नवजात बच्चों की चोरी कर बेचने वाले गिरोह का भंडाफोड़, दिल्ली से चुराए दो बच्चों सहित 3 गिरफ्तार, अलवर जा रहे थे बेचने

Font Size

गुरुग्राम्। गुरुग्राम् पुलिस ने नवजात बच्चों को चोरी करके बेचने वाली 02 महिलाओं व 01 व्यक्ति सहित कुल 03 आरोपियों को चोरीशुदा 02 नवजात बच्चों सहित काबू किया है। बच्चे चोरी करने वाले गिरोह का थाना डी.एल.एफ. फेस-3, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने 01 टैक्सी चालक की सहायता से भण्डाफोङ किया।

✍️ आरोपियों के कब्जा से बरामद की गई दोनों बच्चियों को आरोपी दिल्ली से चोरी करके अलवर ले जा रहे थे । 03 लाख में बच्चियों को बेचने की हो रखी थी डील। टैक्सी चालक को संदेह होने पर आरोपियों को पहुँचाया पुलिस थाना।

आरोपी अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर विभिन्न स्थानों से करते थे नवजात बच्चों को चोरी। उसके बाद जहां अच्छे रुपए मिलते वही पर बच्चों को बचने की वारदातों को देते थे अन्जाम। आरोपियों को पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लेकर अन्य साथी आरोपियों व अन्य वारदातों के बारे में गहनता से की जाएगी पूछता। आरोपियों से बड़े खुलाशे होने की उम्मीद।

✍️ बच्चे चोरी करके बेचने वाले गिरोह के 03 आरोपियों को काबू करने में अहम भूमिका अदा करने वाले टैक्सी चालक को हौसला अफजाई के लिए पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम द्वारा 25 हजार रुपयों का नगद ईनाम व प्रशंसा पत्र देकर किया जाएगा सम्मानित।

▪️स्मरण रहे कि के.के. राव, पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम द्वारा गुरुग्राम के सभी पुलिस थानों, चौकियों, विशेष पुलिस टीमों सहित यातायात पुलिस टीमों को ola, uber व लोकल टैक्सी व ऑटो रिक्शा चालकों के साथ समय-समय पर मीटिंग करके उन्हें सवारी बैठाकर अपने आंख, नाक व कान खुले रखते हुए उनकी गतिविधियों पर अपना ध्यान केंद्रित रखने व किसी भी प्रकार से कुछ भी संदिग्ध होने का आभास होने पर पुलिस को तुरंत सूचना देने के लिए अवगत कराने के दिशा-निर्देश पर व आदेश जारी किए गए थे। जिनकी पालना गुरुग्राम पुलिस की अलग-अलग टीमों द्वारा की जाती रही है।

▪️ पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम द्वारा चलाई गई विशेष मुहिम के तहत ola, uber व अन्य लोकल टैक्सी चालकों को को सवारी बैठाने के बाद उन पर नजर रखने व कोई संदिग्ध होने की सूचना पुलिस को देने के परिणामस्वरूप आज दिनांक 08.01.2022 को पुलिस थाना डी.एल.एफ. फेस-3, गुरुग्राम में श्री उमेश लौहिया पुत्र श्री बिशम्बर निवासी नाथूपुर, गुरुग्राम ने एक लिखित शिकायत के माध्यम से बतलाया कि यह टैक्सी चालक है। यह दिनांक 08.01.2022 को दिल्ली से अपने गाँव नाथूपुर गुरुग्राम अपनी गाङी से आ रहा था। जब यह धौला कुँआ पहुंचा तो दो औरतों ने इससे गाडी रुकवाने का इशारा किया तो इसने महिला होने के कारण अपनी गाङी को रोक दिया। दोनों महिलाएं अपनी गोद में करीब 20 से 25 दिन के दो बच्चों को लिए हुए थी और उनके साथ एक व्यक्ति भी था। उन्होंने इससे इफ्को चौक, गुरुग्राम छोडने के लिए कहा तो इसने उन्हें गाङी में बैठा लिया । धौला कुँआ से थोडी दूर चलने के बाद उस व्यक्ति व उन महिलाओ ने इससे कहा कि क्या यह इन्हे अलवर राजस्थान छोड सकता है तो इसने कहा 3000/- रुपये लगेगे अलवर राजस्थान छोड देगा तो उन्होनें कहा कि 4000/- रुपये दे देगे इन्हे अलवर राजस्थान छोड दो और वापिस घोडे वाला मंदिर रघवीर नगर, दिल्ली छोडना होगा। इस बात पर यह सहमत हो गया। यह उन्हें लेकर खेडकी दौला टोल, गुरुग्राम से पहले इसने अपनी गाडी मे CNG भरवाई फिर यह उन्हे लेकर अलवर के लिए चल दिया। गाङी में बैठी महिलाओं से इससे कहा कि कोई CHEMIST की दुकान आए तो बच्चो के लिए दुध व दूध की बोतल लेनी है। इसने मानेसर फ्लाईवर पार करने के बाद मार्केट में गाडी रोकी तो गाडी में बैठे व्यक्ति ने मैडीकल स्टोर से दुध की बोतल व हलवाई की दुकान से दुध लिया। गाङी में बैठी एक महिला के पास फोन आया जो आपस मे बाते कर रहे थे की दो घंटे मे अलवर पहुँच जाएंगे रात को नही रुकेगे वापिस आ जाएंगे। थोडी देर बाद फिर महिला के पास फोन आया जो गाडी में बैठी महिला ने कहा की 03 लाख रुपये हमें चाहिए, तभी गाडी मे बैठी महिलाओं ने कहा इन्हें अलवर नही जाना। उनके कहने पर यह मानेसर फ्लाईवर अंडरपास से वापिस गुरुग्राम के लिए चला तो इसके संदेह हुआ कि ये इन बच्चों को चोरी करके लेकर आए है। तभी इसने उन लोगों से कहा कि इसको DLF PH -3 मोलसरी मैट्रो स्टेशन, गुरुग्राम से कुछ सामान लेना है। उसके बाद यह इन्हें दिल्ली छोड देगा। यह मोलसरी रोड मैट्रो स्टेशन, गुरुग्राम के पास थोडी देर गाडी रोकी और यह मार्केट चला गया। मार्केट से आकर इसे उन दोनों महिलाओं व उस व्यक्ति पर पूरा शक हो गया कि ये व्यक्ति बच्चों को बेचने की नियत से कही से चोरी करके लेकर आए है तो यह गाङी को दोनों महिलायों, 01 व्यक्ति व 02 नवजात बच्चो सहित लेकर थाना DLF PH-3, गुरुग्राम पहुँच गया जहां पर पुलिस ने इन्हें काबू कर लिया।

