छठ महा पर्व को राष्ट्रीय अवकाश (गजटेड होली डे ) घोषित करने का मुद्दा लोकसभा में उठा

Font Size

-भारतीय जनता पार्टी के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल ने केंद्र सरकार से की मांग

-बिहार के महाराजगंज संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं जनार्दन सिंह सिग्रीवाल

सुभाष चौधरी 

नई दिल्ली : अभी हाल ही में देश के करोड़ों लोगों ने सूर्य की आराधना करने वाले छठ महापर्व को बड़ी धूमधाम एवं श्रद्धा के साथ मनाया। इस दौरान छठ व्रतियों एवं श्रद्धालुओं को होने वाली कठिनाइयों का मुद्दा गुरुवार को लोकसभा में भी गूँजा  बिहार के महाराजगंज संसदीय क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल ने लोकसभा में छठ महापर्व पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की मांग की।

भाजपा सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल ने सदन में छठ महापर्व के आयोजन की चर्चा करते हुए कहा कि भगवान सूर्य की आराधना करने वाले छठ महापर्व का आयोजन अब केवल बिहार एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश के सभी राज्यों में करोड़ों लोग कर रहे हैं. इसमें छठ व्रतियों एवं श्रद्धालुओं को कई दिनों तक तैयारी करने के साथ-साथ व्रत की कठिन परंपरा का निर्वहन 4 से 5 दिनों तक करना पड़ता है. लेकिन इस अवसर पर बिहार को छोड़कर किसी भी अन्य राज्य में सरकारी अवकाश नहीं होता है. उन्होंने कहा कि खासकर निजी संस्थानों, फैक्ट्रियों और कंपनियों में काम करने वाले लोगों को छठ महापर्व के आयोजन के दौरान छुट्टी नहीं मिलने के कारण बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

उन्होंने कि यह पर्व देश के सभी राज्यों में मनाया जाने लगा है. इसलिए करोड़ों लोगों की धार्मिक भावनाओं का ख़याल रखते हुए इस अवसर पर राष्ट्रीय अवकाश यानी राजपत्रित अवकाश घोषित किया जाए । उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की कि छठ महापर्व की महत्ता और लोगों की श्रद्धा एवं उनकी असुविधाओं पर विचार करते हुए इस महापर्व को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए।

भारतीय जनता पार्टी के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल ने

लोकसभा में क्या कहा देखने के लिए इस विडियो पर क्लिक करें  :  👇

 

उल्लेखनीय है कि छठ महापर्व अब केवल पूर्वोत्तर राज्यों में ही नहीं बल्कि देश के सभी राज्यों, मेट्रो शहरों एवं मध्यम दर्जे के शहरों में भी मनाया जाने लगा है.  इस अवसर पर अलग-अलग राज्यों में छठ पर्व का आयोजन करने वाले श्रद्धालु पिछले कई वर्षों से राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की मांग करते रहे हैं।

इस संदर्भ में संज्ञान लेते हुए पहले दिल्ली सरकार ने प्रतिबंधित अवकाश घोषित किया जबकि वर्तमान हरियाणा सरकार ने इस वर्ष छठ पर्व पर अगले वर्ष से प्रतिबंधित अवकाश देने की घोषणा की है। यह अवकाश ऐच्छिक अवकाश के रूप में होता है लेकिन छठ पर्व को मनाने वाले लोग राजपत्रित अवकाश के रूप में इस पर्व को घोषित करने की मांग कर रहे।

अब भाजपा सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की ओर से संसद में इस मुद्दे को उठाने के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले समय में केंद्र सरकार इस संबंध में कुछ घोषणा कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: