आज का दिन गांधी और शास्त्री के दर्शन को समझने और उस पर चलने का है

Font Size

पताही थाना अध्यक्ष विकास तिवारी ने गांधी दर्शन पर चलने की नसीहत दी और केक काटा

महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री के जन्म दिवस पर हुई शिलालेख की साफ-सफाई

नीरज कुमार सिंह

मोतिहारी । बापू की कर्मस्थली चंपारण में उनके जयंती पर जिला मुख्यालय से लेकर प्रखंड मुख्यालय में विभिन्न कार्यक्रम की धूम मची रही। इसी कड़ी में पताही थाना परिसर में महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री के जन्मदिन पर थाना अध्यक्ष विकास तिवारी, अंचल अधिकारी रोहित कुमार की संयुक्त अध्यक्षता में जन्म उत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। थाना अध्यक्ष ने 5 किलो का केक काटकर गांधी जी और लाल बहादुर शास्त्री जी के आदर्शों पर चलने की नसीहत दी।

उन्होंने कहा कि आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और उनके दर्शन को समझने का दिन है ना कि ऐसे ही समय व्यर्थ व्यतीत करने का। इन दोनों महापुरुषों के जयंती हर भारतीय के लिए काफी मायने रखती है। उनके लिए काफी गौरव की बात है। यह गांधीजी को समझने का दिन है। ऐसा नहीं कि महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री जी की प्रतिमा पर जाएं और उन्हें माल्यार्पण करें और उनके आदर्शों को वहीं पर छोड़कर चले आए ? उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री के नाम पर नाना प्रकार का आयोजन करें, लेकिन आज जो गांधी और शास्त्री जी के आदर्श हैं उनके आदर्श को उसी स्थल पर ही छोड़ कर लोग चले जाते हैं। यह गांधी और शास्त्री के जीवन चरित्र के साथ न्याय नहीं कर रहे हैं। उन्होंने अपने लिए कुछ नहीं किया , संपूर्ण जगत, संपूर्ण मानवता के लिए उनका जीवन समर्पित रहा है। उन्होंने किसी भी तरह का विभेद नहीं किया । अपनी बातों को इस प्रकार से नहीं रखा कि कोई उन पर अंगुली उठा सके। उनका जीवन सादगी भरा और मानव मात्र के लिए रहा है।

चंपारण यात्रा के दौरान उन्होंने अंग्रेजों द्वारा तीन कठिया प्रथा के विरुद्ध अहिंसात्मक आंदोलन के साथ आवाज बुलंद किया था । आज के युवा उनके आदर्शों को भूल रहे हैं। उनके आदर्शों पर चलकर ही सही मायने में उनको सच्ची श्रद्धांजलि होगी। गांधी और शास्त्री के विचारों पर उन्होंने कहां कि मां को नहीं बताया था कि वो रेल मंत्री हैं।कहा था कि “मैं रेलवे में नौकरी करता हूं”। वह एक बार किसी कार्यक्रम में आए थे जब उनकी मां भी वहां पूछते पूछते पहुंची कि मेरा बेटा भी आया है, वह भी रेलवे में है।
लोगों ने पूछा क्या नाम है जब उन्होंने नाम बताया तो सब चौंक गए ” बोले यह झूठ बोल रही है”।
पर वह बोली, “नहीं वह आए हैं”।
लोगों ने उन्हें लाल बहादुर शास्त्री जी के सामने ले जाकर पूछा,” क्या वही है?”
तो मां बोली “हां वह मेरा बेटा है”
लोग मंत्री जी से दिखा कर बोले “क्या वह आपकी मां है”
तब शास्त्री जी ने अपनी मां को बुला कर अपने पास बिठाया और कुछ देर बाद घर भेज दिया।
तो पत्रकारों ने पूछा “आपने उनके सामने भाषण क्यों नहीं दिया”
तो वह बोले-
मेरी मां को नहीं पता कि मैं मंत्री हूं। अगर उन्हें पता चल जाए तो वह लोगों की सिफारिश करने लगेगी और मैं मना भी नहीं कर पाऊंगा।….. और उन्हें अहंकार भी हो जाएगा। इस तरह दोनों महापुरुषों के आदर्शों पर चलकर ही सही मायने में सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

इस दौरान दैनिक जागरण के वरिष्ठ पत्रकार नीरज कुमार , पत्रकार शशी रंजन अभिराम कुमार ,अपर थानाध्यक्ष गंगादयाल ओझा, बिरसा उरांव, सेफ और बीएमपी के जवान शामिल थे। मुखिया संघ के अध्यक्ष अनिल सिंह, मुखिया अजय कुमार सिंह, कृष्ण मोहन सिंह, पूर्व मुखिया उपेंद्र पांडेय, समाजसेवी आमोद नारायण कुवर, चुन्नू सिंह, दरोगा गंगा दयाल ओझा, बिरसा उरांव, श्याम नंदन दास, जलेश्वर भगत सुनील सिंह, शिव जालंधर सिंह, राघव सिंह चौहान, अशोक तिवारी, चुमन सिंह, कुमुद रंजन, चंदन साह, दिनेश राम, मोहन कुमार, अरुण तिवारी, पूर्व मुखिया अभय तिवारी, सुधीर सिंह, जितेंद्र सिंह, सहित सौकड़ों बुद्धिजीवी एवं समाजसेवी राजनैतिक दलों के लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page
%d bloggers like this: