राव इंद्रजीत बोले : कांग्रेस पार्टी ने ही पहले दलबदल विरोधी कानून का दुरुपयोग किया

Font Size

गुरूग्राम, 16 जुलाई। केंद्रीय सांख्यिकीय तथा कार्यक्रम कार्यान्वयन राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने आज कहा कि कांग्रेस पार्टी ने सबसे पहले दल-बदल विरोधी कानून का दुरूप्योग किया, इसलिए आज उसका बुरा हाल है।
राव इंद्रजीत सिंह आज गुरूग्राम में एक राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र के कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस कार्यक्रम में वे लोकतांत्रिक व्यवस्था पर खुलकर बोले और अपने बेबांक विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हमारे देश में प्रजातंत्र है जिसमें यदि आप जीतकर चले गए तो उसके बाद पार्टी ही रह जाती है, आप कुछ नहीं कर सकते। यदि पार्टी का नेतृत्व अच्छा है तो आप अच्छा काम कर सकते हैं और यदि नेतृत्व ठीक नही है तो आप कुछ नही कर सकते। नेतृत्व के खिलाफ बोलेंगे तो दल-बदल विरोधी कानून लागू कर दिया जाएगा। यही हमारे देश के लोकतंत्र की विडंबना है। इस कानून का सबसे पहले कांग्रेस ने दुरूपयोग किया।
उन्होंने कहा कि आज सत्तारूढ भारतीय जनता पार्टी का नेतृत्व श्री नरेंद्र भाई मोदी के कुशल हाथों में है। देशवासियों ने अपना मूलमंत्र श्री नरेंद्र भाई मोदी को बना रखा है परंतु उनके बाद देश का क्या होगा क्योंकि एक व्यक्ति सदा जीवित नही रह सकता, उसकी एक आयु होती है। राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि ब्रिटिश लोकतंत्र और हमारे देश के लोकतंत्र में यही अंतर है कि वहां पर जीतकर जाने वाला व्यक्ति अपनी पार्टी के खिलाफ भी वोट दे सकता है, जो भारत में संभव नही है। उन्होंने कहा कि हमारा लोकतंत्र अपरिपक्व है और इसके परिणामों को हमें भुगतना पडे़गा।
उन्होंने कहा कि पै्रस के लिए भी पोलिटिशियन सबसे आसान टारगेट होता है, जिसके खिलाफ जो मर्जी लिख दें। मीडिया वाले ब्यूरोक्रैटस की क्यांे नही बजाते। राव इंद्रजीत सिंह बोले कि मैं सीधा-सादा पोलिटिशियन हूं, खरी बात कहता हूं, किसी को लग जाती है तो किसी की सुधर जाती है। उन्होंने कहा कि अरावली के मामले में मैं बुरा बना। सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का मैंने स्वागत किया। उन्होंने यह भी बताया कि एमपीलैड फंड से सबसे ज्यादा पैसा मैंने वाॅटर हाॅर्वेस्टिंग के लिए दिया है।
केंद्रीय मंत्री ने गुरूग्राम में मल्टी लैवल पार्किंग का भी जिक्र किया और कहा कि उन्होंने यहां पर एक मल्टी लैवल पार्किंग जीएमडीए में मंजूर करवाई थी। उसके बाद भी लोग पार्किंग में गाड़ी खड़ी करने की बजाय सडक पर खड़ी करते हैं इसलिए अगली बैठक में जीएमडीए ने कहा कि यहां मल्टी लैवल पार्किंग की जरूरत ही नही है। गुरूग्राम में जहरीली हवा अर्थात् वायु प्रदूषण का उल्लेख करते हुए राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि दिल्ली एनसीआर में हर महीने हजारों नई गाड़ियों का रजिस्टेªशन होता है, क्यों नहीं गाड़ियों की संख्या निर्धारित कर दी जाए। उन्होंने कहा इस मामले में वे उत्तर प्रदेश तथा हरियाणा की सरकारों को सहमत कर सकते हैं लेकिन राजनीतिक हालात ऐसे हैं कि दिल्ली को वे नहीं मना सकते क्योंकि वहां दूसरी पार्टी की सरकार है।
उन्होंने द्वारका एक्सपै्रस वे का भी जिक्र किया और कहा कि 17 किलोमीटर लंबाई का यह एक्सपै्रस-वे लगभग 9 हजार करोड़ रूप्ए की लागत से तैयार होगा। साथ ही बताया कि देश का सबसे मंहगा दिल्ली-मुंबई एक्सपै्रस-वे 90 हजार करोड़ में बनेगा, जो गुरूग्राम से होकर जाएगा और इसके बनने से रोजगार मिलेगा तथा वाहन चालकों को सुविधा भी होगी।
इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री के साथ गुरूग्राम की मेयर मधु आजाद, हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड की चेयरपर्सन गार्गी कक्कड़, भाजपा के पूर्व कार्यकारी जिलाध्यक्ष कुलभूषण भारद्वाज, स्टारऐक्स विश्वविद्यालय के कुलपति डा. अशोक दिवाकर, भाजपा नेत्री पूनम भटनागर, अशोक आजाद सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: