2021 में 1.5 लाख पेड़ लगाएंगे सेठ आनंदराम जयपुरिया स्कूल गाजियाबाद सहित ग्रुप के शिक्षण संस्थान

10 / 100
Font Size

गाजियाबाद, 23 जून 2021: पर्यावरण संरक्षण की खास पहल करते हुए सेठ आनंदराम जयपुरिया ग्रुप ऑफ एडुकेशनल इंस्टीट्यूशंस 2021 की गर्मियों में अपने पूरे नेटवर्क में 1.5 लाख पौधे लगाएगा

सेठ आनंदराम जयपुरिया समूह हर साल वृक्षारोपण अभियान चलाता है। इस समूह के उत्तर भारत में 12 वीं तक के-14 स्कूल, 5 प्री-स्कूल, 2 एमबीए संस्थान और 1 शिक्षक प्रशिक्षण अकादमी हैं। हर साल इस समूह के छात्र, शिक्षक और कर्मचारी मानसून में हजारों पेड़ लगाते हैं। इस साल का यह लक्ष्य बहुत बड़ा है।

इस समूह के वर्तमान में 20,000 छात्र और 805 शिक्षक हैं। प्रत्येक इस मानसून में 7 से 10 पौधे लगाएंगे। इस तरह कुल 1,50,000 पेड़ लगाने का बहुत बड़ा लक्ष्य पूरा होगा। गौरतलब है कि यह उत्तर भारत के विभिन्न स्कूल समूहों के सबसे बड़े वृक्षारोपण अभियानों में एक होगा।

सेठ आनंदराम जयपुरिया ग्रुप ऑफ एडुकेशनल इंस्टीट्यूशंस के वरिष्ठ सलाहकार विनोद मल्होत्रा ने कहा, ‘‘अब हम सभी को यह समझना होगा कि हमारा अस्तित्व और जीविका प्रकृति माता पर टिकी है – प्राणवायु, आहार और पानी सब वही देती है। और हम वर्षों से प्रकृति माता के कर्जदार हैं और इसे चुकाने का वक्त आ गया है। इसके कई तरीके हैं। इनमें सबसे अच्छा पेड़ लगाना है और इसके लिए सबसे उपयुक्त मौसम माॅनसून है। मैं वृक्षारोपण को सर्वोपरि प्रकृति पूजा मानता हूं।’’

जयपुरिया समूह के कई स्कूलों में वृक्षारोपण अभियान शुरू हो गया है। आने वाले दिनों और कुछ सप्ताह में 1.5 लाख पेड़ लगाने के लक्ष्य से छात्र और शिक्षक बड़ी संख्या में पौधे लगाएंगे। अभियान मोटे तौर पर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड के शहरों में आयोजित किया जाएगा।

वृक्षारोपण अभियान के तहत छात्र और शिक्षक न केवल पौधे लगाएंगे बल्कि जब तक पेड़ मजबूत और परिपक्व नहीं हो जाते उनकी देखभाल भी करेंगे।

पर्यावरण के प्रति सभी को अधिक संवेदनशील बनाना सेठ आनंदराम जयपुरिया समूह के स्कूलों और कॉलेजों के पाठ्यक्रम का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। इसलिए वार्षिक वृक्षारोपण अभियान का आयोजन किया जाता है जिसका उद्देश्य छात्रों और शिक्षकों को प्राकृतिक पर्यावरण के प्रति अधिक संवेदनशील और जिम्मेदार बनाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page