प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी सितंबर माह को आयुष विभाग में पोषण माह के रूप में मनाया

Font Size

गुरुग्राम, 30 सितंबर। आयुष विभाग गुरुग्राम द्वारा 1 से 30 सितंबर 2022 तक राष्ट्रीय पोषण माह का आयोजन किया जिसमें 30 शिविर लगाए गए, जिसमें कि 14 शिविर विभिन्न विद्यालयों में और 16 सामान्य जन के लिए डिस्पेंसरी और सिविल अस्पताल में लगाए गए। इन शिविर में लगभग 7259 लोग लाभान्वित हुए । इन सभी को परामर्श, चिकित्सा लाभ के साथ-साथ उचित खानपान एवं पोषण के बारे में जानकारी दी गई।

प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी सितंबर माह को आयुष विभाग में पोषण माह के रूप में मनाया 2

विद्यालयों में बालिकाओं एवं ग्रामीणाचल में सामान्य जन सभी को सही प्रकार से सुगम, सुलभ आहार से उचित पोषण कैसे पाया जा सकता है इस बारे में जानकारी दी ।
आजकल बालक बालिकाएं एवं युवा खानपान की गलत आदतों के कारण कुपोषण का शिकार हो जाते हैं और मोटापा भी कुपोषण का ही एक लक्षण है ।

भोजन उचित समय पर उचित मात्रा में और उचित विधि से करना स्वास्थ्यवर्धक होता है।

उचित समय पर भोजन करना स्वास्थ्यवर्धक होने के साथ-साथ मधुमेह के रोगियों को मधुमेह नियंत्रण में भी लाभ देता है।

##मौसम के अनुसार उपलब्ध फल और सब्जियां आसानी से उपलब्ध , सस्ते और पौष्टिकता से भरपूर होते हैं इसीलिए वही हमें अधिक स्वास्थ्य लाभ दे सकते हैं ।

प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी सितंबर माह को आयुष विभाग में पोषण माह के रूप में मनाया 3

गेहूं और चावल के अतिरिक्त मोटा अनाज ज्वार, बाजरा, रागी इत्यादि का सेवन हमारे स्वास्थ्य के साथ-साथ किसानों को अतिरिक्त आमदनी और धरती को भी जल के अधिक दोहन से बचा सकते हैं।

आजकल के युवा योग के स्थान पर जिम जाते हैं और वहां पर कृत्रिम प्रोटीन का सेवन करते हैं जोकि उनके पाचन संस्थान को भी नुकसान पहुंचा सकता है इसीलिए कृत्रिम प्रोटीन के स्थान पर अंकुरित दालें ,पनीर ,गर्म दूध का सेवन लाभदायक है।

अब सर्दियों में बहुत अधिक फल और सब्जियां उपलब्ध होते हैं जो हमें स्वास्थ्य लाभ दे सकते हैं।

जैसे
*इस मौसम में उपलब्ध आंवला विटामिन सी का बहुत अच्छा स्त्रोत होता है। *कच्ची हल्दी जिसका हम सब्जी ,अचार या दूध के में डालकर प्रयोग कर सकते हैं और वह हमें बहुत से रोगों से बचाती है।


*हरी सब्जियां, पालक ,मेथी ,बथुआ, चौलाई इत्यादि भी इस मौसम में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होते हैं जिनका रोटी या साग के रूप में प्रयोग करके खून की कमी को पूरा किया जा सकता है। *गाजर भी इस मौसम में उपलब्ध होती है जिसका सब्जी कच्चे सलाद के रूप में या जूस के रूप में प्रयोग नेत्रों के लिए बहुत लाभदायक होता है।
इस प्रकार इन सभी बातों का ध्यान रखकर हम आसानी उचित पोषण पा सकते हैं।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: