हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज का बिहार के शिक्षा मंत्री पर हमला !

Font Size

गृह मंत्री अनिल विज ने बिहार के शिक्षा मंत्री द्वारा रामचरितमानस पर दिए विवादित बयान पर कसा तंज, कहा “जो नहीं राम का, वो नहीं किसी काम का”

“बिहार के शिक्षा मंत्री के ब्यान से ऐसा मालूम होता है कि उनकी इतनी बुद्धि नहीं वह रामचरित मानस को समझ सकें”- अनिल विज

देश में कॉमन सिविल कोड जल्द लाना चाहिए, किसी को कोई विशेष अधिकार नहीं होना चाहिए – विज

हरियाणा के पड़ोसी राज्यों में खुली दुकानों से प्रदेश में लिंगानुपात को ज्यादा खतरा – विज

चंडीगढ़, 12 जनवरी : हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य ने अनिल विज ने बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर द्वारा रामचरितमानस पर दिए विवादित बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि “यह देश राम का है, जो नहीं राम का, वो नहीं किसी काम का”।

पत्रकारों से बातचीत के दौरान श्री विज ने बिहार के शिक्षा मंत्री पर कटाक्ष करते हुए कहा कि “मुझे नहीं लगता कि मंत्री महोदय ने रामचरित मानस को पढ़ा है और यदि पढ़ा है तो उनके ब्यान से ऐसा मालूम होता है कि उनकी इतनी बुद्धि नहीं वह रामचरित मानस को समझ सकें“। उन्होंने नसीहत देते हुए कहा कि यह देश राम का है “जो नहीं राम का, वो नहीं किसी काम का”, इस प्रकार की बातें करके देश में वैमनस्य न फैलाओं। गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि इस देश की जनता सुबह उठते ही राम-राम करती है, शाम को राम-राम करती है, गांव-शहर में राम-राम करती है। राम रोम-रोम में बसे हुए हैं और उस पर कोई भी प्रश्नचिन्ह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

गौरतलब है कि बिहार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने रामचरितमानस पर विवादित टिप्पणी करते हुए इसे नफरत फैलाने का ग्रंथ कहा था। रामचरितमानस के उत्तरकांड में वर्णित चौपाई ” पुजहिं विप्र ज्ञान गुण हीना ,शुद्र न गुण गन वेद प्रविणा ” का जिक्र करते हुए कहा था कि हमारे शास्त्रों की इस प्रकार की उक्तियों से देश का विकास संभव नहीं हो सकता . उन्होंने कहा था कि निम्न जातियों के गुणवान होने के बावजूद उनके साथ भेदभाव करने की सीख देना देश के हित में नहीं है . उन्होंने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की चर्चा करते हुए कहा कि वह देश के पहले छात्र रहे जो दलित समाज से थे और दुनिया के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में उन्होंने अपनी विद्वता का डंका बजाया . इस बयान को लेकर बिहार के शिक्षा मंत्री की तीव्र आलोचना हो रही है. उनके इसी बयान पर हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने भी उन पर तंज कसा है.

ओवैसी के बयान पर पलटवार, “देश में सभी को मिल-जुलकर रहना चाहिए, क्यों उछल-कूद करते हो”- विज

गृह मंत्री अनिल विज ने एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि भारत में रहने से किसी को कौन मना कर रहा है, मिल-जुलकर सभी को रहना चाहिए, क्यों उछल-कूद करते हो। श्री विज ने कहा कि मोहन भागवत ने यहीं कहा कि भारत में सभी को रहने का अधिकार है। इसीलिए हम कहते हैं कि कॉमन सिविल कोड जल्द लाना चाहिए और वह इनको कॉमन सिविल कोड का समर्थन करने के लिए कहेंगे क्योंकि सब बराबर होने चाहिए और किसी को कोई भी विशेष अधिकार नहीं होना चाहिए।

गौरतलब है कि ओवैसी ने गत दिनों एक बयान में कहा था कि भारत में रहने के लिए मुस्लमानों को मोहन भागवत से सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है।

हरियाणा के पड़ोसी राज्यों में खुली दुकानों से लिंगानुपात को खतरा, राज्यों के मुख्यमंत्रियों को लिखेंगे – स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज

हरियाणा में लिंगानुपात पर पूछे सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा के पड़ोसी राज्यों पर दुकानें खुली है वहां से खतरा ज्यादा आ रहा है और हमारे जिले भी वहीं से प्रभावित है जो एनसीआर या अन्य राज्यों के आसपास लगते हैं। उन्होंने कहा कि इनकी डिटेल बनाने को कहा गया है, और इन प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को लिखा जाएगा कि एक गली में दस-दस अल्ट्रासाउंड क्या कर रहे हैं।

श्री विज ने कहा कि लिंगानुपात को लेकर मीटिंग ली गई है और उस पर कड़ा संज्ञान भी लिया गया है। सभी अधिकारियों व सीएमओ के साथ बातचीत कर कार्य योजना बनाई गई है। उन्होंने कहा की इस पर पूरी सख्ती की जाएगी और प्रदेश के सभी अल्ट्रासाउंड सेंटरों पर चेकिंग की जाएगी।

%d bloggers like this: