हरियाणा में ग्रीवेंस रिड्रेसल मैकेनिज्म का हुआ उल्लेखनीय कार्य : अनिल विज

Font Size

-गृह मंत्री अनिल विज ने चिंतन शिविर के पहले दिन हरियाणा में हुए सराहनीय कार्यों की दी जानकारी

-नशा तस्करों पर कार्रवाई, डायल 112, पुलिस अवार्ड्स आदि कार्यों से बढ़ा कानून व्यवस्था पर विश्वास

चण्डीगढ़, 27 अक्टूबर : हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि अपराधों पर रोक के साथ-साथ ग्रीवेंस रिड्रेसल मैकेनिजम विकसित करना चाहिए। हरियाणा में इस दिशा में पहल करते हुए राज्य के सभी जिलों में पुलिस कप्तानों को प्रति दिन कम से कम एक घण्टा जनसमस्याएं सुनने के निर्देश दिए गए है। वहीं वे स्वयं भी सप्ताह में एक दिन लोगों की समस्याएं सुनते हैं।

श्री विज ने ये बात आज फरीदाबाद के सूरजकुंड में आयोजित किए जा रहे दो दिवसीय चिंतन शिविर के पहले दिन अपने संबोधन में कही। उन्होंने हरियाणा आगमन पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, विभिन्न राज्यों के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, गृह मंत्री व अन्य डेलिगेट्स के स्वागत भी किया।

उन्होंने कहा कि बढ़ती नशाखोरी पर रोक व नशा तस्करों पर कार्रवाई के लिए हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो का गठन किया गया है। नशा तस्करों पर कार्रवाई के साथ धरातल पर नशे से बचाव के लिए भी लोगों को जागरुक किया जा रहा है। इसके लिए सब डिविजन, वार्ड व ग्राम स्तर पर कमेटी भी गठित की गई है।

उन्होंने डायल 112 के प्रयोग की जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस अब कॉल पर आसानी से उपलब्ध होगी। इसके लिए डायल 112 के लिए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया और 600 एमरजेंसी रिस्पांस व्हीकल शामिल किए गए। हर महीने कंट्रोल रूम को 50 से 55 हजार कॉल मिल रही है।

गृह मंत्री ने पुलिस सुधार के लिए किए गए कार्य की जानकारी देते हुए बताया कि अच्छा कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को प्रोत्साहन के लिए 30 अवार्ड आरंभ किए गए है। जिनमें 10 मुख्यमंत्री स्तर पर, 10 गृह मंत्री व 10 अवार्ड डीजीपी स्तर पर आरंभ किए गए है। पुलिसकर्मियों के मनोबल बढ़ाने में यह प्रयोग कारगर साबित हुआ है और लोगों का भी कानून के प्रति विश्वास मजबूत हुआ है।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: