्ष के हैं जबकि केवल  112 केस उससे पहले के हैं.  इससे समझा जा सकता है कि अज कितना दबाव विपक्षी दलों और अन्य लोगों पर डाला जा रहा है. किस कद्र इस एजेंसी का दुरूपयोग किया जा रहा है .

 

 अजय माकन ने कटाक्ष करते हुए कहा कि आज ई डी की ओर ग्लो  एंड लवली स्कीम चलाई जा रही है क्योंकि  मामला दर्ज किया जाता है और ऑफिस में बुलाकर उससे पूछताछ की जाती है. उससे भाजपा ज्वाइन करने को कहा जाता है और जब वह भाजपा ज्वाइन कर जाते हैं तो उसे पाक साफ घोषित कर दिया जाता है.

उन्होंने कहा कि ई डी ग्लो एंड लवली क्रीम लगाकर ऐसे दागी लोगों को पाक साफ घोषित कर देती है. क्योंकि वह भाजपा में शामिल हो जाते हैं.  इस प्रकार का दबाव ईडी और सीबीआई के दफ्तरों से विपक्षी दलों के नेताओं पर डाला जा रहा है. नेताओं को ईडी के दफ्तर बुलाकर कहा जाता है कि सरकार के खिलाफ बोलना बंद करो और जो  ईडी की बात मान लेता है  उसे भाजपा में शामिल कराकर साफ सुथरा घोषित कर दिया जाता है. 

 

कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने यह कहते हुए सवाल किया कि क्या हुआ हेमंत विश्व शर्मा के मामले में  लुईस बरजर और शारदा घोटाला मामले में ?  उन्हें ईडी ने बुलाया, वह भाजपा में शामिल हो गए और उन्हें पाक साफ घोषित कर दिया गया. उन्होंने कहा कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री येदयुरप्पा के खिलाफ ई डी ने मामला दर्ज किया था या नहीं किया था ?  महाराष्ट्र के नेता और वर्तमान केंद्रीय मंत्री नारायण राणे  जब कांग्रेस में थे तो उनके खिलाफ मामला दर्ज किया था या नहीं किया था ?  नारायण राणे को ईडी और इनकम टैक्स के नोटिस आते थे लेकिन जैसे ही वह भाजपा में शामिल हो गए सब कुछ रफा-दफा हो गया.

 

उन्होंने सवाल किया कि पश्चिम बंगाल के सोमेन मित्रा जब तक टीएमसी में थे तब तक मुकदमे चल रहे थे जैसे ही उन्होंने पार्टी छोडी सब कुछ ठीक हो गया. ई डी की ओर से चलाए जा रहे मामले सारे समाप्त हो गए . रमन सिंह के खिलाफ मामला दर्ज हुआ या नहीं इसका पता भी नहीं चला.  पश्चिम बंगाल के नेता मुकुल राय जब तक टीएमसी में थे तब घोटाले में उनके खिलाफ मामला चल रहा था . जैसे ही वह भाजपा में गए  उनको भी ईडी ने ग्लो एंड लवली स्कीम के तहत पाक साफ घोषित कर दिया. 

 

अजय माकन ने कहा कि इन सारे मामलों से यह साफ होता है कि केंद्रीय एजेंसी का दुरुपयोग केवल सरकार के खिलाफ नहीं बोलने और भाजपा में शामिल कराने की दृष्टि से केंद्र सरकार कर रही है.  कांग्रेस पार्टी इसकी कड़ी निंदा करती है. 

 

कांग्रेस महासचिव ने बताया कि कांग्रेस पार्टी के लीगल सेल की ओर से विवेक तनखा ने देश की वित्त मंत्री  निर्मला सीतारमण और कानून मंत्री किरण रिजिजू को एक नोटिस भेजा है.  इस नोटिस में कांग्रेस पार्टी की ओर से कहा गया है कि ईडी के दफ्तर से झूठे और तथ्य हीन जानकारियां लिखकर खबरें प्लांट की जा रही है. इस कारगुजारी से कांग्रेस पार्टी और उनके नेता की छवि धूमिल करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है.  नोटिस में  सेक्शन 66 का हवाला देते हुए उन्हें यह याद दिलाया गया है कि यह गैरकानूनी है. इसमें कहा गया है कि पी एम एल ए  इस बात की इजाजत नहीं देता की ईडी के दफ्तर से पूछताछ की कोई जानकारी लीक की जाए.  इस नोटिस में दोनों मंत्रियों को यह भी बताया गया है कि संबंधित एजेंसी द्वारा सोशल मीडिया और अन्य प्लेटफार्म पर कैसे जानकारियां लीक की जा रही हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह की बातें कही जा रही हैं कि राहुल गांधी जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और बहुत सारे सवालों का जवाब नहीं दे रहे हैं.  इसके लिए खबरों में स्रोत का  हवाला दिया गया है.  उन्होंने कहा कि मैं पूछना चाहता हूं कि यह कौन से स्रोत है ?  और इस प्रकार की जानकारियां कौन लीक कर रहा है? 

 

 अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने दोनों मंत्रियों से मांग की है कि अगर जांच एजेंसी को इस तरह से ही सलेक्टेड आधारहीन तथ्यों को लीक करना ही है तो फिर पूछताछ के दौरान कैमरे से लाइव टेलीकास्ट कराई जाए.  इससे देश को यह पता भी चलेगा कि 30 घंटे से लगातार होने वाली पूछताछ में कांग्रेस के नेता राहुल गांधी से जांच एजेंसी क्या पूछ रही है?  उनके पास कौन से सवाल है?  उन्होंने कहा कि जांच एजेंसी द्वारा  कुछ चीजें लीक की जा रही हैं और जानबूझकर एक ओपिनियन क्रिएट करने की कोशिश की जा रही है यह पूरी तरह गैरकानूनी है.

 

 उन्होंने याद दिलाया कि कई ऐसे मामले हैं जब देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट और कई हाई कोर्ट ने भी इस प्रकार की लीकेज को लेकर स्पष्ट दिशा निर्देश दिए हैं.  इसलिए हम सरकार से मांग करते हैं कि जांच एजेंसी को इस संबंध में स्पष्ट हिदायत दी जाए और इस प्रकार की सेलेक्टड लीकेज पर रोक लगाई जाए. उन्होंने आरोप लगाया कि इस प्रकार की कारगुजारी से जांच को पूरी तरह प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है. 

 

श्री माकन ने 4 सवाल किया.  उन्होंने पूछा की कौन सा अनुसूचित अपराध है जो पी एमएलए के तहत एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट द्वारा जांच शुरू की गई है. उन्होंने बल देते हुए कहा कि संबंधित एक्ट के तहत जांच के लिए अपराध शेड्यूल्ड होना चाहिए. उन्होंने पूछा कि किस पुलिस ने  अनुसूचित अपराध दर्ज की है जिस पर संबंधित जांच एजेंसी कार्रवाई कर रही है ? इसका खुलासा करना चाहिए.  इससे संबंधित एफ आई आर कहां है ?  उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी लगातार एफ आई आर की कॉपी मांग रही है जो उपलब्ध नहीं कराई गई है.

 

उन्होंने कहा कि क्या एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट या फिर संबंधित मंत्रालय को इस बात की जानकारी है कि पी एम एल ए के तहत जब तक कोई अपराध अनुसूचित नहीं हो तब तक पूछताछ नहीं की जा सकती है ?  उन्होंने कहा कि अगर कोई अनुसूचित अपराध नहीं है, कोई f.i.r. नहीं है तो फिर एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट क्यों जांच कर रही है? 

 

उन्होंने कहा कि सेना के तीनों अंगों में नई भर्ती योजना अग्निपथ को लेकर कांग्रेस पार्टी विरोध में जंतर मंतर पर सत्याग्रह कर रही है.  इस मामले को लेकर कांग्रेस पार्टी का प्रतिनिधिमंडल आज शाम देश के राष्ट्रपति से मिलेगा और उनसे इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए उक्त योजना को तत्काल वापस कराने की मांग करेगा.  उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी का मानना है कि इस योजना को वापस लेकर इस पर संसद में बहस कराई जाए.  इसको लेकर युवाओं से बात की जाए उसके बाद आवश्यक सुधार के बाद लांच की जाए. 

 

 उन्होंने कहा कि हम राष्ट्रपति से दूसरी मांग करेंगे कि  देश के प्रमुख विपक्षी दल के दफ्तर में जिस तरह दिल्ली पुलिस ने अनैतिक तरीके से प्रवेश किया और नेताओं के साथ मारपीट की.  पार्टी के सांसदों के साथ अभद्र व्यवहार किया और पार्टी मुख्यालय में आने से अब भी नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस के द्वारा रोका जा रहा है उसकी जांच कराई जाए.  इसको लेकर कांग्रेसी प्रतिनिधिमंडल ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और सभा के सभापति एवं उपराष्ट्रपति से मिलकर इसे विशेषाधिकार समिति को सौंपने की मांग की है.

 

अजय माकन ने अग्निपथ योजना को लेकर  देश के प्रथम सीडीएस जनरल बिपिन रावत द्वारा एक न्यूज़ एजेंसी को दिए इंटरव्यू  और अक्टूबर 2020 में जारी किए गए सर्कुलर का हवाला देते हुए चौंकाने वाला तथ्य रखा.  उन्होंने कहा कि  सीडीएस बिपिन रावत ने इंटरव्यू में इस बात पर बल दिया था कि सेना से 17 साल में सर्विस के बाद लोग रिटायर हो जाते हैं यह सही नहीं है.  उन्होंने सुझाव दिया था कि सेना में रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाई जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि जनरल बिपिन रावत ने सेना में रिटायरमेंट की उम्र 58 साल  करने की सिफारिश की थी. उन्होंने कहा था कि सेवानिवृत्ति की उम्र बढ़ाने से अनुभवी सैनिकों का बेहतर उपयोग किया जा सकेगा. कांग्रेस नेता ने सवाल किया कि वर्तमान सरकार  जो अग्नीपथ योजना लेकर आई है क्या यह जनरल बिपिन रावत का अपमान नहीं है ?  क्या यह उनकी इच्छा का अपमान नहीं है ? 

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: