प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा के लिए मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की, बूस्टर डोज और व्यव्यसाय जारी रखने पर बल

82 / 100
Font Size

covid 19 situation

covid 19 situationनई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोविड-19 संक्रमण की स्थिति और इससे लड़ने की तैयारी की समीक्षा की । उन्होंने मुख्यमंत्रियों को संबोधित करते हुए कहा कि 100 साल की सबसे बड़ी महामारी से भारत की लड़ाई अब तीसरे वर्ष में प्रवेश कर चुकी है।परिश्रम हमारा एकमात्र पथ है और विजय एकमात्र विकल्प। हम 130 करोड़ भारत के लोग, अपने प्रयासों से कोरोना से जीतकर अवश्य निकलेगे।

इस अवसर पर सभी राज्यों के मुख्यमंत्री केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री मनसुख माण्डावीया एवं स्वास्थ्य विभाग के सभी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। स्वास्थ्य सचिव की ओर से इस बैठक में देश में कोविड-19 संक्रमण की वर्तमान स्थिति और उसकी तैयारियों पर प्रेजेंटेशन दिया।

प्रधानमंत्री का कहना था कि ऑमिक्रोन को लेकर पहले जो संशय की स्थिति थी, वो अब धीरे-धीरे साफ हो रही है। पहले जो वैरिएंट थे, उनकी अपेक्षा में कई गुना अधिक तेज़ी से ऑमिक्रोन वैरिएंट सामान्य जन को संक्रमित कर रहा है.

उन्होंने यह कहते हुए आगाह किया कि हमें सतर्क रहना है, सावधान रहना है लेकिन Panic की स्थिति ना आए, इसका भी ध्यान रखना है। हमें ये देखना होगा कि त्योहारों के इस मौसम में लोगों की और प्रशासन की एलर्टनेस कहीं से भी कम नहीं पड़े.

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों को पिछले दो लहर की याद दिलाते हुए कहा कि पहले केंद्र और राज्य सरकारों ने जिस तरह pre-emptive, pro-active और collective approach अपनाई है, वही इस समय भी जीत का मंत्र है।कोरोना संक्रमण को हम जितना सीमित रख पाएंगे, परेशानी उतनी ही कम होंगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वदेशी वैक्सीन की चर्चा करते हुए कहा कि भारत में बनी वैक्सीन्स तो दुनिया भर में अपनी श्रेष्ठता सिद्ध कर रही हैं।

ये हर भारतीय के लिए गर्व का विषय है कि आज भारत, लगभग 92 प्रतिशत वयस्क जनसंख्या को पहली डोज़ दे चुका है। देश में दूसरी डोज की कवरेज भी 70 प्रतिशत के आसपास पहुंच चुकी है।

उन्होंने 15 से 18 वर्ष की किशोर बालक बालिकाओं की टीकाकरण की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि 10 दिन के भीतर ही भारत अपने लगभग 3 करोड़ किशोरों का भी टीकाकरण कर चुका है। ये भारत के सामर्थ्य को दिखाता है, इस चुनौती से निपटने की हमारी तैयारी को दिखाता है।

उनका कहना था कि बूस्टर डोज पर भी फोकस करना होगा। उन्होंने सलाह दी कि Frontline workers और सीनियर सिटिजन्स को precaution dose जितनी जल्दी लगेगी, उतना ही हमारे हेल्थकेयर सिस्टम का सामर्थ्य बढ़ेगा। शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिए हर घर दस्तक अभियान को हमें और तेज़ करना है।

संक्रमण बढ़ने से रोकने की दृष्टि से राज्य सरकारों को एक तरफ आवश्यक कदम उठाने का सुझाव भी दिया जबकि दूसरी तरफ प्रधानमंत्री ने आर्थिक एवं व्यवसायिक गतिविधियों को सावधानी के साथ संचालित करने की सलाह भी दी। उन्होंने कहा कि सामान्य लोगों की आजीविका, आर्थिक गतिविधियों को कम से कम नुकसान हो, अर्थव्यवस्था की गति बनी रहे, कोई भी रणनीति बनाते समय इसका ध्यान रखना बहुत आवश्यक है।

अधिक संक्रमण वाले क्षेत्रों पर अधिकतम फोकस के फार्मूले की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि संक्रमित इलाके को प्रतिबंधित करने के क्रम में इस बात का ध्यान रखना बेहद आवश्यक है कि इससे लोगों के रोजगार प्रभावित नहीं हो। उन्होंने कहा कि इसलिए लोकल containment पर ज्यादा फोकस करना बेहतर होगा।

covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation covid 19 situation

 

Table of Contents

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: