गुरुग्राम के लिए ग्रीन एक्शन प्लान बनाने में जुटे अधिकारी, डीसी की अध्यक्षता में हुई बैठक

Font Size

गुरूग्राम । गुरूग्राम जिला प्रशासन द्वारा जिला को हरा-भरा बनाने व लोगों को प्रदूषणमुक्त वातावरण उपलब्ध करवाने को लेकर ग्रीन एक्शन प्लान बनाया जा रहा है। इस एक्शन प्लान को लेकर आज उपायुक्त अमित खत्री की अध्यक्षता में अधिकारियों की बैठक ली गई और उन्हेें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए।

उपायुक्त ने कहा कि ग्रीन एक्शन प्लान बनाने के लिए छह बिंदुओं पर मुख्य रूप से ध्यान केन्द्रित किया जाएगा जिनमें पौधों की संख्या, पानी, ट्री गार्ड, आप्रेशन एंड मैनटेनेंस, स्थानों की पहचान तथा टाइमलाइन आदि शामिल है। उपायुक्त ने कहा कि ग्रीन एक्शन प्लान के लिए जिला प्रशासन के विभिन्न विभागों जैसे वन विभाग, जिला बागवानी विभाग, नगर निगम तथा गुरूजल प्रौजेक्ट आदि का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने वन मंडल अधिकारी सुभाष यादव से कहा कि वे ऐसे पौधों की सूची तैयार करें जिनमें पानी की जरूरत कम पड़ती है। उन्होंने कहा कि ग्रीन एक्शन प्लान को जिला के ग्रामीण व शहरी दोनों क्षेत्रों मे लागू किया जाएगा।

बैठक में वन मंडल अधिकारी सुभाष यादव ने बताया कि सभी छह बिंदुओं को ध्यान में कार्यप्रणाली तैयार की जा रही है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि जिला में अगले वर्ष मानसून के दौरान चलाए जाने वाले पौधारोपण कार्यक्रम को पहले से अधिक योजनाबद्ध व पारदर्शी तरीके से काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ग्रीन एक्शन प्लान को जिला प्रशासन के संबंधित विभागों की वैबसाईटों पर डाला जाएगा ताकि लोगों को पता हो कि जिला में कौन सा क्षेत्र किस विभाग के अंतर्गत आता है। इसका लाभ यह होगा कि लोगों को पौधारोपण संबंधी जानकारी एक ही जगह मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि गुरूग्राम जिला में कई ऐसी संस्थाएं है जो जिला प्रशासन के साथ पौधारोपण कार्यक्रम में शामिल होना चाहती है, लेकिन जानकारी के अभाव में वे ऐसा करने में असमर्थ रहती है। उन्होंने कहा कि वैबसाईट पर पौधारोपण करने संबंधी साइटों की भी डिटेल डाली जाएगी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा वैबसाईट पर ऐसे पौधों की भी सूची डाली जाएगी जिनके रख-रखाव के लिए कम पानी की जरूरत है।

श्री यादव ने कहा कि जिला गुरूग्राम में वन विभाग की सोहना, सैक्टर-52 , पटौदी आदि सहित पांच नर्सरी है। उन्होंने कहा कि जिला गुरूग्राम में बंध के आस-पास के क्षेत्र को हरा-भरा करने के लिए भी रूपरेखा तैयार की जाएगी। बैठक में उपस्थित नगर निगम के चीफ इंजीनियर एन डी वशिष्ठ ने बताया कि इस वर्ष मानसून के सीजन में नगर निगम द्वारा 80 हजार पौधे वितरित किए गए थे। उपायुक्त ने उन्हें निर्देश देते हुए कहा कि वे जिला में पौधारोपण करने के लिए स्थानों की सूची तैयार करें। इस कार्य में निगम पार्षदों का भी सहयोग किया जा सकता है।

बैठक में जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वत्सल वशिष्ठ, वन मंडल अधिकारी सुभाष यादव, नगर निगम के चीफ इंजीनियर एन डी वशिष्ठ , गुरूजल परियोजना की डायरेक्टर शुभि सहित कई अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: