नवनियुक्त स्थानीय निकाय मंत्री पदभार संभालने के उपरांत पहली बार पहुंचे गुरूग्राम

6 / 100
Font Size

-जिला के अधिकारियों के साथ की बैठक
– कार्यक्षमता बढाने के लिए दिया 5 सूत्रीय मूलमंत्र

– समय का पाबंद, ईमानदारी से काम करने, समर्पणभाव, स्वीकार्यता तथा प्रवासिक स्वभाव अपनाने की दी नसीहत
– कहा, कोरोना सकं्रमण से बचाव के लिए फेसमास्क, सैनेटाईजेशन, सामाजिक दूरी के अलावा वैक्सीनेशन जरूरी

गुरूग्राम, 12 जनवरी। हरियाणा के नवनियुक्त स्थानीय स्वःशासन निकाय तथा हाउसिंग फॉर ऑल विभागों के कैबिनेट मंत्री डा. कमल गुप्ता ने मंत्रीपद संभालने उपरांत पहली बार आज गुरूग्राम का दौरा कर जिला अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने अधिकारियों को कार्यक्षमता बढाने के लिए समय का पाबंद होने , ईमानदारी से काम करने, समर्पण भाव, स्वीकार्यता तथा प्रवासिक स्वभाव अपनाने की नसीहत दी।

यह बैठक सिविल लाईन्स स्थित स्वतंत्रता सेनानी जिला परिषद हॉल में आयोजित की गई थी। डा. कमल गुप्ता निर्धारित दौरा कार्यक्रम अनुसार ठीक प्रातः11.30 बजे स्वतंत्रता सेनानी हॉल में जिला अधिकारियों की बैठक लेने पहुंच गए थे। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे इस बैठक में एक परिवार के सदस्य की तरह आए हैं और हम सभी एक परिवार हैं। उन्होंने अपने व्यक्तिगत अनुभव सांझा करते हुए अधिकारियों से कहा कि अपने कार्यालय को परिवार की तरह चलायें। उन्होंने कहा कि कार्यालय का मुखिया होने के नाते कार्यालय कार्यों के अलावा अपने स्टाफ सदस्यों से उनके घरेलू दुःख- सुख के बारे में भी पूछें । ऐसा करने से वह व्यक्ति अच्छा महसूस करेगा और उसकी कार्यक्षमता बढेगी।

इसके अलावा, उन्होंने सभी अधिकारियों को समय का पाबंद होने की नसीहत दी और कहा कि क्या हम आज यह संकल्प ले सकते है कि हम पंक्चुअल रहेंगे अर्थात् समय पर कार्यालय आयेंगे। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि वर्तमान सरकार की पिछली पारी में उन्होंने जिला कष्ट निवारण समिति की 33 बैठक ली और सभी बैठकें सही प्रातः 11 बजे शुरू की, एक मिनट भी लेट नहीं हुए।

इसके अलावा, डॉक्टर कमल गुप्ता ने सभी अधिकारियों को अपना काम ईमानदारी से करने की भी सलाह दी और कहा कि यदि हम खुद ईमानदार बनेंगे तो निश्चित तौर पर हमारा स्टाफ भी ईमानदार बनेगा। जो जिम्मेदारी हमें मिली है, उसे हमें ईमानदारी से निभाते हुए स्वीकार करना चाहिए और समर्पण की भावना से काम करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि यदि हम अपने जीवन में इन पांच सूत्रीय मूलमंत्र -समय का पाबंद, ईमानदारी से काम, समर्पण, स्वीकार्यता तथा प्रवासिक स्वभाव को अपनाएंगे तो हमारी कार्यक्षमता बढे़गी और कार्यकुशलता बेहत्तर होगी। ये बातें जीवन में उतरेंगे तो हमारी संस्कृति और देश अलग तरह का होगा । उन्होंने कहा कि यदि कोई भी व्यक्ति हमारे पास किसी काम से आया है और वह काम हो सकता है तो जरूर करें और यदि ऐसा काम है जो नहीं हो सकता तो उसे बैठाकर आराम से समझाएं, वह व्यक्ति संतुष्ट होगा। उन्होंने कहा कि यह एक कला है जिसे हम सभी को अपनाना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि गाड़ी में सीट बेल्ट लगाने के नियम को कड़ाई से लागू करें। अवहेलना करने वाला चाहे कितना ही बड़ा या छोटा हो, उसका चालान अवश्य करें । गुरुग्राम की सीमा में आने वाला हर व्यक्ति सीट बेल्ट लगाए , जैसे चंडीगढ़ या पंचकुला में होता है। ऐसा करने से यात्रियों की यात्रा सुरक्षित होगी ।

डा. कमल गुप्ता ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए तीन मूलभूत चीजों-मास्क का प्रयोग, सैनेटाइजेशन तथा सामाजिक दूरी को अपनाना जरूरी है और इन सबसे ज्यादा जरूरी है कोरोना रोधी वैक्सीन लगवाना। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद देश ने दो वैक्सीन कोविशिल्ड व कोवैक्सीन बनाई हैं। लगभग 140 करोड़ की आबादी वाले देश में लगभग 88 करोड़ लोग 18 वर्ष से अधिक आयु के हैं जिन्हंे कोरोना वैक्सीन की 176 करोड़ डोज लगाई जानी थी, इनमें से लगभग 155 करोड़ डोज़ लगाई जा चुकी है जोकि बड़ी उपलब्धि है। पहले वैक्सीन विदेशों में बनती थी और वहाँ कई साल लगते हो जाते थे, तब भारत आती थी । उन्होंने कहा कि यदि हरियाणा की बात की जाए तो यहां की कुल आबादी लगभग 290 लाख है, जिनमें से 185 लाख लोग ऐसे हैं जो 18 वर्ष से अधिक आयु के हैं। इन्हें 370 लाख डोज़ लगाई जानी थी जिनमें से 280 लाख से अधिक डोज लगाई जा चुकी हैं। उन्हांेने कहा कि हम सभी को संयुक्त रूप से आमजन को कोरोना रोधी वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करना चाहिए। वैक्सिनेशन की गति बढ़ानी है।

उन्होंने चुने हुए और चुनाव लड़ चुके व्यक्तियों का आदर करने की सलाह भी दी और कहा कि उनकी बात सुनें।
बैठक में उपायुक्त डा. यश गर्ग ने मंत्री डा. कमल गुप्ता का गुरूग्राम पधारने पर स्वागत किया। उन्होंने बैठक उपरांत मंत्री को जिला अधिकारियों की ओर से आश्वस्त करते हुए कहा कि उनके निर्देशों का दृढ़ता से पालन किया जाएगा । सभी अधिकारी मंत्री द्वारा बताई गई सभी बातों को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाएंगे। उन्होंने डा. कमल गुप्ता का जिला अधिकारियों का मार्ग दर्शन करने के लिए धन्यवाद किया। बैठक से पूर्व डा. कमल गुप्ता को मंत्रीपद संभालने उपरांत पहली बार गुरूग्राम पधारने पर लोक निर्माण विश्रामगृह में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

इस अवसर पर मेयर श्रीमति मधु आजाद, गुरूग्राम के विधायक सुधीर सिंगला, पटौदी के विधायक सत्यप्रकाश जरावता, बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद, उपायुक्त डा. यश गर्ग, अतिरिक्त उपायुक्त विश्राम कुमार मीणा, भाजपा जिलाध्यक्ष गार्गी कक्कड़, नगर निगम मानेसर के कमीशनर मुनिष शर्मा, बादशाहपुर के एसडीएम सतीश यादव, गुरूग्राम की एसडीएम अंकिता चौधरी, आरटीए सचिव रविंद्र यादव, मानेसर नगर निगम की संयुक्त आयुक्त अल्का चौधरी , नगराधीश दर्शन यादव सहित सभी विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: