परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य शुरू : मिलेगा सभी सरकारी योजनाओं का लाभ

Font Size
– 27 से 29 अगस्त तक ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों लगाए जाएंगे कैंप
–  कैम्प में परिवार पहचान पत्र के लिए डाटा तैयार किया जाएगा
– गुरूग्राम में परिवार पहचान पत्र के लिए 2 लाख परिवारों का हो चुका है सर्वेक्षण
गुरूग्राम, 04 अगस्त। गुरूग्राम में परिवार पहचान पत्र बनाने के कार्य शुरू हो गए हैं और इस पहचान पत्र की मदद से सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों को उनके घर पर ही मिलेगा। इससे सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में पारदर्शिता आएगी और गड़बड़ियों की संभावनाएं समाप्त होंगी।
ये विचार गुरूग्राम जिला में पड़ने वाले सोहना विधानसभा क्षेत्र के विधायक संजय सिंह ने आज परिवार पहचान पत्र वितरण कार्यक्रम के बाद मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए व्यक्त किए। आज मंगलवार को पंचकुला में राज्य स्तरीय परिवार पहचान पत्र वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया था जिसमें हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल मुख्य अतिथि थे तथा हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला विशिष्ठ अतिथि के तौर पर उपस्थित थे।
यह राज्य स्तरीय कार्यक्रम वीडियों काॅन्फें्रसिंग के माध्यम से प्रदेश के सभी जिलों में दिखाया गया था। उस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने जब लाभ पात्रों को परिवार पहचान पत्र वितरित किए तो उसी समय सभी जिलों में भी उपस्थित महानुभावों ने उन जिलों में लाभार्थियों को परिवार पहचान पत्र वितरित किए। गुरूग्राम में सोहना के विधायक संजय सिंह,  पटौदी के विधायक सत्यप्रकाश जरावता, उपायुक्त अमित खत्री तथा भाजपा जिलाध्यक्ष भूपेंद्र चैहान ने लाभार्थियों को पहचान पत्र वितरित किए। गुरूग्राम में यह कार्यक्रम लोक निर्माण विश्रामगृह में आयोजित किया गया था।
इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए विधायक संजय सिंह ने कहा कि परिवार पहचान पत्र के डाटाबेस में उपलब्ध जानकारी का उपयोग पात्रता निर्धारित करने के लिए किया जाएगा जिसके माध्यम से लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थियांे का चयन भी स्वतः ही हो जाएगा। उसके बाद परिवारों को हर योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए अलग से आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी। साथ ही सरकार को भी अपनी योजनाओं के क्रियान्वयन को सरल और पारदर्शी बनाकर पात्र परिवारों को सीधे लाभ प्रदान करने में आसानी होगी। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र का डाटाबेस प्रमाणित और सत्यापित होने के बाद लाभार्थी को किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए सत्यापन के लिए कोई भी दस्तावेज अलग से जमा करने की जरूरत नहीं होगी।
कार्यक्रम में मौजूद पटौदी के विधायक सतप्रकाश जरावता ने कहा कि जब से श्री मनोहर लाल ने प्रदेश में मुख्यमंत्री का कार्यभार संभाला है, तब से उन्होंने सूचना प्रौद्योगिकी का प्रयोग करते हुए हर क्षेत्र में लोगों को राहत पहुंचाई है। चाहे किसान हो या कर्मचारी, विद्यार्थियों या श्रमिक सभी को डीबीटी से योजनाओं के अंतर्गत सीधा उनके बैंक खाते में धनराशि जमा करवाकर लाभ दिया है। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र के दूरगामी लाभ बहुत हैं और इससे जहां एक ओर भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा वहीं कल्याणकारी योजना के तहत दी जाने वाली राशि के लीकेज को रोका जा सकेगा।
आज के कार्यक्रम में अतिरिक्त उपायुक्त प्रशांत पंवार ने बताया कि गुरूग्राम जिला में लगभग 2 लाख परिवारों का सर्वे किया जा चुका है और जैसे-जैसे डाटा का प्रमाणिकरण और सत्यापन होता रहेगा, वैसे-वैसे कार्ड बनकर आते रहेंगे। इन कार्डों का स्थानीय स्तर पर बनाई गई कमेटियों के माध्यम से वितरण करवाया जाएगा। आज जिला के 20 लाभार्थियों को परिवार पहचान पत्र के कार्ड वितरित करके शुरूआत की जा चुकी है।
कार्यक्रम को पंचकुला से संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि 27 से 29 अगस्त तक पूरे प्रदेश के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में ग्राम पंचायत स्तर पर तथा नगर निगम अथवा नगर पालिका स्तर पर कैंप लगाकर परिवार पहचान पत्र के लिए डाटा एकत्रित किया जाएगा। इस दौरान जिन परिवारों का डाटा पहले आ चुका है, उनमें यदि कोई कमी होगी तो उसे पूरा किया जाएगा और परिवार के मुखिया से उस डाटा को वैरिफाई करवाया जाएगा। उसके बाद ही परिवार पहचान पत्र बनाए जाएंगें। उन्होंने यह भी कहा कि डाटा वैरिफाई होने के बाद सितंबर महीने में कार्ड बनाकर उनका वितरण किया जाएगा और तीन महीनों में सभी सरकारी योजनाओं का लाभ इस परिवार पहचान पत्र के माध्यम से मिलना शुरू हो जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पहचान पत्र के बनने के बाद योजनाओं के क्रियान्वयन में भ्रष्टाचार खत्म होगा और लाभार्थियों की दिक्कतें दूर होंगी। उन्होंने कहा कि यह कार्ड बनाने का उद्देश्य यह है कि केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ बिना किसी परेशानी के लाभार्थी तक पहुंचे, इसलिए प्रदेश का कोई भी परिवार अपना डाटा दिए बगैर रह ना जाए। उन्होंने कहा कि परिवार से एक बार डाटा लेंगे, उसके बाद हर योजना के लिए अलग-अलग दस्तावेज देने की आवश्यकता नहीं रहेगी। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि हमने गुड गवर्नेंस का संकल्प लिया है और इसका गेट ई-गवर्नेंस से खुलता है।  उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि प्रदेश का हर परिवार खुशहाल हो।
आज के इस कार्यक्रम को पंचकुला में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला तथा नव गठित नागरिक संसाधन सूचना विभाग के प्रधान सचिव वी उमाशंकर ने भी संबोधित किया। पंचकुला में इस कार्यक्रम में हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता, कंेद्रीय राज्यमंत्री रतन लाल कटारिया, हरियाणा सरकार की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा, वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव टीवीएसएन प्रसाद भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: