कांग्रेस पार्टी ने पूछा : अग्निपथ के नाम पर कितने नौजवानों को शहीद करवाने का इरादा है ?

Font Size

नई दिल्ली : सेना के तीनों अंगों में भर्ती की नई योजना अग्निपथ के विरोध में देश के कई राज्यों में हो रही हिंसा पर कांग्रेस पार्टी ने नरेंद्र मोदी सरकार को घेरा. पार्टी ने आज प्रेस वार्ता क्र केंद्र सरकार से इस योजना को तत्काल वापस लेने की मांग करते हुए देश में हिंसक माहौल पैदा करने का आरोप लगाया. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व राज्य सभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने कहा कि जवान हो या किसान, भाजपा सरकार सबके साथ नाइंसाफी कर रही है और सभी का अपमान कर रही है। किसानों के सत्याग्रह के आगे पीएम मोदी को झुकना पड़ा था और काले कानून वापस लेने पड़े थे।

उन्होंने कहा कि इसी तरह युवाओं के खिलाफ लाई गयी ‘अग्निपथ योजना’ को भी वापस लेना पड़ेगा। देश के युवा अग्निपथ का विरोध कर रहे हैं. युवाओं के बीच भारी आक्रोश है, क्योंकि सालों-साल तक तैयारी कर सेना की नौकरी पाने की चाहत रखने वाले युवाओं के हक और सुविधाओं को सरकार खत्म करना चाहती है। उनका कहना था कि आज देश का युवा भारी निराशा में जिंदगी व्यतीत कर रहा है।

राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी ने यह कहते हुए सवाल किया कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 700 किसानों की शहादत के बाद कृषि कानूनों को वापस लिया था, यहां कितने नौजवानों को शहीद करवाने का इरादा है ? इस योजना को तत्काल रूप से वापस लीजिए .

कांग्रेस नेता ने कहा कि क्या वित्तीय बचत के लिए आप नौजवानों को शहीद कर देंगे ? क्या कांग्रेस ने इसी दिन के लिए आजादी की लड़ाई लड़ी थी ? उन्होंने आरोप लगाया कि जिनके पूर्वज विश्वयुद्ध में अंग्रेजों के साथ हाथ मिलाकर लड़ने की बात कर रहे थे, वे आज देश के नौजवानों को 22-23 की आयु में बेरोजगार बना रहे हैं. उन्होंने कहा कि आज युवा सड़कों पर निकल पड़े हैं और उन्हें नहीं मालूम कि उनका भविष्य क्या है। उनके मां-बाप उन्हें बेबस होकर देख रहे हैं।

श्री तिवारी ने बल देते हुए कहा कि युवा आपसे रोजगार मांग रहे हैं। उस वादे का जवाब मांग रहे हैं जो 2 करोड़ रोजगार के रूप में किया गया था.मोदी सरकार की ‘अग्निपथ’ स्कीम में भर्ती होने वाले वीरों के लिए न पेंशन है, न कैंटीन है, न सम्मान है। तो फिर ये कैसी सैन्य भर्ती है ? मोदी सरकार की अग्निपथ योजना युवाओं का भविष्य खराब करेगी, युवा को शॉर्ट टर्म रोजगार नहीं चाहिए। ना रैंक, ना पेंशन; तो फिर इस योजना पर विश्वास कैसे करें ?

कांग्रेस पार्टी ने पूछा : अग्निपथ के नाम पर कितने नौजवानों को शहीद करवाने का इरादा है ? 2इस अवसर पर कांग्रेस पार्टी के मिडिया सेल के चेयरमैन पवन खेड़ा ने कहा कि प्रत्येक वर्ष 55 हजार सैनिक सेवानिवृत्त होते हैं . ये सभी अच्छी तरह प्रशिक्षित और योग्य होते हैं लेकिन इस सरकार का ट्रैक रिकॉर्ड है कि उनमें से मुश्किल से एक से दो प्रतिशत ही दोबारा नौकरी प्राप्त कर पाते हैं. पूर्व सैनिकों को समायोजित करने के लिए पहले से ही 6 प्रतिशत का आरक्षण है. इसलिए अर्ध सैनिक बलों में 10 प्रतिशत आरक्षण की बात करना धोखा देना है. कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि यह बेहद चिंता का विषय है कि मोदी सरकार देश के युवाओं का सैन्यीकरण कर रहे हैं क्योकि भर्ती होने वाले 75 प्रतिशत उन युवाओं का क्या होगा जो 4 साल बाद फॉर बेरोजगार हो जायेंगे. उन्होंने आरोप लगाया कि जिन 25 प्रतिशत को सेन में बनाए रखा जाएगा वह कहीं संघ से सम्बंधित तो नहीं होंगे ?

पत्रकार वार्ता में कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार ने यह कहते हुए सवाल उठाया कि ” हम पूछना चाहते हैं कि नियमित भर्ती प्रक्रिया को खत्म करने का कारण क्या है? तब सरकार दावे बताती है-  सरकार कहती है कि हम चाहते हैं कि नौजवानों को रोजगार मिले, लेकिन सरकार रोजगार के प्रति गंभीर होती तो केंद्र सरकार में 28 लाख रिक्त पदों को भर्ती करती. उन्होंने कहा कि हकीकत यह है कि ये असली बात देश की जनता से छिपाना चाहते हैं।

कन्हैया कुमार ने कहा कि असली बात यह है- नोटबंदी के दौरान आतंकवाद, नक्सलवाद खत्म होने के दावे किए गए, मगर क्या हुआ ?. जब इनके माँ-बाप पैदल हजारों कि.मी चलकर गए, ये वही नौजवान हैं, तब भी इन्होंने हिंसा नहीं की। जब इनके परिवार को ऑक्सीजन नहीं मिल रही थी, तडप-तडप कर मर रहे थे, तब भी इन्होंने हिंसा नहीं की. अभी वे हिंसा करेंगे ऐसा कहना गलत है. कांग्रेस पार्टी ने पूछा : अग्निपथ के नाम पर कितने नौजवानों को शहीद करवाने का इरादा है ? 3

कांग्रेस नेता ने कहा यह कहते हुए बिहार का इतिहास याद दिलाया कि मोहनदास करम चाँद बिहार तो वहाँ से उन्हें गांधी बना कर वापस किया.  सिद्धार्थ ए तो उन्हें महता बुध्द बना कर वापस भेजा. बिहार हिंसा में विश्वास नहीं करता. आज ऐसे युवा हिंसा पर उतारू हैं जिन्हें अब अपना भविष्य पूरी तरह अधर में लताका हुआ दिखा रहा है क्योंकि जो युवा सेना में जाने की तैयारी करते हैं वे कभी भी किसी आन्दोलन में नहीं जाते हैं क्योकि उन्हें इस बात का भी रहता है कि किसी कर्ण से उनके खिलाफ कोई मामला दर्ज हो गया तो उन्हें नौकरी में दिक्कत आ सकती है.

कन्हैया कुमार ने कहा मैं देश की सरकार से अपील करना चाहता हूं- आप सच्चाई बताइए कि क्या आपने इस योजना के बारे में विपक्ष से चर्चा की, क्या आपने पार्लियामेंट्री कमेटी की मीटिंग में कोई चर्चा की ? क्या आपने नौजवानों से पूछा कि हम आपके लिए यह योजना लाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने ‘अग्निपथ’ स्कीम थोपकर सेना में भर्ती के इंतजार में बैठे युवाओं के साथ धोखा किया है। उन्होंने कहा कि आज बैठकें हो रही हैं जब्क्जी यह पहले ही होनी चाहिए. इससे स्पष्ट है कि यह सरकार इस मामले को लेकर गंभीर नहीं है.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ‘अग्निपथ’ योजना के नाम पर ‘अग्निवीर’ बनाने की बजाए सैन्य सम्मान को कम कर रही है। इसमें ना भविष्य सुनिश्चित है, ना सम्मान, ये कैसी योजना है ? पुरानी पेंशन योजना को बंद करना, सार्वजनिक संपत्ति का निजीकरण और मिशन अग्निपथ जैसी योजना सीधा-सीधा देश और देशवासियों के साथ धोखेबाजी है। भाजपा सरकार अपने छद्म हितों की पूर्ति के लिए देश को बर्बाद करने पर उतारू है।

 

 

 

 

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: