‘वी स्टिल हैव द डीप ब्लैक नाइट’ संगीत के माध्यम से पहचान खोजने की एक कहानी : फिल्म निर्देशक गुस्तावो गाल्वाओ

Font Size

नई दिल्ली। फिल्म ‘वी स्टिल हैव द डीप ब्लैक नाइट’ के निर्देशक गुस्तावो गाल्वाओ का कहना है कि, उनकी फिल्म संगीत और कला के लिए जुनून तथा संगीत के माध्यम से पहचान खोजने की एक कहानी है। वह भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 51वें संस्करण के 5वें दिन (20 जनवरी 2021) एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। आईएफएफआई के फेस्टिवल केलीडोस्कोप खंड में आज इस फिल्म का इंडियन प्रीमियर था।
 

यह फिल्म एक ऐसे ट्रम्पेट प्लेयर की कहानी है, जो अपनी प्रतिभा को उचित पहचान दिलाने के लिए संघर्षरत है। पात्रों की पसंद के बारे में बोलते हुए, गुस्तावो ने कहा, “मैंने इसे रॉक बैंड में संगीत के प्रति अलग दृष्टिकोण होने के लिए पात्रों को चुना है। ट्रम्पेट सीखने में 10 साल लगते हैं; यही कारण है कि मैंने किसी और के बजाय एक ट्रम्पेट प्लेयर को ही चुना।” उन्होंने बताया कि, फिल्म 2019 में पूरी हो चुकी है और लैटिन अमेरिकी देशों में फिल्म निर्माण के लिए सार्वजनिक धन स्रोत ही वित्त का एकमात्र जरिया है; भारत के विपरीत, वहां फिल्मों के लिए निजी धन लगाने की अनुमति नहीं है।

फिल्म के बारे में मिली एक प्रतिक्रिया के बारे में साझा करते हुए उन्होंने कहा कि, “एक बार एक महिला ने मुझसे कहा था कि, वह रॉक बैंड और उसकी संस्कृति को नापसंद करती है, लेकिन उसे फिल्म बेहद पसंद है, जिस तरह से इसे प्रस्तुत किया गया है वह बेहतरीन है”।
 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/054VP7.jpg



फिल्म में रॉक बैंड में ट्रम्पटर की भूमिका निभाने वाले प्रमुख अभिनेता वैनेसा गुस्माओ ने कहा कि,”एक संगीतकार होने के नाते, मुझे बैंड के एक भाग के रूप में चुना गया था; मुझे पता है कि एक संगीतकार होने के लिए यह कैसा लगता है और जब कोई पहचाना नहीं जाता है तो क्या होता है”।

‘वी स्टिल हैव द डीप ब्लैक नाइट’ के बारे में

कैरेन गाने गाती है और ब्राज़ील के एक रॉक बैंड में ट्रम्पेट बजाती है, लेकिन इस बढ़ते रूढ़िवादी शहर में कोई भी इसमें दिलचस्पी नहीं लेता है। 27 साल की उम्र में, उसने शहर में उम्मीद खो दी है कि, जो उसके दादा ने बनाने में मदद की थी। वह अपने पूर्व-सहयोगी आर्टर के नक्शेकदम पर चलती है और बर्लिन में अपनी किस्मत आजमाती है। कुछ महीनों बाद एक अप्रत्याशित घटना की वजह से कैरेन को ब्राज़ील में काम शुरू करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। अब उसे एक ऐसी जगह पर अपनी भूमिका को समझना है जहां अभी भी बहुत कुछ बनना बाकी है। यह एक ड्रामा फिल्म है जो 2019 में पूरी हुई, इसका निर्माण ब्राजील-पुर्तगाली, अंग्रेजी, जर्मन भाषाओं में किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page