शिवसेना का ऐलान, संजय राउत बोले-महाराष्ट्र का अगला सीएम हमारी पार्टी का होगा

Font Size

मुंबई । महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर पिछले 12 दिनों से जारी उठापठक के बीच मंगलवार को शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने दुष्यंत कुमार की कविता को ट्वीट करते हुए बीजेपी पर निशाना साधा है। संजय राउत ने दुष्यंत की कविता शेयर करते हुए कहा है, सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए। मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही, हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले शिवसेना और बीजेपी में गठबंधन था और दोनों दलों को चुनाव में बहुमत हासिल हुआ लेकिन इसके बाद पिछले 12 दिनों से दोनों पार्टियों में सीएम पोस्ट को लेकर खींचतान जारी है।

संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा। महाराष्ट्र में राजनीति की सूरत बदल रही है। आप जिसे हंगामा कहते हैं वो हंगामा नहीं है वो न्याय, अधिकार और सत्य की लड़ाई है। आप जल्द ही देखेंगे कि महाराष्ट्र में जल्द ऐसी सरकार बनेगी, ऐसा मुख्यमंत्री बनेगा जिसके बाद जनता और आप भी कहेंगे महाराष्ट्र की सूरत बदल गई है।

संजय राउत ने सोमवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद उन्होंने कहा था कि शिवसेना राज्य में सरकार बनाने में कोई बाधा नहीं डाल रही है। उन्होंने कहा कि जिसके पास भी बहुमत है उसे सरकार बनाने की अनुमति दी जानी चाहिए। राउत सत्ता के समान बंटवारे और मुख्यमंत्री पद साझा करने की शिवसेना की मांग को प्रमुखता से उठाने में मुखर रहे हैं। उन्होंने कहा, ”हमने राज्यपाल को बताया कि नयी सरकार के गठन को लेकर राज्य में मौजूदा राजनीतिक हालात के लिए शिवसेना जिम्मेदार नहीं है।

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक राउत ने कहा कि उनकी पार्टी महाराष्ट्र में नयी सरकार के गठन में कोई बाधा पैदा नहीं कर रही है। राज्य में 24 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा हुई थी। राउत ने कहा, ”राज्यपाल ने धैर्यपूर्वक हमें सुना। राज्यपाल ने हमें बताया कि महाराष्ट्र में सरकार गठन में थोड़ा वक्त है। उन्होंने कहा कि कोई भी राजनीतिक दल (बहुमत रखने वाला) आगे आ सकता है और सरकार बनाने का दावा पेश कर सकता है। राज्यसभा सदस्य ने कहा, ”हम सहमत है कि राज्यपाल संविधान की रूपरेखा के तहत काम कर रहे हैं। यह मुलाकात ऐसे समय हुई है जब विभागों के समान बंटवारे और ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच तनातनी बनी हुई है।

गौरतलब है कि 21 अक्टूबर को 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा के लिए हुए चुनावों में भाजपा ने 105 सीटों, शिवसेना ने 56, राकांपा ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटों पर जीत दर्ज की। इस बीच मराठी के एक दैनिक समाचार पत्र ने संजय राउत की तुलना अपनी पहेलियों से राजा विक्रमादित्य को चुनौती देने वाले पौराणिक पिशाच ‘बेताल से की और उन्हें विदूषक बताया। राउत पर निशाना साधते हुए नागपुर के अखबार ‘तरुण भारत ने कहा कि वह महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को सत्ता में आने के मौके को नुकसान पहुंचा रहे हैं। माना जाता है इस समाचार पत्र का झुकाव आरएसएस की ओर है।

अखबार ने कहा, ”दिवंगत बालासाहेब ठाकरे ने अपना पूरा जीवन कांग्रेस तथा राकांपा को सत्ता से बेदखल करने में बिताया लेकिन यह बेताल उनके सपनों को तोड़ने की कड़ी मशक्कत कर रहा है। उधर, शिवसेना ने मांग की कि महाराष्ट्र में बारिश से प्रभावित किसानों को लगभग 30,000 करोड़ रुपये का राहत पैकेज प्रदान किया जाए।
पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में कहा गया है कि राज्य में किसानों को किसी भी कीमत पर बचाने की जरूरत है। पार्टी ने फसलों के नुकसान पर घोषित 10,000 करोड़ रुपये की सहायता को अपर्याप्त बताया।

राउत ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के साथ अपनी एक तस्वीर ट्वीट करते हुए संदेश लिखा “लक्ष्य तक पहुंचने से पहले सफर में मजा आता है।” ‘मराठी मानुष के मुद्दों की पैरोकार रही शिवसेना के राज्यसभा सदस्य राउत ने अपने ट्विटर हैंडल पर हिंदी में संदेश पोस्ट किया, “लक्ष्य तक पहुंचने से पहले सफर में मजा आता है।” राउत ने पोस्ट में अपने फालोअर्स का अभिवादन “जय हिंद” के नारे के साथ किया है जबकि उनकी पार्टी लंबे समय से अभिवादन के लिये “जय महाराष्ट्र” के इस्तेमाल पर जोर देती रही है। राज्य में मंत्री और भाजपा नेता जयकुमार रावल ने कहा कि उनकी पार्टी के कुछ नेता प्रदेश में फिर से चुनाव के पक्ष में हैं। भाजपा नेताओं ने रविवार को धुले जिले में आयोजित एक समीक्षा बैठक के दौरान यह विचार व्यक्त किए।

महाराष्ट्र में भाजपा को समर्थन देने वाले निर्दलीय विधायक रवि राणा ने दावा किया कि शिवसेना के ”करीब 25 विधायक अगली सरकार के गठन के लिए उनके संपर्क में हैं। उन्होंने शिवसेना को ”बहुत अभिमानी करार दिया और दावा किया कि उद्धव ठाकरे नीत पार्टी टूट जाएगी और यदि फड़णवीस इस सहयोगी दल के बिना अगली सरकार बनाते हैं तो लगभग दो दर्जन विधायक भाजपा में शामिल हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: