देश के वर्तमान हालात में गांधी जी का अहिंसा का संदेश प्रासंगिक : अशोक गहलोत

Font Size

दांडी मार्च की वर्षगांठ पर निकाली गई शांति यात्रा

जयपुर, 12 मार्च। मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने कहा कि यूक्रेन में अभी जो अशांति की स्थिति है, उसमें गांधी जी के अहिंसा के संदेश की प्रासंगिकता और बढ़ जाती है। किसी भी देश की अखण्डता के लिए शांति एवं अहिंसा का मार्ग सबसे महत्वपूर्ण है। आज हमारे देश में जो तनाव का माहौल है, उसमें हमें गांधी जी के बताए सत्य, अहिंसा एवं शांति के मार्ग को अपनाकर सद्भाव कायम करने की जरूरत है।
श्री गहलोत शनिवार को दांडी मार्च की 92वीं वर्षगांठ पर जे.एल.एन. मार्ग स्थित खादी बोर्ड परिसर में बने शांति एवं अहिंसा निदेशालय से गांधी सर्किल तक निकाली गई शांति यात्रा के बाद आयोजित सभा को संबोधित कर रहे थे। इससे पहले मुख्यमंत्री ने गांधी जी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए एवं शांति एवं अहिंसा निदेशालय के नए कार्यालय का उद्घाटन भी किया। मुख्यमंत्री के साथ राज्य मंत्रिमण्डल के सदस्य, विधायक, अन्य जनप्रतिनिधि, गांधीवादी विचारक, अधिकारी एवं आमजन शांति एवं अहिंसा निदेशालय से पैदल चलकर गांधी सर्किल पहुंचे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज ही के दिन 1930 में गांधी जी ने दांडी मार्च निकालकर नमक सत्याग्रह किया और अंग्रेजों को झुकना पड़ा। शांति यात्रा के माध्यम से आज गांधी जी के बताए मार्ग पर चलने तथा देश एवं पूरे विश्व में शांति का संदेश पहुंचाने का प्रयास किया गया है।
उन्होंने कहा कि 2 अक्टूबर को पूरा विश्व अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाता है, यह हम सभी के लिए गर्व की बात है। हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों से प्रेरणा लेकर हमें सदैव अन्याय के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए एवं अपने अधिकारों के लिए लड़ना चाहिए।
श्री गहलोत ने कहा कि आजादी के आंदोलन में गांधी जी के योगदान और उनकी शिक्षाओं को युवा पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार हर सम्भव प्रयास कर रही है ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियां देश के इस गौरवमय इतिहास को कभी न भूलें। उन्होंने कहा कि राजस्थान में देश के पहले शांति एवं अहिंसा निदेशालय की स्थापना गांधी जी की शिक्षाओं एवं उनके विचारों को नई पीढ़ी तक पहुंचाने के उद्देश्य से की गई है। अन्य राज्य भी गांधी जी के शांति एवं अहिंसा के संदेश को युवाओं तक पहुंचाने के लिए यह पहल करें।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने कहा कि गांधीवादी विचारधारा पर चलकर हम सभी देश की एकता व अखंडता को बनाए रख सकते हैं। विशिष्ट अतिथि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने भी धर्म, जाति एवं वर्ग पर आधारित भेद-भाव मिटाकर आगे बढ़ने का संदेश दिया।
इस अवसर पर खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष श्री बृज किशोर शर्मा, समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष डॉ. अर्चना शर्मा, बगरू विधायक श्रीमती गंगा देवी, शांति एवं अहिंसा प्रकोष्ठ के निदेशक श्री मनीष शर्मा सहित अन्य जन प्रतिनिधियों, एनसीसी, स्काउट-गाईड एवं गांधीवादी विचारकों नेे शांति यात्रा में शामिल होकर शांति व अहिंसा का संदेश दिया।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: