सीएम ने एचटेट को नकल रहित बनाने को लेकर अधिकारियों दी सख्त हिदायत

Font Size

गुरूग्राम। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 16 व 17 नवंबर को होने वाली हरियाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा(एचटैट) को नकल रहित बनाने को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों की वीडियो कान्फ्रंेंसिंग के माध्यम से बैठक ली और उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला प्रशासन एचटैट की परीक्षा को नकलरहित बनाने के लिए समय रहते सभी इंतजाम पूरा कर ले।

उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश में शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाना हमारी प्राथमिकताओं में से एक है, ऐसे में जरूरी है कि प्रदेश में एचटैट की परीक्षा नकलरहित हो। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन सुनिश्चित करे कि परीक्षा केन्द्रों पर नकल ना हो इसके लिए परीक्षा केन्द्रों के आस पास धारा-144 लगाने के लिए निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 16 व 17 नवंबर को परीक्षा केन्द्र के आस-पास फोटोस्टेट आदि की दुकानें बंद हो। उन्होंने वीडियो कान्फें्रसिंग में परीक्षा के आयोजन को लेकर सभी डूज व डोन्ट्स के बारे में विस्तार से बताया।

वीडियो कान्फ्रेंसिंग में गुरूग्राम जिला में प्रदूषण के स्तर को कम करने को लेकर भी चर्चा की गई। उपायुक्त ने मुख्यमंत्री को बताया कि जिला में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए डीजल आॅटो चालकों के साथ जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि डीजल आॅटो बंद करने को लेकर एक्शन प्लान बनाया गया है जिस पर जल्द ही काम शुरू होगा। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखते हुए इस दिशा में जिला प्रशासन द्वारा विशेष प्रयास किए जा रहे हैं।

आज आयोजित वीडियो कान्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री ने रबी की फसल बुआई, पराली जलाने पर अंकुश, सड़क सुरक्षा, नशामुक्ति केन्द्र , स्वच्छ भारत तथा बीपीएल कार्ड वैरिफिकेशन को लेकर भी अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए और इसकी रिपोर्ट 14 नवंबर दोपहर तक हरियाणा की मुख्य सचिव को भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए जरूरी है कि पराली जलाने पर पूर्णतया अंकुश लगे और इसका ठीक से प्रबंधन हो। उन्होंने जिला उपायुक्तों को निर्देश देते हुए कहा कि रबी की फसल की बुआई चल रही है और जल्द ही रबी की फसल की बुआई का काम पूरा हो जाएगा। ऐसे में अधिकारी मार्किट में फर्टिलाइजर आदि की व्यवस्था समय रहते सुनिश्चित कर लें ताकि किसानों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो।

 

सड़क सुरक्षा संबंधी विषय पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उपायुक्त सड़क सुरक्षा को लेकर नियमित बैठक करें और इसकी समीक्षा करते रहें। उन्होंने कहा कि जिला में सड़कों को आम जन के लिए सुरक्षित बनाने को लेकर रोड़ सेफटी टीमों का भी गठन किया गया है जो सड़क सुरक्षा को लेकर जिला प्रशासन का सहयोग कर रही हैं। उन्होंने कहा कि उपायुक्त अपने जिला में फाॅग लाइट, रिफलेक्टर तथा साइनेज आदि के इंतजाम समय रहते कर लें ताकि सड़क दुर्घटनाएं ना हों। उन्होंने कहा कि अधिकारी एक्सीडेंट प्रोन एरिया की पहचान कर वहां पर सड़क दुर्घटना रोकने के लिए कार्य योजना बनाएं। इस कार्य में पीडब्लयूडी विभाग तथा एनएचएआई सहित अन्य विभागों का सहयोग लिया जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने स्वच्छता अभियान के बारे मे निर्देश देते हुए कहा कि जनवरी में स्वच्छता सर्वेक्षण किया जाना निर्धारित है। इस सर्वेक्षण के लिए केन्द्र की टीम द्वारा जिलों का सर्वे किया जाएगा। ऐसे में जरूरी हैं कि जिले समय रहते स्वच्छता सर्वेक्षण के निर्धारित पैरामीटर पूरे कर लें। उन्होंने कहा कि इस कार्य में स्कूलों व काॅलेजों का भी सहयोग लिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अधिकारी ठोस व तरल कचरा प्रबंधन को लेकर विभिन्न विभागों के साथ रूपरेखा तैयार करें।

बैठक में गुरूग्राम जिला में मंडलायुक्त अशोक सांगवान, उपायुक्त अमित खत्री , अतिरिक्त उपायुक्त मोहम्मद इमरान रजा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: