सूचना प्रसारण मंत्री की घोषणा : हेमा मालिनी और प्रसून जोशी को मिला इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवॉर्ड 2021

76 / 100
Font Size

इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर

नई दिल्ली :   केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने घोषणा की है कि 2021 का इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवॉर्ड सुश्री हेमा मालिनी और श्री प्रसून जोशी को दिया जाएगा।

इन पुरस्कारों की घोषणा करते हुए श्री ठाकुर ने कहा, “अभिनेत्री और उत्तर प्रदेश के मथुरा से सांसद सुश्री हेमा मालिनी और गीतकार व सीबीएफसी के अध्यक्ष श्री प्रसून जोशी का नाम 2021 के इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर अवॉर्ड के लिए घोषित करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है। भारतीय सिनेमा में इनका योगदान कई दशकों पुराना है और इनके काम ने विभिन्न पीढ़ी के  दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया है। ये दोनों हस्तियां भारतीय सिनेमा के ऐसे आइकन हैं जिनको पूरी दुनिया में सराहा और पसंद किया जाता है। उन्हें ये सम्मान 52वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी), गोवा में प्रदान किया जाएगा।” इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर

पुरस्कार के इन सम्मानित विजेताओं के बारे में:

हेमा मालिनी, अभिनेत्री, संसद सदस्य, मथुरा, यूपी इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर

हेमा मालिनी एक भारतीय अभिनेत्री, लेखिका, निर्देशक, निर्माता, नर्तकी और राजनीतिज्ञ हैं, जिनका जन्म 16 अक्टूबर, 1948 को तमिलनाडु के अम्मानकुडी में हुआ था। उन्होंने तमिल फिल्म इधु साथियम के साथ 1963 में अपने अभिनय की शुरुआत की और बाद में, सपनों का सौदागर की मुख्य अभिनेत्री के रूप में 1968 में हिंदी सिनेमा में प्रवेश किया। तब से लेकर आज तक, उन्होंने शोले, सीता और गीता, सत्ते-पे-सत्ता और बागबान जैसी 150 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है।

इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर

‘ड्रीम गर्ल’ के नाम से भी जानी जाने वाली, सुश्री हेमा मालिनी ने अभिनय कौशल के लिए कई पुरस्कार जीते हैं। 2000 में भारत सरकार द्वारा उन्हें चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। वर्ष 2012 में, सर पदमपत सिंघानिया विश्वविद्यालय ने भारतीय सिनेमा में योगदान के लिए सुश्री हेमा मालिनी को डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया था। उन्होंने राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम की अध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया है।

एक प्रशिक्षित भरतनाट्यम नृत्यांगना, सुश्री हेमा मालिनी को भारतीय संस्कृति और नृत्य में उनके योगदान एवं सेवा के लिए 2006 में सोपोरी संगीत और प्रदर्शन कला अकादमी (सामापा) वितस्ता पुरस्कार प्रदान किया गया था। 2003 से 2009 तक, उन्होंने भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति द्वारा नामित किए जाने के पश्चात, राज्यसभा में संसद सदस्य के रूप में अपनी भूमिका का निर्वहन किया। 2014 के लोकसभा के चुनाव में, सुश्री हेमा मालिनी, मथुरा संसदीय क्षेत्र से लोकसभा सदस्य के रूप में निर्वाचित हुई थीं। तब से, वे मथुरा क्षेत्र से लोकसभा सदस्य के रूप में अपनी सेवाएँ दे रही हैं। इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर 

प्रसून जोशी, गीतकार और अध्यक्ष, सीबीएफसी

प्रसून जोशी एक कवि, लेखक, गीतकार, पटकथा लेखक और संचार विशेषज्ञ एवं विज्ञापन गुरु हैं। उन्होंने सिर्फ 17 साल की छोटी उम्र में ही गद्य और कविता की अपनी पहली पुस्तक सफलतापूर्वक प्रकाशित कर दी थी। वर्तमान में वह मैक्केन वर्ल्ड ग्रुप इंडिया के चेयरमैन (एशिया) एवं सीईओ हैं।

श्री जोशी ने वर्ष 2001 में राजकुमार संतोषी की फि‍ल्‍म ‘लज्जा’ के गीतकार के रूप में भारतीय सिनेमा में प्रवेश किया था, और तभी से वह कई अत्‍यंत सफल बॉलीवुड फिल्मों का हिस्सा रहे हैं। और आज वह उत्‍कृष्‍ट कविता एवं साहित्य की महान परंपरा को जन चेतना में जीवंत रखने के लिए देश भर में व्यापक रूप से जाने जाते हैं।

तारे जमीन पर, रंग दे बसंती, भाग मिल्खा भाग, नीरजा एवं मणिकर्णिका, दिल्ली 6 और कई अन्य फिल्मों में अपने बेहतरीन लेखन के जरिए उन्होंने इस विश्वास को फिर से जगाया है कि लोकप्रिय विधा या शैली में उत्‍कृष्‍ट कृति के माध्यम से समाज को निश्चित तौर पर रचनात्मक दिशा दी जा सकती है।

श्री जोशी ने न केवल भारत में, बल्कि विश्व स्तर पर भी अपनी विशिष्‍ट पहचान सफलतापूर्वक बना ली है। तारे जमीन पर (2007) और चटगांव (2013) में अपनी उत्‍कृष्‍ट कृति के लिए उन्हें दो बार ‘सर्वश्रेष्ठ गीत के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार’ से नवाजा गया है। वर्ष 2015 में भारत सरकार ने उन्हें कला, साहित्य और विज्ञापन के क्षेत्र में उनके बहुमूल्‍य योगदान के लिए पद्मश्री से सम्मानित किया।

उन्‍हें कई बार फिल्मफेयर, आईआईएफए, स्क्रीन जैसे लोकप्रिय फिल्म पुरस्कार प्रदान किए गए हैं। वर्ष 2014 में उन्हें कान टाइटेनियम ज्‍यूरी के अध्यक्ष के रूप में आमंत्रित किया गया था। वह अंतर्राष्ट्रीय कान लायन टाइटेनियम पुरस्कारों की अध्यक्षता करने वाले प्रथम एशियाई हस्‍ती थे। उन्हें विश्व आर्थिक फोरम द्वारा ‘यंग ग्लोबल लीडर’ के रूप में भी नामित किया गया था।

श्री जोशी राष्ट्रमंडल खेल 2010 के उद्घाटन और समापन समारोहों के लिए चयनित तीन सदस्यीय कोर रचनात्मक सलाहकार समिति के सदस्य थे। वह 52वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में ‘75 क्रिएटिव माइंड्स ऑफ टुमॉरो’ के लिए ग्रैंड ज्‍यूरी के सदस्य भी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page