▪️निरीक्षक मनोज कुमार, प्रबन्धक थाना डी.एल.एफ. फेस-3, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने तत्परता से कार्यवाही करते हुए प्राप्त उपरोक्त शिकायत पर धारा 370(5),34 IPC के तहत अभियोग अंकित किया व अभियोग में निम्नलिखित 02 आरोपी महिलाओं व 01 आरोपी व्यक्ति को अभियोग में नियमानुसार गिरफ्तार कियाः-

1. सुरिन्द्र कौर पत्नी दलबीर सिहं निवासी 6C TRANSPORT NAGAR रणजीत नगर अलवर राजस्थान, उम्र 45 वर्ष।

2. नेहा पत्नी हेमन्त कुमार निवासी G -9/87 SEC-16 रोहीणी दिल्ली 85, उम्र 32 वर्ष।

3. हरजिन्द्र सिहँ पुत्र अमोलक सिहँ निवासी गाँव दोगंडी थाना गोविन्दगढ जिला अलवर, राजस्थान, उम्र 32 वर्ष।

▪️पुलिस टीम द्वारा उपरोक्त आरोपियों को अभियोग में गिरफ्तार करके पुलिस पूछताछ की तो आरोपियों से प्रारम्भिक पुलिस पूछताछ में ज्ञात हुआ कि ये अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर बच्चों को चोरी करते है और जहां इन्हें अच्छे रुपए मिलते है वही पर ये बच्चों को बेच देते है। इनके कब्जा से बरामद हुई दोनों बच्चियां इन्हें इनके साथियों ने दिल्ली से चोरी करके दी थी और इन्होंने इन बच्चियों को 03 लाख रुपयों में अलवर में बेचने के लिए डील तय की हुई थी। रुपए कम करने के कारण इनकी डील कैन्सिल हो गई तो इसी दौरान जिस गाङी से ये अलवर जा रहे थे उस गाङी के ड्राईवर को इन पर शक हो गया और उसने पुलिस को इसकी सूचना दे दी और पुलिस ने इन्हें काबू करके गिरफ्तार कर लिया।

▪️आरोपियों से पुलिस पूछताछ में यह भी ज्ञात हुआ कि ये वर्ष 2014 से बच्चे चोरी करके बेचने का काम कर रहे है। ये बच्चें चोरी करके बेचने का काम अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर करते है और जहां पर बच्चों के अच्छे रुपए मिल जाते है यह उन्हें बेच देते है।

▪️पुलिस टीम द्वारा उपरोक्त आरोपियों के कब्जा से 02 नवजात बच्चियां बरामद की गई है, जिनके परिजनों की जानकारी के बारे में पुलिस टीम द्वारा प्रत्येक माध्यम से हर सम्भव प्रयास किए जा रहे है।

▪️पुलिस टीम द्वारा आगामी कार्यवाही हेतु आरोपियों को माननीय अदालत के सम्मुख पेश करके पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लिया जाएगा। पुलिस हिरासत रिमाण्ड के दौरान आरोपियों से अन्य साथी आरोपियों व अन्य वारदातों के बारे में गहनता से पूछताछ की जाएगी। पुलिस को पूरा यकीन है कि यह गिरोह एक बड़े पैमाने पर काम करता है और काबू किए गए उपरोक्त आरोपियों से बड़े खुलाशे होने की पूर्ण उम्मीद है। पुलिस द्वारा आरोपियों से गहनता से पूछताछ की जा रही है। पुलिस पूछताछ के दौरान जो भी तथ्य सामने आएंगे उनके अनुसार नियानुसार आगामी कार्यवाही की जाएगी। अभियोग अनुसंधानाधीन है।

▪️बच्चे चोरी करके बेचने की वारदातों को अंजाम देने में सक्रिय एक बड़े गिरोह के उपरोक्त 03 आरोपियों को काबू करने में अहम भूमिका निभाने वाले टैक्सी चालक श्री उमेश लौहिया निवासी नाथूपुर, गुरुग्राम को श्री के.के. राव IPS, पुलिस, आयुक्त गुरुग्राम ने उनके द्वारा उपरोक्त आरोपियों को सफलता से काबू करने में अदा की गई भूमिका, सहयोग व समझदारी की सराहना करते हुए उनका हार्दिक धन्यवाद किया है और कहा है कि गुरुग्राम पुलिस को इनकी समझदारी और उनके सहयोग पर गर्व है। पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम ने उमेश लौहिया को उनके द्वारा किए गए उपरोक्त सराहनीय कार्य के लिए उनके हौसला अफजाई हेतु 25 हजार रुपयों का नगद ईनाम व प्रथम श्रेणी प्रसंशा-पत्र देकर उन्हें सम्मनित करने की घोषणा भी की है।

You cannot copy content of this page

%d bloggers like this: