अमेरिका के प्रांत केनटुकी के गर्वनर मैटबेविन की अध्यक्षता में 25 सदस्यीय उद्यमियों के दल ने सीएम मनोहर लाल से की मुलाकात

Font Size

चंडीगढ़। अमेरिका के प्रांत केनटुकी के गर्वनर मैटबेविन की अध्यक्षता में 25 सदस्यीय विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधियों के एक समूह ने अहमदाबाद में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात की और हरियाणा में नए व्यवसाय स्थापित करने व अन्य क्षेत्रों में पूजी निवेश को आकर्षित करने को लेकर विचार विर्मश हुआ।

मुख्यमंत्री ने केनटुकी के गर्वनर मैटबेविन को भरोसा दिलाते हुए कहा कि हिसार में ऐविएशन हब,केएमपी के दोनों ओर समग्र विकास करने और उसे एक औद्योगिक कोरीडोर विकसित करने को लेकर चर्चा हुई। मुख्यमंत्री ने अमेरिकी प्रतिनिधि मंडल का स्वागत करते हुए कहा कि विगत तीन वर्ष पूर्व उन्हें अमेरिका जाने का मौका मिला और वहां उन्हें अमेरिका में स्थापित व्यवसायों को जानने का अवसर मिला।

उन्होंने कहा कि हरियाणा में सिविल ऐविएशन,एमआरओ,आई टी,स्मार्ट सिटी,एग्रो इंडस्ट्री,फुड प्रोसैसिंग व पैकेजिंग जैसे क्षेत्रों में नए उद्योग विकसित करने की अपार संभावनाएं हैं। इन क्षेत्रों में अमेरिका की कंपनियां निवेश कर अपने उद्योग स्थापित कर सकती हैं। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि उनको प्रदेश सरकार की ओर से सभी सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी।

आज हरियाणा प्रदेश में ईज ऑफ डूईंग की तहत बिजनेस करने के लिए एक ही छत के नीचे औधोगिक संस्थानों के कार्य किए जाते हैं। किसी को भी इस कार्य के लिए इधर-उधर चक्कर नहीं काटने पड़ते। कैशलैस को बढावा दिया गया है, जिससे पारदर्शिता बढ़ी है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने बताया कि युवाओं को तकनीकी स्तर पर दक्ष किया जा रहा है व उन्हें चैंपियन आफ चेंज के रूप में स्थापित किया जा रहा है ताकि वे देश व प्रदेश की तरक्की में अपना योगदान दे सकें।

सीएम मनोहर लाल ने कहा कि गुरूग्राम को ग्लोबल सिटी के रूप में विकसित किया जा रहा है। इसके अलावा दिल्ली के आस-पास लगते हरियाणा के क्षेत्र को भी भविष्य के संभावित क्षेत्रों में देखा जा रहा है।

केनटुकी के गर्वनर मैटबेविन ने इस अवसर पर कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था में बहुत संभावनाएं है। अगले 15 से 20 वर्षों में भारत एक आर्थिक शक्ति के रूप में उभर कर आएगा। उन्होंने कहा कि उनके प्रांत में एरोस्पेस, एविएशन, आटो, पैट्रो, रबर, प्लास्टिक, मेडिसन, सडक़ें व शिपिंग इत्यादि क्षेत्रों में तरक्की के नए आयाम स्थापित किए हैं। बेहतर सडक़, रेल व हवाई मार्ग कनैक्टीविटी होने से औधोगिकीकरण को बढावा मिलता है। इस मामले में हरियाणा तेजी से आगे बढ रहा है। उन्होंने कहा कि आज की इस बैठक से अच्छे संबंध बने हैं और इससे अच्छे बिजनेस की संभावनाएं उभर कर आएंगी।

इस मौके पर यूएस-इंडिया बिजनेस की अध्यक्ष निशा बिस्वाल ने कहा कि हरियाणा एक कृषि प्रधान देश है और किसान की आर्थि दशा को सुधारने के लिए कृषि से जुड़े व्यवसायों को स्थापित करने की जरूरत है। उन्होंने आश्वस्त किया कि आगामी समय में हरियाणा में यूएस की बड़ी कंपनिया निवेश करेंगी। बैठक में आईबीएम के कार्यकारी निदेशक व कन्ट्री हैड विवेक वशिष्ठ ने कहा कि आगामी

बैठक में आईबीएम के कार्यकारी निदेशक व कन्ट्री हैड विवेक वशिष्ठ ने कहा कि आगामी 11 मार्च से हरियाणा प्रदेश की 30 हजार लड़कियों को स्कील डैवल्पमैंट का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके अलावा सीएसआर के तहत मेवात आदि क्षेत्रों में कंपनी द्वारा अनेक कार्य किया है। इस मौके पर केपीएमजी के प्रदीप उदास,एमेजॉन के सुशान पुवाईंटर,ली हाई विश्वविद्यालय के वाईसचांसलर एलएनजे सिंडर, स्नामएसफोर के सीईओ एड्रीयन म्यूटोन,इनवैस्ट इंडिया पवन चौधरी,निदेशक अशोक सांगवान, एचएसआईडीसी के एमडी नरहरी बांगड़ सहित विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधि भी मौजुद थे। बैठक में उद्योग विभाग के एसीएस देवेन्द्र सिंह ने प्रतिनिधि मंडल को विस्तार से हरियाणा के औद्योगिक विकास व संभावनाओं के बारे में जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: