मारूति सुजुकी ने स्वयंसेवी सहायता समूहों को मास्क के लिए दिया 10 हजार मीटर कपड़ा

Font Size

गुरूग्राम, 14 मई। लाॅकडाउन के इस दौर में लोगों को रोजगार मुहैया करवाकर उनके लिए आजीविका का साधन बनाना भी गुरूग्राम जिला प्रशासन की विभिन्न पहलों में से एक है.  इसी के अंतर्गत जिला में स्वयंसेवी सहायता समूहों की सदस्यों के तौर पर कार्यरत महिलाओं को मास्क बनाने में सहायता करने के लिए मारूति सुजुकी इंडिया लिमिटेड से आग्रह करके 10 हजार मीटर कपड़ा इन महिलाओं को दिलावाया गया है।

यह कपड़ा मारूति सुजुकी इंडिया लिमिटेड की ओर से जनरल मैनेजर काॅरपोरेट एंड गर्वमेंट अफेयर्स जी पी चड्डा ने गुरूग्राम के अतिरिक्त उपायुक्त प्रशांत पंवार को उनके कार्यालय में भेंट किया। श्री पंवार ने इसके लिए कंपनी का आभार जताया और कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए अब हर व्यक्ति को घर से बाहर निकलने का मास्क पहनना अनिवार्य है और कपड़े से बना मास्क सबसे अधिक सुरक्षित और उपयुक्त माना गया है। इसी कड़ी में स्वयं सहायता समूहों की सदस्य महिलाओं के लिए कपड़ा मुहैया करवाने का आग्रह मारूति सुजुकी इंडिया लिमिटेड से किया गया था जो कंपनी ने सीएसआर के तहत उपलब्ध करवाया है जिससे डेढ़ लाख से अधिक मास्क बनाए जा सकेंगे। उन्होंने कहा कि इस कपड़े से महिलाएं मास्क सिलकर देंगी,जो इनके आजीविका में सहायक होगा। उन्होंने बताया कि जिला में हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविक मिशन के तहत लगभग 1250 स्वयं सहायता समूह कार्यरत हैं जिनमें प्रत्येक में 10 से 20 महिलाएं सदस्य हैं। इस प्रकार लगभग 13,500 महिलाएं इन समूहों के साथ जुड़ी हुई हैं।

उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में हम सभी को एकजुटता से प्रयास करने की जरूरत है ताकि कोरोना संक्रमण को फैलने से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि जिला में कई ऐसे स्वयं सहायता समूह है जो मानवता का परिचय देते हुए जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे हैं और उन्हें अपने स्तर पर फेस मास्क निःशुल्क वितरित कर रहे हैं। उन्होंने समाज के आर्थिक रूप से स्मृद्ध व सशक्त लोगों का आह्वाहन करते हुए कहा कि वे जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए जिला प्रशासन का सहयोग करें।

श्री पंवार ने बताया कि जिला मे हीरो मोटो काॅर्प द्वारा भी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से फेस मास्क तैयार करवाए जा रहे हैं जिसके बदले में उन्हें एक निश्चित राशि दी जाती है। कंपनी द्वारा इन महिलाओं को कपड़ा देकर फेस मास्क बनाने का आॅर्डर दिया जा रहा है और बनाने की एवज में 5 रूप्ये प्रति मास्क के हिसाब से उन्हंे राशि दी जा रही है। इससे उन महिलाओं के परिवारों को आर्थिक सहायता मिल रही है। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की इन महिलाओं द्वारा अब तक लगभग डेढ़ लाख फेस मास्क तैयार किए जा चुके हैं और आगे भी यह क्रम जारी है। उन्होंने बताया कि इसका उद्देश्य लोगों को सस्ती दरों पर मास्क उपलब्ध करवाना है ताकि भविष्य में आमजन को असुविधा ना हो।
0 0 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: