स्काडा से पेयजलापूर्ति की ऑनलाइन होगी मॉनिटरिंग

81 / 100
Font Size

स्काडा

– जीएमडीए के सीईओ सुधीर राजपाल ने जल मित्रों के साथ की पेयजलापूर्ति की समीक्षा

– किसी क्षेत्र में जलापूर्ति बाधित होने के बारे में ‘जल मित्र ऐप ‘ पर लोगों को पूर्व सूचना देने के निर्देश  

– ऐप को बनाया जायेगा और कंज्यूमर फ्रेंडली का आश्वासन 

स्काडागुरुग्राम, 24 सितंबर :  गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) द्वारा जलापूर्ति को सुचारू और बेहतर बनाने के लिए गुरुग्राम के विभिन्न सेक्टरों एवं आरडब्लूए प्रतिनिधियों के रूप में कार्यरत ‘जल मित्रों’ के साथ एक समीक्षा बैठक की गई। गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुधीर राजपाल  की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में बताया गया कि जलापूर्ति के लिए बिछाई गई भूमिगत पाइप लाइन को गुरुग्राम के विभिन्न क्षेत्रों के अंडर ग्राउंड वाटर टैंक से जोड़ा गया है। इसकी ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए स्काडा (सुपरवाइजरी कंट्रोल एंड डाटा एक्विजिशन) से जोड़ा गया है ताकि जलापूर्ति को ऑनलाइन जांचा जा सके। कोई भी उपभोक्ता इस ‘जल मित्र ऐप’ के माध्यम से अपनी जलापूर्ति को चेक कर सकता है।

आज विभिन्न आरडब्लूए के जल मित्रों ने जल आपूर्ति के संबंध में अपने अपने अनुभव सांझा किए और कई क्षेत्रों में हो रही जलापूर्ति को बेहतर बताया। एस्सेल टावर, सेक्टर 16 कैनाल कॉलोनी, महरौली रोड, मारुति, मलिबु टाउन आदि के प्रतिनिधियों ने जलापूर्ति को सुचारू व बेहतर बताया।

सेक्टर 23 के एफ ब्लॉक में बने दो अंडर ग्राउंड वाटर टैंक की पूर्ण जल आपूर्ति के लिए कल इंजिनियर्स टीम दौरा भी करेगी। सेक्टर 112, 113 व 114 में जलापूर्ति की पाइप लाइन शीघ्र ही डाली जाएगी।

श्री राजपाल ने निर्देश दिए कि जलापूर्ति को ओर बेहतर व उपभोक्ताओं के लिए सुविधाजनक बनाया जाए। जलापूर्ति अवरुद्ध होने के संदर्भ में एप के माध्यम से पहले ही सूचना जानी चाहिए और ऐप को कंज्यूमर फ्रेंडली बनाया जाए। व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए अन्य विशेषताओं पर भी ध्यान दिया जाए।

उल्लेखनीय है कि गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण द्वारा 12.5 किलोमीटर लंबी 1200 एमएम की भूमिगत पाइप लाइन बसई – धनवापुर के बीच में बिछाई गई है। इसी पाइपलाइन से इन क्षेत्रों की सभी कालोनियों को जलापूर्ति की जा रही है। इस पाइपलाइन के अंतर्गत आने वाले बसई, डूंडाहेड़ा, कार्टर पुरी, मुल्लाहेड़ा, पालम विहार, सराय गांव, कोलंबिया एशिया, मारुति सुजुकी प्लांट, सूर्य विहार, सेक्टर 14, 18, 21, 22, 23ए, इलेक्ट्रॉनिक सिटी, चौमा खेड़ा, राजीव नगर, ओल्ड डीएलएफ कॉलोनी, मानसरोवर बिल्डिंग, बेस्टेक बिल्डिंग इत्यादि क्षेत्रों के पानी के 31 भूमिगत टैंकों को भी जोड़ा गया है।

इस बैठक में जीएमडीए के मुख्य अभियंता प्रदीप कुमार, अधीक्षक अभियंता कृष्ण दहिया, कार्यकारी अभियंता अभिनव वर्मा और आई टी टीम से रविन्द्र यादव मौजूद रहे।

Table of Contents

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page